साध्वी प्रज्ञा ने कहा- नाथूराम गोडसे देशभक्त था, है और रहेगा

0

चुनावी मौसम में प्रचार के बीच, नेता कमल हसन द्वारा नाथूराम गोडसे को आज़ाद भारत का पहला हिन्दू आतंकवादी क़रार दिए जाने के बाद, भोपाल से भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि ‘नाथूराम गोडसे एक देशभक्त था, है और रहेगा। नाथूराम गोडसे को आंतकवादी बोलने वाले लोगों को उन्हें आतंकवादी बोलने की बजाय अपने भीतर झांकना चाहिए। ऐसे लोगों को इन चुनावों में क़रारा जवाब मिलेगा’।

सातवें चरण की वोटिंग से पहले बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा का नाथूराम को आतंकवादी कहने वालों पर बयान सामने आया है, जिस पर विवाद हो सकता है और उनका ये बयान भाजपा की मुश्किलें बढ़ा सकता है क्योंकि इससे पहले भी साध्वी प्रज्ञा ने कहा था कि पूर्व एटीस प्रमुख हेमंत हेगड़े की मौत उनके श्राप की वजह से हुई थी। इस बयान से भाजपा ने किनारा करते हुए इसे उनका निजी बयान बताया था।

बता दें कि तमिलनाडु के अरवाकुरिची विधानसभा क्षेत्र में चुनाव प्रचार के दौरान कमल हसन ने कहा था कि स्वतंत्र भारत का पहले आतंकी हिंदू था, और उसका नाम था नाथूराम गोडसे।’ कमल हसन के इस बयान पर बीजेपी के नेता गिरिराज सिंह ने कड़ा विरोध जताते हुए उन्हें सांप कह दिया था। उसके एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी कमल के समर्थन मे उतरे और कहा कि जिस शख्स ने महात्मा गांधी की, हम उसे उसे ‘महात्मा या राक्षक, आतंकवादी या हत्यारा’ कहेंगे। कपूर कमीशन की रिपोर्ट में साज़िशकर्ता के तौर पर जिसकी भूमिका साबित हई, आप उसे महापुरूष या नीच कहेंगे? हम तो उसे आतंकवादी कहेंगे।