दिग्गजों ने ट्विटर पर दी नेहरा जी को विदाई

0

भारत की विश्व विजेता टीम के सदस्य रहे आशीष नेहरा ने अपने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर का अंत न्यूजीलैंड के खिलाफ जीत के साथ बुधवार को किया है। नेहरा के घरेलू मैदान पर भारत ने न्यूजीलैंड को टी-20 मैच में 53 रनों से मात देते हुए नेहरा को विजयी विदाई दी। 1999 में अजहरूद्दीन की कप्तानी में श्रीलंका के खिलाफ पदार्पण करने वाले नेहरा का करियर 18 साल लंबा रहा है। हालांकि अपने आखिरी मैच में नेहरा विकेट नहीं ले पाए। उन्होंने आखिरी मैच में चार ओवरों में 27 रन दिए। हमेशा विवादों से दूर रहने वाले नेहरा के आखिरी मैच में स्टेडियम से लेकर सोशल मीडिया तक नेहरामय हो गया। कई पूर्व खिलाड़ियों ने आशीष की विदाई पर ट्वीट कर बधाई संदेश दिया। करीब तीन पीढ़ियों के साथ ड्रेसिंग रूम साझा कर चुके आशीष के सभी के साथ अच्छे संबंध रहे जिसकी झलक बुधवार को ट्विटर पर साफ तौर पर देखने को मिली। जहां एक तरफ उनके प्रशंसक उनकी गेंदबाजी को लेकर ट्वीट कर रहे थे तो वहीं आशीष नेहरा हंसी को भी कई यूजर्स ने याद किया। आशीष नेहरा के लिए अमिताभ बच्चन, सचिन तेंदुलकर, विराट कोहली, विरेंद्र सहवाग जैसे कई दिग्गजों ने ट्वीट किए।

आखिरी मैच में नेहरा का परिवार और उनके साथ खेलने वाले कई खिलाड़ी इस मौके पर मौजूद थे। मैच से पहले भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी और मौजूदा कप्तान विराट कोहली की आगुआई में टीम ने मैच से पहले उन्हें ट्रॉफी देकर सम्मानित किया।38 साल के नेहरा इसके बाद किसी भी प्रारूप में भारतीय जर्सी में नजर नहीं आएंगे। आखिरी मैच में स्टेडियम के दिल्ली गेट गेंदबाजी छोर का नाम नेहरा के नाम पर रखा गया। नेहरा ने इसी छोर से अपना पहला ओवर डाला।

नेहरा का करियर चोटों से काफी प्रभावित रहा है। उन्होंने अपने करियर में कुल 12 सर्जरी कराई हैं। नेहरा ने कई बार टीम से बाहर जाने के बाद वापसी की है। 2016 में उनके द्वारा की गई वापसी के बाद से उन्होंने खेल के छोटे प्रारुप में टीम को काफी कुछ दिया। चोटों से वापसी करते हुए ही उन्होंने 2011 विश्व कप टीम में जगह बनाई थी और टीम को विजेता बनाने में रोल निभाया था। वह पिछले साल टी-20 विश्व कप के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली भारतीय टीम का भी हिस्सा थे।

नेहरा ने 1999 में दिसंबर में श्रीलंका के खिलाफ कोलंबो में मोहम्मद अजहरुद्दीन की कप्तानी में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया था। हालांकि वह टेस्ट क्रिकेट ज्यादा नहीं खेल पाए। उनके खाते में सिर्फ 17 टेस्ट मैच हैं जिसमें उन्होंने 44 विकेट लिए हैं। उन्होंने अपना आखिरी टेस्ट मैच रावलपिंडी में पाकिस्तान के खिलाफ 2004 में खेला था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two + twenty =