आर्टिफिशल इंटेलिजेन्स की मदद से मानसिक रोगों का इलाज होगा संभव

0

भारत और कनाडा के वैज्ञानिकों ने मिलकर, एआई तकनीक की मदद से एक ऐसा ‘मशीन लर्निंग टूल’ विकशित किया है जिसकी मदद से ‘सिज़ोफ्रेनिया’ का इलाज संभव हो पायेगा. वैसे तो ‘मानसिक रोगों’ के ऊपर सालों से कई रीसर्च हो रहें है और कई तरीकों से इलाजों को ढूंढा जा रहा है. मालूम हो कि सिजोफ्रेनिया का इलाज कठिन इस वजह से भी हो जाता है क्योंकि इसकी वजह से और भी कई मानसिक रोग हो जातें है.

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ और न्यूरोसाइंस ने एफएमआरआई (फंक्शनल मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग) का इस्तेमाल किया जिसमें की दिमाग की विधुत तरंगों को मापा जाता है. इसकी मदद से 93 स्वस्थ और 81 सिजोफ्रेनिया के रोगियों की जांच की गई है.

मालूम हो कि ‘आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस’ आज के ज़माने की नयी तकनीक है, जिसकी बदौलत शिक्षा, स्वास्थ्य और विज्ञान के क्षेत्र में काफी शोध किये जा रहें हैं.