बंगाल के राज्यपाल का दावा- महाभारत काल में अर्जुन की तीर में परमाणु शक्ति थी

0
जगदीप धनखड़
जगदीप धनखड़

नेता लोग कब क्या बोल जाए इसका किसी को अंदाजा नहीं रहता है। कभी कभी नेता लोगों का बयान इतना बेवकूफाना रहता है कि उसपे हंसी आती है। पिछले कुछ वर्षों में विज्ञानं की खोजों को पौराणिक कथाओं से जोड़ने का मामला आता है। कुछ ऐसा ही बयान इस बार आया है पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ से। आइये इस बारें में विस्तार से जानते हैं।

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने दावा किया है कि महाभारत के अर्जुन के तीरों में परमाणु शक्ति थी। वह शिक्षाविदों की तीखी आलोचना कर रहे हैं। वह इस तरह का बयान देकर उन राजनेताओं की लंबी सूची में शामिल हो गए, जिन्होंने हाल के वर्षों में विज्ञान के साथ पौराणिक कथाओं को जोड़ने वाले विचित्र बयान दिए हैं।

मंगलवार को 45वें पूर्वी भारत विज्ञान मेले और 19 वें विज्ञान और इंजीनियरिंग फेयर में बोलते हुए, धनखड़ ने यह भी दावा किया कि रामायण काल ​​में उड़ने वाली वस्तुएं मौजूद थीं।

उन्होंने कहा, “ऐसा कहा जाता है कि विमान का आविष्कार 1910 या 1911 में किया गया था, लेकिन अगर हम अपने पुराने शास्त्रों को देखते हैं तो हम रामायण में देखेंगे, हमारे पास ‘उड़न खटोला’ (विमान) था।”

धनकड़ यहीं नहीं रुके, उन्होंने आगे कहा, “संजय ने महाभारत का पूरा युद्ध (धृतराष्ट्र को) टीवी से नहीं सुनाया। महाभारत में अर्जुन के बाणों में परमाणु शक्ति थी। दुनिया भारत को नजरअंदाज करने का जोखिम नहीं उठा सकती है।”

धनखड़, जो पिछले साल जुलाई में पदभार संभालने के बाद से ही ममता बनर्जी सरकार के साथ टकराव के लिए खबरों में हैं। आपको बता दें कि इससे पहले त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब और यूपी के उप-मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा जैसे राजनेता भी पौराणिक कथाओं की अजीब व्याख्या दे चुके हैं।

यह भी पढ़ें: मुंबई के एक टीचर को राहुल गांधी और महिलाओं पर टिप्पणी करने के कारण जबरन छुट्टी पर भेजा गया

हाल ही में, पुडुचेरी के उपराज्यपाल किरण बेदी को एक सैद्धांतिक वीडियो साझा करने के लिए ऑनलाइन ट्रोल किया गया था जिसमें दावा किया गया था, “नासा ने सूर्य की ध्वनि रिकॉर्ड की – सूर्य मंत्र ओम”।

वैज्ञानिक संदीप चक्रवर्ती ने कहा कि इस तरह की टिप्पणियों से वैश्विक मंच पर भारत में वैज्ञानिक प्रगति को नुकसान पहुंचा है।