सौदेबाज मां, मासूम बेटी का इतने पैसों में किया सौदा

0
Imaginary photo
Imaginary photo

मानवता और एक मां की ममता को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है जहां एक मां की ममता और प्यार को तार-तार करते हुए एक महिला ने चंद पैसों के लिए अपनी ही बेटी को मानव तस्करों के हाथों बेच दिया। लड़की बहादुर निकली और तस्कारों के चंगुल से भागने में सफल रही।

महिलाओं के हित में कार्य करने वाली दिल्ली महिला आयोग ने एक 15 वर्षीय बच्ची को तस्कारों के जाल से छुड़ाया है। बता दें कि बच्ची की मां ने ने पिछले सप्ताह कथित रूप से तस्करों के हाथों बेच दिया था. दिल्ली महिला आयोग ने किशोरी को तस्‍करों के हाथों से बचाने की जानकारी दी। आयोग के अनुसार मुक्त कराई गई किशोरी ने कहा कि उसकी मां ने उसके एक साल के भाई को पिछले महीने तस्करों को बेच दिया था।

 इसके अतिरिक्त आयोग ने बताया कि युवती की मां ने 15 सितंबर को उसे बहन के घर बदरपुर चलने की बात कही थी, लेकिन बदरपुर जाने के बजाय आरोपी मां उसे निजामुद्दीन में एक होटल में लेकर पहुंच गई थी। महिला आयोग की मानें तो होटल में किशोरी का सौदा करने के बाद मां ने बेटी से कहा कि उसे कहीं और जाना होगा। आरोपी मां ने बाद में उसे बताया कि शाहिद नाम का शख्‍स उसे घर ले आएगा, लेकिन शाहिद कथित तौर पर उसे बवाना गांव में ईश्वर कॉलोनी स्थित अपने घर ले गया। शाहिद के घर पर पहले से मौजूद अन्य लड़कियों ने उसे शादी का जोड़ा पहनकर तैयार होने को कहा। उन्होंने किशोरी को बताया कि उसकी मां ने ही उसे एक लाख रुपए में बेच दिया है।

हालांकि, एक दिन के अंदर ही किशोरी किसी तरह शाहिद के घर से भागने में सफल रही और बवाना में अपने घर पहुंचकर पड़ोसियों से मदद मांगी। इसके बाद पड़ोसियों ने दिल्ली महिला आयोग को फोन किया। लड़की अपनी मां, सौतेले पिता और चार भाई-बहनों के साथ रहती थी। बताया जा रहा है कि पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है, लेकिन अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। पीड़िता को आश्रय गृह भेज दिया गया है।

ये भी पढ़ें : शहीद की बेटी को भी नहीं बख्शा हैवान ने, बनाया हवस शिकार