सावधान: एटीएम से भी निकल रहे हैं ऐसे नोट जिन्हें आम जन तो क्या बैंक भी नही लेगा

0

हम जब भी बैंक या एटीएम से पैसे निकालते हैं तो शायद ही कभी उन्हें गिनते या चेक करते हैं. हमें भरोसा होता है कि बैंक से तो सही पैसे ही मिलेंगे, ज्यादा हुआ तो एक बार गिन लेते हैं. लेकिन अगली बार ATM सुविधा लेने के बाद सावधान हो जाइयेगा, क्यूंकि अब बैंक भी विश्वसनीय नही रहे. उत्तर प्रदेश के बरेली शहर में नकली नोटों का एक चौंकाने वाला वाकया सामने आया है.

रविवार को बरेली के सुभाषनगर इलाके में स्थित एक ATM से नकली नोट निकले. इन नकली नोटों में कुछ के ऊपर ‘भारतीय मनोरंजन बैंक’ लिखा था तो कुछ नोटों पर चूरन छाप लिखा था. किसी के ऊपर चिल्ड्रन बैंक ऑफ इंडिया. हैरान करने वाली बात ये है कि ये नकली नोट बस एक आदमी को ही नही मिले, बल्कि तीन-चार लोगों ने इसी तरह के नकली नोट मिलने की शिकायत की है. सारे नकली नोट 500 रुपये जैसे थे. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस वीडियो में एक आदमी ने ATM से 1,000 रुपये निकाले. जो दो 500 के नोट ATM से निकले, उनमें से एक नकली था. इसके ऊपर ‘चिल्ड्रन बैंक ऑफ इंडिया’ लिखा था. वैसे इस तरह का वाकया पहले भी हो चुका है. पहले भी कुछ एटीएम से ऐसे नकली नोट निकल चुके हैं.

ये नकली नोट रिज़र्व बैंक के निकाले असली 500 रुपये के नोटों से काफी मिलते-जुलते हैं. जिस ATM में ये वाकया हुआ है, वो यूनियन बैंक ऑफ इंडिया का है. इन नकली नोटों में भारतीय रिज़र्व बैंक की जगह कुछ और लिखा है. सीरियल नंबर लगातार कई बार 0 है. जहां ‘मैं धारक को 500 रुपए अदा करने का वचन देता हूं’ टाइप की लाइन लिखी होती है, वहां रुपए की जगह कूपन लिखा है. साइड में चूरन लेबल लिखा है. लेकिन ध्यान न दें, तो असली नोट जैसा लगता है.

इस घटना के बाद आम आदमी के मन में कई सवाल उठ रहे हैं जैसे कि ATM में पैसे कौन भरता है? बैंक. बैंक ये काम कैश मैनेजमेंट फर्म्स से करवाती हैं. इन फर्म्स के कर्मचारी ATM मशीनों में कैश रीफिल करते हैं. तो क्या किसी कर्मचारी ने जान-बूझकर ये नकली नोट वहां रखे होंगे? या फिर ये नकली नोट बैंक के सिस्टम में घुस गए? फिलहाल इन सवालों का कोई जवाब नहीं है. मालूम बस ये है कि हम बड़े जतन से असली और नकली नोट में अंतर करना सीखते हैं. ताकि बाहर कहीं ठगे न जाएं. इतनी सावधानी बरतते हैं. ऐसे में अगर एटीएम से चूरन छाप नोट निकलें, तो आदमी क्या करेगा?

जिस ATM पर ये हुआ, वहां कोई गार्ड नहीं होता. रविवार सुबह एक अशोक कुमार पाठक नाम के एक बुजुर्ग ने ATM से 4,500 रुपये निकाले. इन नोटों में से कुछ ऐसे थे, जिनके ऊपर ‘चिल्ड्रन बैंक ऑफ इंडिया’ लिखा था. जब उन्होंने शिकायत की, तो मालूम चला कि उनसे पहले भी कुछ लोगों के साथ ऐसा हो चुका है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × four =