सत्ता से बाहर हैं लेकिन जनता से मिल रहे हैं अखिलेश यादव

0

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बिना नाम लिए बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह पर हमला बोला। उनके बेटे जय शाह को लेकर उठ रहे सवालों पर अखिलेश ने कहा कि पिता को अपने बेटे की गलतियों को छिपाना नहीं चाहिए। जो पिता अपने बेटे की कमी छिपाता है, उसका बेटा कभी आगे नहीं बढ़ता। मेरे पिता ने जो भी कमी हमें बताई है, हमने उसे दूर करने की कोशिश की है।

वह बुधवार को जय प्रकाश नारायण की जयंती पर जेपी इंटरनैशनल सेंटर में जेपी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के बाद बोल रहे थे। अखिलेश यही नहीं रुके। वह बोले, जो पिता बेटे की गलत बातों पर टोकता है, कान खींचता है, उसका ही बेटा तरक्की करता है। पूर्व मुख्यमंत्री ने बीजेपी को भी सीधे निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि बीजेपी काम और विकास के खिलाफ है। करप्शन के बारे में वह चर्चा ही नहीं करना चाहती, क्योंकि उसे कॉरपोरेट घरानों का संरक्षण प्राप्त है

रिवर फ्रंट की दुर्दशा देख जताई चिंता
अखिलेश यादव ने इसके बाद सपा सरकार के प्रॉजेक्ट जेपी इंटरनैशनल सेंटर, गोमती रिवर फ्रंट, 1090 चौराहा, जनेश्वर मिश्र पार्क के साथ शीरोज हैंग आउट कैफे का भी भ्रमण किया। रिवर फ्रंट देखने के बाद अखिलेश यादव ने कहा कि यह एक नायाब सौंदर्य स्थल था, अब देखभाल के अभाव में यह बर्बाद होता जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुझे इसकी बर्बादी का दुख है।

एसिड अटैक पीड़ितों ने ली सेल्फी

पूर्व सीएम इसके बाद शीरोज हैंग आउट के दफ्तर भी गए। एसिड अटैक पीड़ितों द्वारा चलाए जा रहे इस कैफे को अखिलेश यादव ने ही खुलवाया था। उन्होंने यहां सबके साथ कॉफी भी पी। इसके बाद इसे चलाने वाली रेशमा, जीती, अंशु, प्रीति समेत सभी एसिड अटैक पीड़ितों ने सेल्फी भी ली। इसके बाद वह गोमती नदी के किनारे बने क्रिकेट स्टेडियम भी गए।

उन्हें यहां बताया गया कि स्टेडियम में लगे परिजात, टबोबिया, अमलतास, मौलश्री जैसे तमाम वृक्ष नष्ट किए जा रहे हैं, जिन्हें उन्होंने अपने कार्यकाल में लगवाया था। इसके बाद वह 1090 चौराहे पर भी रुके। यहां भी उन्होंने लोगों से बात की। अखिलेश यादव ने बताया कि बीजेपी सरकार में अपराध काफी बढ़े हैं। उन्होंने 1090 विमन पावर लाइन की स्थापना भी की थी, इसकी विदेश तक सराहना हुई थी। अब इस सेवा की भी उपेक्षा हो रही है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eighteen + one =