Agra News: एडीए के उपाध्यक्ष रहे डॉ. राजेंद्र पैंसिया पर भ्रष्टाचार के आरोप, डेढ़ साल में कमाए 100 करोड़

0
126

Agra News: एडीए के उपाध्यक्ष रहे डॉ. राजेंद्र पैंसिया पर भ्रष्टाचार के आरोप, डेढ़ साल में कमाए 100 करोड़

आगरा:आगरा विकास प्राधिकरण (Agra Development Authority) के उपाध्यक्ष डॉ. राजेंद्र पैंसिया पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं। डॉ. पैंसिया पर आरोप है कि उन्होंने प्राधिकरण की संपत्ति की बिक्री में खेल किया है। वित्तीय एवं प्रशासनिक अनियमितताएं कर चहेतों को लाभ पहुंचाया है। इस पूरे खेल में उन्होंने करीब सौ करोड़ की कमाई की है। आरोप लगाने वाले खंदारी निवासी हीरालाल ने इसकी शिकायत लोकायुक्त (Lokayukta) में की थी। शिकायतकर्ता ने लोकायुक्त को साक्ष्य भी मुहैया कराए हैं। शिकायतों के आधार पर लोकायुक्त अनिल कुमार सिंह ने मंडलायुक्त और एडीजी को जांच के आदेश दिए हैं।

Copy

आगरा विकास प्राधिकरण में कुछ माह पूर्व संपत्ति बिक्री को लेकर विवाद खड़े हुए थे। प्राधिकरण के उपाध्यक्ष रहे डा. राजेंद्र पैंसिया ने नियमों को ताक पर रख ऑनलाइन बिडिंग की थी, जिसमें करोड़ों का खेल किया गया। इसके अलावा फतेहाबाद रोड पर आगरा सेल्फी प्वाइंट की कीमती जमीन को सस्ती दरों में लीज पर देने के मामले में भी सवालों में घिर गए थे। टेंडरों वितरण के नाम पर जमकर कमाई की गईं। अपने चेहतों को मुख्य काम सौंपकर वित्तीय नियमितताएं की गईं। शिकायतकर्ता हीरालाल ने डॉ. राजेंद्र पैंसिया की शिकायत लोकायुक्त से की थी।

शिकायतकर्ता की पहले होगी जांच
हीरालाल ने आरोप लगाए हैं कि डेढ़ साल में प्राधिकरण से 100 करोड़ की कमाई की है। मंडलायुक्त अमित कुमार गुप्ता ने बताया कि लोकायुक्त से जांच के आदेश मिले हैं, लेकिन हीरालाल की जांच पहले करने के आदेश भी मिले हैं। उन्होंने बताया कि पहले शिकायतकर्ता की जांच की जाएगी। डॉ. राजेंद्र पैंसिया वर्तमान में विशेष सचिव नगर विकास हैं।

प्राधिकरण में मशहूर है हीरालाल
डॉ. पैंसिया के उपाध्यक्ष बनने से पूर्व खंदारी निवासी हीरालाल की आगरा विकास प्राधिकरण में तूती बोलती थी। संपत्ति विभाग के अधिकारी और कर्मचारियों को लालच में लेकर मनमाफिक काम करवाता था। डॉ. पैंसिया ने हीरालाल को दलाल घोषित कर उसकी प्राधिकरण में एंट्री पर रोक लगा दी थी। पैंसिया की शिकायत पर हीरालाल अभी भी जेल में बंद है।

हीरालाल के आपराधिक रिकॉर्ड भी देखे जाएंगे
मंडलायुक्त अमित कुमार गुप्ता ने बताया कि लोकायुक्त के आदेश पर डॉ. राजेंद्र पैंसिया की जांच के लिए एडीजी राजीव कृष्ण और उन्हें जांच दी गई है, लेकिन बाद में उन्हें हीरालाल के बारे में पड़ताल करने वाला पत्र भी मिला। उन्होंने बताया कि पहले हीरालाल की जांच की जाएगी। उनका आपराधिक रिकॉर्ड देखा जाएगा। इसके अलावा प्राधिकरण से उसका क्या संबंध रहा है। इसकी भी जांच की जाएगी। इसके बाद जांच आगे बढ़ेगी।

यांत्रिक के अधिकारी देख रहे सिविल कार्य
आगरा विकास प्राधिकरण में यांत्रिक विभाग के अधिकारी पूरन सिंह को सिविल का दायित्व सौंप दिया है। वहीं उनके साथ सहायक अभियंता सतीश कुमार भी यांत्रित का काम छोड़ सिविल में काम देख रहे हैं, जबकि पूरन सिंह प्रवर्तन के प्रभारी बने हुए हैं।
रिपोर्ट – सुनील साकेत
अब NBT ऐप पर खबरें पढ़िए, डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

उत्तर प्रदेश की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Uttar Pradesh News