Afghanistan News : दिल्ली में पासपोर्ट रिन्यू कराने के लिए अफगान एंबेसी के बाहर लग रही लंबी लाइन, बढ़ी टेंशन

147

Afghanistan News : दिल्ली में पासपोर्ट रिन्यू कराने के लिए अफगान एंबेसी के बाहर लग रही लंबी लाइन, बढ़ी टेंशन

हाइलाइट्स

  • लोगों की बढ़ती भीड़ के मद्देनजर दूतावास के आस-पास सुरक्षा हुई कड़ी
  • लोगों को पता नहीं है कि वहां की नई सरकार क्या नियम बनाएगी
  • अफगानिस्तान के हालात को लेकर महिलाएं दिख रही अधिक चिंतित

नई दिल्ली
अफगानिस्तान में तेजी से बदले हालात की वजह से दिल्ली में रह रहे अफगानी शरणार्थियों के सामने अचानक से नई परेशानियां खड़ी हो गई हैं। एक तरफ जहां कई लोग अफगानिस्तान के अलग-अलग शहरों में फंसे अपने परिजनों को यहां बुलाने की कवायद में जुट गए हैं, तो वहीं कई ऐसे लोग भी हैं, जिनकी वीजा की अवधि खत्म हो चुकी है। ऐसे लोग अपनी वीजा की अवधि बढ़वाने के लिए परेशान हैं।

कई लोगों के पासपोर्ट की वेलिडिटी खत्म
कई लोगों के पासपोर्ट की वेलिडिटी भी खत्म हो गई है और उनके सामने अब पासपोर्ट को रिन्यू कराने की समस्या खड़ी हो गई है। इसके अलावा कुछ लोगों को अपने जरूरी दस्तावेजों के रिन्यूअल की चिंता भी सता रही है। ऐसे में अब बड़ी संख्या में लोग चाणक्यपुरी स्थित अफगानिस्तान के दूतावास का रुख करने लगे हैं। इसे देखते हुए दूतावास के आस-पास सुरक्षा भी कड़ी कर दी गई है।

Kabul Afghanistan News: काबुल से दिल्ली पहुंचते ही फूट पड़ी महिला, कहा- तालिबान हमारे लोगों की हत्या कर देंगे

एंबेसी को नहीं पता नई सरकार क्या करेगी
भोगल में रहने वाली शायमा ने बताया कि मैं अपने रिश्तेदार के साथ यहां आई हूं। उनके कुछ दस्तावेज रिन्यू कराने हैं, लेकिन अभी उनको इंतजार करने के लिए कहा जा रहा है, क्योंकि एंबेसी के लोगों को भी पता नहीं है कि वहां की नई सरकार आगे पुराने रूल्स को जारी रखेगी कि नहीं। मेरी मां, भाई और बहनें अब भी वहीं हेरात में फंसे हुए हैं और उनकी हालत बहुत खराब है। हम लोग कोशिश कर रहे हैं कि वे लोग भी यहां आ जाएं।

Future of Afghanistan: अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा, लेकिन आसान नहीं सत्ता की राह, विशेषज्ञ से समझिए?
अब तो पिताजी की नौकरी नहीं रहेगी
लाजपत नगर के रहने वाले नईम सुल्तान और मोहम्मद हारिस ने बताया कि उनके पासपोर्ट एक्सपायर हो गए हैं, जिन्हें रिन्यू कराने के लिए वे एंबेसी पर आए थे। नईम ने बताया कि एंबेसी के अंदर कई सारे और लोग भी बैठे हुए हैं, लेकिन उनके भी काम अभी नहीं हो पा रहे हैं। नईम के मां, पिता और बहन काबुल में रहते हैं। उनके पिता सरकारी नौकरी करते थे। नईम का कहना है कि अब पत नहीं, मेरे पिताजी की नौकरी भी रहेगी कि नहीं। वहां सब लोग इस आशंका में हैं कि अब कभी भी कुछ भी हो सकता है। मैं अपनी मां और बहन को लेकर बहुत परेशान हैं और मैं कोशिश कर रहा हूं कि वे लो जल्द से जल्द किसी तरह यहां आ जाए। उम्मीद है कि एक हफ्ते के बाद उन्हें ऑनलाइन वीजा मिल सकेगा।

अफगानिस्तान से कैसे सुरक्षित निकाले जाएंगे भारतीय, सिंधिया ने बताया सरकार का प्लान

परिवार के अधिकतर लोग तुर्की गए
यहां आई छात्रा फरीसा ने बताया कि वह पहले अपनी मां और बहन को लेकर अपने घर जाने वाली थीं, लेकिन अचानक बदले हालात की वजह से उनके परिवार के ज्यादातर सदस्य तुर्की चले गए हैं, इसलिए अब वह तुर्की का वीजा लेने के लिए आवेदन करने जा रहीं हैं। उसके लिए कुछ दस्तावेज चाहिए थे, जिन्हें लेने के लिए वे यहां अफगान एंबेसी पर आई थीं। फरीसा ने बताया कि वहां अब जिस तरह के हालात हैं, उनमें कोई भी महिला और युवती वहां नहीं रहना चाहेगी। इसीलिए उन्हें नहीं लगता कि वे अब भी वापस अफगानिस्तान जा सकेंगी।

afghan

दिल्ली की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Delhi News

Source link