भाजपा के हाथों से छीन सकती है इन तीन राज्यों की सत्ता, आप भी देखें ये आंकड़े

0

नई दिल्ली: विधानसभा चुनाव जल्द ही शुरू होने वाले है. यह आगामी चुनाव का सेमीफाइनल माना जा रहा है. पांच राज्य राजस्थान, तेलंगाना, मध्यप्रदेश, मिजारम और छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव को लेकर काफी तैयारियां भी की जा रहीं है. इन चुनावों के मद्देनजर अभी से सर्वे और ओपिनियन पोल होने शुरू हो चुके है.

सर्वे के मुताबिक मध्यप्रदेश,राजस्थान और छत्तीसगढ से भाजपा की सरकार न बनें

बता दें कि एबीपी और सी वोटर के सर्वे के अनुसार भाजपा पार्टी के लिए एक बुरी खबर आ रहीं है. सर्वे के मुताबिक मध्यप्रदेश,राजस्थान और छत्तीसगढ से भाजपा की सरकार न बनें. तो चलिए जानते है आखिर क्या कहते है आंकड़े. इस सर्वे के अनुसार, मध्यप्रदेश की 230 सीटों में से भाजपा को 108 सीटें मिलने की आशंका है. वहीं कांग्रेस के खेमे में 122 सीटें आने की बात सर्वे में बताई गई है.

राज्य की जनता वसुंधरा राजे के कार्य से ज्यादा खुश नहीं है

इसके अतिरिक्त बात की जाए राजस्थान की तो यहां पर 200 सीटों में से बीजेपी को 56 सीटें और कांग्रेस के हाथ 142 सीटें आ सकती है. जहां एक तरफ राज्य की जनता वसुंधरा राजे के कार्य से ज्यादा खुश नहीं है और सर्वे यह आंकड़े दे रहा है तो यह बीजेपी के लिए काफी चिंता का विषय साबित हो सकता है. और अन्य विपक्षी दल ऐसा कोई भी मौका अपने हाथ से जाने नहीं देगी जहां उनके हाथ जीत आसानी से लगे.

रमन सिंह की सरकार को गिरने के लिए यहां पर गठबंधन की तैयारी भी तेजी से की जा रहीं

जहां मध्य प्रदेश में शिवराज सरकार पर कई आरोप देखने को मिल रहे है वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल मध्य प्रदेश में अपनी नजर रखे हुए है. दूसरी तरफ बात करें छत्तीसगढ़ की तो 90 सीटों में से बीजेपी के खाते में सिर्फ 40 सीटें मिलने की संभावना है तो वहीं कांग्रेस को 47 सीटें मिलने का अनुमान है. ये ही नहीं रमन सिंह की सरकार को गिरने के लिए यहां पर गठबंधन की तैयारी भी तेजी से की जा रहीं है. इस वजह से भाजपा को काफी नुकसान भी झेलना पड़ सकता है.

बता दें कि एबीपी और सी वोटर के इस सर्वे से साफ पता चल रहा है कि इन तीनों राज्यों में बीजेपी की मौजूदा सरकार से जनता खुश नहीं है. ये कहना गलत नहीं होगा कि न जाने कब बीजेपी के हाथों से सत्ता निकल जाए. बहरहाल ये तो एक सर्वे है लेकिन असल नतीजा तो 11 दिसंबर को सबके सामने आएंगे. फिलहाल, सिर्फ कयास ही लगाए जा सकते हैं.