डोली लेने के लिए निकली बारात अर्थियां लेकर लौटी, दूल्हे के कई रिश्तेदारों की मौत

0

नेशनल हाईवे-24  पर एक एक्सीडेंट ने घंटों जाम की स्थिति पैदा कर दी।  जिसने भी इस घटना को करीब से देखा वो इस दुर्घटना के वीभत्स रूप से सिहर उठा।  बारातियों से भरी एक टाटा सूमो शुक्रवार देर रात करीब 20 फीट गहरे नाले में जा गिरी। इस हादसे में दो मासूम व दूल्हे के पिता समेत छह लोगों की मौत हो गई, वहीं आठ से अधिक लोगों के घायल होने की जानकारी है।

गाज़ियाबाद के अकबरपुर बेहरामपुर के रहने वाले 21 साल के रवि रस्तोगी की बारात खोड़ा के लिए रवाना हीई थी।  बरात में दूल्हा और दूल्हे के पिटा के साथ 12 रिश्तेदार एक साथ एक ही सूमो में बैठ कर निकले। बता दें कि टाटा सूमो के लिए ड्राइवर समेत सात सवारी के लिए पास है, लेकिन ड्राइवर ने नियमों को ताक पर रखकर उगाडी में 12 लोगों को बैठाया।  ड्राइवर के पास टैक्सी परमिट भी नहीं था। बिना टैक्सी परमिट के बारातियों को किराए पर कार ले जाना अपराध है। उधर, हादसे के बाद पुलिस यह पता लगा रही है कि गाड़ी संचालक के पास टैक्सी परमिट था या नहीं। अगर बिना परमिट के टैक्सी पाई जाती है तो संबंधित ड्राइवर और मालिक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

प्राथमिक जानकारी के मुताबिक बतया जा रहा है कि हादसा कार में सवार एक बच्चे द्वारा हैंड ब्रेक खोलने की वजह से हुआ। दरअसल जाम की वजह से कार ड्राइवर ने कार बैक कर ली और फ़ोन पर बात करने लगा।  बच्चे के हैंड ब्रेक खोलने की वजह से कार धीरे-धीरे सरकती हुई 20 फ़ीट गहरे नाले में जा गिरी। टाटा सूमो के पीछे आ रहे बाराती जतिन रस्तोगी भी नाले में कूद पड़े और शीशा तोड़कर एक महिला को खींचने की कोशिश की लेकिन ज़्यादा वज़न  की वजह से उसे निकाल नहीं सके।  फिर हाईवे से गुज़र रहे कुछ लोगों की मदद से कुछ लोगों को निकाला जा सका।

उधर, घटना के बाद विजय नगर थाना क्षेत्र के गांव अकबरपुर बहरामपुर में दुल्हन के घर शादी का जश्न मातम में बदल गया। वहीँ बरात ले जा रहे मृतकों का नाता बरेली के धौराटांडा कस्बे से है। बताया जा रहा है कि दूल्हे रवि के पिता ओमप्रकाश मूलरूप से धौरा टांडा में दर्जी का काम करते थे। काम में मंदी आई तो वे एनसीआर के गांव में चले आए। उनका बाकी परिवार अभी भी धौरा टांडा में ही बसा है। रवि की शादी में ओमप्रकाश के परिवार और खानदान के अन्य लोग आए हुए थे।

शादी समारोह में शामिल होने के लिए रुद्रपुर (उत्तराखंड) निवासी उनके कुछ रिश्तेदार भी आए हुए थे। छह मृतकों में रुद्रपुर के रिश्तेदारों के अलावा धौरा टांडा निवासी उनके परिवार के लोग भी शामिल हैं। हादसे के बाद मृतकों के परिवार वालों को जैसे ही सूचना मिली वहां से अन्य परिजन गाजियाबाद के लिए चल दिए।

एनएच-24 पर अकबरपुर बहररामपुर कट के पास हुए भीषण हादसे के बाद लोगों का हुजूम लग गया। घायल लोगों की तत्काल मदद करने के लिए कई गाड़ियाँ रुक गयी।  जिस वजह से काफी लंबा जाम लग गया।

वहीं कुछ चश्मदीदों का आरोप है कि पुलिस को फोन मिलाने पर पुलिस काफी देरी से आई और 100 नंबर पर कॉल भी नहीं लग पाया, जिसकी वजह से यह मौतें हुई हैं।  बचे हुए घायल लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।  घटना के बाद शादी में जा रहा परिवार मातम के दौर से गुजर रहा है।  वहीं नेशनल हाईवे 24 के किनारे नाले के पास किसी भी तरह का चेतावनी चिन्ह नहीं था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × 4 =