नवरात्र का चौथा दिन: माँ कुष्मांडा की इस तरह करें पूजा, मिलेगा भरपूर लाभ

0
Kushmanda
Kushmanda

नवरात्र का आज चौथा दिन है। देवीभागवत पुराण के अनुसार इस दिन देवी के चौथे स्वरूप माता कूष्मांडा की पूजा करनी चाहिए। माँ शैलदात्री, माँ ब्रह्मचारिणी और माँ चंद्रघंटा के बाद, माँ कूष्मांडा की पूजा नवरात्रि के चौथे दिन की जाती है।

माना जाता है कि आठ हाथों से प्रकट हुई, माँ कूष्मांडा ने अपनी दिव्य मुस्कान के द्वारा ब्रह्मांड का निर्माण किया। यह माना जाता है कि जब ब्रह्मांड में कुछ भी नहीं था और यह एक अंधेरा, ब्लैक होल था, माँ कूष्मांडा मुस्कुरायी जिससे पूरा ब्रह्माण्ड प्रकाशमय हो गया। इस शक्ति के साथ माना जाता है कि वह सूर्य से उत्पन्न हुई है।

यह भी पढ़ें: जानिए बुधवार का दिन किन राशियों के लिए शुभ रहेगा?

माँ कूष्मांडा एक बाघ की सवारी करती है और उसकी आठ भुजाओं, धारण, कमल, धनुष, बाण, कमंडल, चक्र, गदा, जप माला और अमृत का पात्र है। ऐसा माना जाता है कि उसकी मुस्कान के कारण ही ब्रह्मांड में प्रकाश है। वह सूर्य के मूल में सूर्यलोक में निवास करती है। यह माना जाता है कि उसके पास इतनी शक्ति है कि केवल वह ही वहां निवास कर सकती है।

देवी कूष्‍मांडा की आराधना करने से आराधकों के सभी रोग-शोकों का नाश हो जाता है। इसके अलावा मां की कृपा से आयु, यश, बल और स्वास्थ्य समृद्धि आती है। जो लोग अक्सर बीमार रहते हैं उन्हें देवी कूष्मांडा की पूजा श्रद्धा भाव सहित करना चाहिए।

नवरात्रि का प्रत्येक दिन माँ दुर्गा के नौ अवतारों में से एक को समर्पित है। नौ अलग-अलग रूप हैं शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कूष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायिनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री।

यह भी पढ़ें: नवरात्रि के तीसरे दिन जानिये दुर्गा देवी के तीसरे रूप के बारें में

माँ कुष्मांडा की इस तरह करें पूजा

नवरात्रि के चौथे दिन सुबह नित्यकर्म और स्नान करने के बाद पूजाघर की सफाई करें और मां कूष्मांडा की पूजा-अर्चना करें। पूजा में देवी को लाल गुड़हल या लाल रंग का ही कोई दूसरा फूल, लाल रंग का श्रृंगार का सामान भी अर्पित करें। उसके बाद मां की आरती पढ़ें. पूजा के बाद मां को मालपुए का भोग लगाएं। पूजा के प्रसाद को देवी मां के मंदिर में जाकर जरूरतमंद लोगों और ब्राह्मण को दे दें। प्रसाद का पुण्य बांटने से बढ़ता है. ऐसा करने से आप पर मां कूष्मांडा का आशीर्वाद बना रहेगा और आपके ज्ञान में भी वृद्धि होगी।