माँ से लड़ायी हुई तो बदला लेने के लिए 4 महीने की बच्ची से किया बलात्कार

0

मध्य प्रदेश के इंदौर से 4 माह की बच्ची की रेप के बाद हत्या की दर्दनाक घटना सामने आई है| बच्ची का बलात्कार और हत्या तो शर्मनाक है ही लेकिन पुलिस की लापरवाही ने हमे शासन तंत्र के रवैये पर सोचने के लिए मजबूर कर दिया है| इस केस में पुलिस अगर वक़्त पर सख्त कार्यवाही कर देती तो बलात्कार की घटना को रोका जा सकता था| हालांकि बच्ची के बलात्कार और हत्या वाले दिन ही पुलिस ने शाम तक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया| पुलिस ने बताया कि आरोपी और कोई नहीं बल्कि बच्ची की मां का मौसा ही है|

CCTV फुटेज ने किया खुलासा

घटना इंदौर के राजबाड़ा इलाके की है| पुलिस द्वारा दी गयी जानकारी के मुताबिक CCTV फुटेज की मदद से आरोपी की पहचान हुई| फुटेज में आरोपी अपने कंधे पर बच्ची को उठाकर ले जाता हुआ दिखाई दिया| आरोपी और पीड़िता का परिवार गुब्बारे बेचने का काम करता है और रात में पूरा परिवार राजबाड़ा किले के मुख्य गेट के पास खुले में सोता है|

पुलिस ने बताया कि शुक्रवार को तड़के करीब 4.45 बजे 25 वर्षीय सुनील भील मां-बाप के बीच सो रही 4 माह की बच्ची को उठाकर पास ही में श्रीनाथ पैलेस बिल्डिंग के बेसमेंट में ले गया| वहां उसने करीब 15 मिनट तक बच्ची के साथ रेप किया, फिर पटककर बच्ची की हत्या कर दी| सीसीटीवी फुटेज में 5 बजे के करीब वह अकेले ही लौटते भी दिख रहा है|

सुबह 5 बजे के बाद 12 बजे मिली बच्ची

श्रीनाथ बिल्डिंग एक शॉपिंग कॉम्प्लेक्स है, जिसमें ढेरों दुकानें हैं| बिल्डिंग में ही एक दुकान में काम करने वाले व्यक्ति ने जब दोपहर करीब 12 बजे बिल्डिंग में प्रवेश किया तो उसने सीढ़ियों के पास बच्ची का शव देखा| उसने अपने मालिक को फोन कर इसकी जानकारी दी, जिसके बाद दुकान मालिक ने पुलिस को सूचना दी|

पुलिस ने बच्ची के शव का पोस्टमार्टम एमवाई हॉस्पिटल में करवाया| पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि बच्ची के प्राइवेट पार्ट में जख्म के निशान हैं| बच्ची के सिर पर गहरा जख्म है| डॉक्टर्स का कहना है कि बच्ची को ज़मीन पर ज़ोर से पटका गया है, जिससे उसकी मौत हो गई|

झगड़े की वजह से किया बलात्कार

जानकारी के मुताबिक, एक दिन पहले गुरुवार की रात आरोपी का बच्ची की मां के साथ झगड़ा भी हुआ था| दरअसल आरोपी की पत्नी उसे छोड़कर चली गई है और वह बच्ची की मां से सुलह कराने के लिए कह रहा था, जिसे लेकर झगड़ा हुआ| झगड़ा देखकर वहां काफी लोग इकट्ठा हो गए थे और पुलिस ने महज कुछ डंडे मारकर आरोपी को तब वहां से भगा दिया था|

लापरवाह ही रही पुलिस

पुलिस की लापरवाही यहीं नहीं रुकी| शुक्रवार की सुबह जब बच्ची के परिजन बच्ची की गुमशुदगी का केस दर्ज कराने गए तो उन्हें दोपहर में आने के लिए कहा गया| आखिरकार बच्ची का शव मिलने के बाद पुलिस ने केस दर्ज किया और इस बीच परिजन 8 घंटे तक रोते-बिलखते रहे| बता दें कि घटनास्थल से पुलिस थाना महज कुछ सौ मीटर की दूरी पर है|

इतना ही नहीं पुलिस को जब बच्ची की लाश मिलने की सूचना मिली, उसके भी करीब डेढ़ घंटे बाद टीआई घटनास्थल पर पहुंचे| सूचना मिलने के बावजूद वरिष्ठ अधिकारियों को घटना की जानकारी न देने के लिए DIG ने सराफा थाने के SI त्रिलोकचंद बरकड़े को सस्पेंड कर दिया है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × 2 =