36 साल बाद मई में गुरुग्राम का सबसे कम तापमान, वेस्टर्न डिस्टरबेंस सिस्टम से जून में होगा सावन जैसा नजारा

23
36 साल बाद मई में गुरुग्राम का सबसे कम तापमान, वेस्टर्न डिस्टरबेंस सिस्टम से जून में होगा सावन जैसा नजारा

36 साल बाद मई में गुरुग्राम का सबसे कम तापमान, वेस्टर्न डिस्टरबेंस सिस्टम से जून में होगा सावन जैसा नजारा

दिल्ली, हरियाणा, एनसीआर के लोगों को इससे पहले इतनी ठंडी मई 36 साल पहले मिली थी। इतना ही नहीं, यह 1901 से अब तक की दूसरी सबसे ठंडी मई है। इस महीने बारिश भी 100 एमएम से ज्यादा हुई है। गुरुग्राम, फरीदाबाद, पंचकुला, जींद समेत हरियाणा के जिलों का जून में भी मौसम ऐसा ही रहेगा।

 

36 साल बाद मई में गुरुग्राम का सबसे कम तापमान, वेस्टर्न डिस्टरबेंस सिस्टम से जून में होगा सावन जैसा नजारा

हाइलाइट्स

  • जमकर बरस रहे बादल, 24 घंटे में 23 एमएम बारिश
  • तेज हवा और बारिश से मौसम अभी सुहावना बना रहेगा
  • 2 जून से एक और वेस्टर्न डिस्टरबेंस के सक्रिय होने की संभावना
गुरुग्राम: मई महीना भीषण गर्मी और लू के लिए जाना जाता है, लेकिन इस साल बार बार सक्रिय हो रहे वेस्टर्न डिस्टरबेंस सिस्टम की वजह से पूरे महीने सावन जैसी झड़ी लगी रही। बुधवार सुबह आठ बजे तक 24 घंटे के दौरान 23 एमएम बारिश हुई। वहीं सुबह से लेकर शाम तक 30 से 40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार के साथ तेज हवा और बादलों के बीच सूर्य की तपिश भी देखने को मिली। शाम को चार बजे फिर से घनघोर बादलों के साथ अंधेरा छा गया। मौसम विभाग की तरफ से पहले ही 31 मई और एक जून के लिए तेज हवा, गरज चमक और बारिश का येलो अलर्ट जारी है। मौसम में ठंडक के चलते बुधवार को न्यूनतम तापमान 20.6 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम तापमान–डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

जून में भी ऐसा ही मौसम

मौसम विज्ञान विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि एक जून को भी एक ताजा वेस्टर्न डिस्टरबेंस के सक्रिय होने से आंधी और बारिश होती रहेगी। एक मई से 31 मई तक गुड़गांव में औसत बारिश का आंकड़ा 52.8 एमएम का रहा। जबकि सामान्य तौर पर 22.4 एमएम बारिश ही होती है। यह सामान्य से करीब ढाई गुणा ज्यादा है। उन्होंने बताया कि इस बार मई में सात वेस्टर्न डिस्टरबेंस आए, जिसके चलते औसत तापमान 37 डिग्री सेल्सियस रहा है, जो साल 1987 के बाद इतना कम रहा है।

हरियाणा में कई गुना बारिश

उन्होंने बताया कि एक जून रात्रि से एक ताजा वेस्टर्न डिस्टरबेंस के सक्रिय होने की संभावना बन रही है। इसके कारण बारिश व आंधी की गतिविधि चलती रहेगी। हालांकि 4 व 5 जून से तापमान में बढ़ोतरी की संभावना है और चार से पांच डिग्री की वृद्धि हो सकती है। उन्होंने बताया कि वेस्टर्न डिस्टरबेंस के कारण होने वाली बारिश की सही लोकेशन दो घंटे पहले बताई जा सकती है। कई बार तेज हवा बादलों का रुख बदल देती है। उन्होंने बताया कि अंबाला, जींद और पंचकूला को छोड़कर पूरे हरियाणा में सामान्य से कई गुणा बारिश हुई है। खासकर एनसीआर के शहरों में बारिश की गतिविधियां अत्यधिक बनी हुई है।

आसपास के शहरों की खबरें

Navbharat Times News App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NBT ऐप

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए NBT फेसबुकपेज लाइक करें

पंजाब की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Punjab News