हैदराबाद से गायब हुआ सॉफ्टवेयर इंजीनियर 31 महीने बाद पाकिस्तान में मिला, जाने क्या है मामला?

0
Pakistan
Pakistan

हैदराबाद का एक शख्स आज से 31 महीने पहले गायब हुआ था। उसके परिवारवाले उसे मरा जान चुके थे। लेकिन घरवाले तब हैरान रह गए जब उन्होंने टीवी पर देखा कि वह पाकिस्तान में पकड़ा गया है। आइये इस बारें में विस्तार से जानते हैं।

पाकिस्तान के बहावलपुर में पुलिस द्वारा पकड़े गए एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर प्रशांत वेनदाम के परिवार के सदस्यों को हैदराबाद से लापता होने के 31 महीने बाद उसे जिंदा देख राहत मिली। परिवार अब उम्मीद कर रहा है कि वे जल्द ही विदेश मंत्रालय की मदद से उनसे मिलने जाएंगे।

30 साल का प्रशांत लापता होने से पहले माधापुर में शोर इन्फो टेक कंपनी के साथ काम कर रहा था। शांत के पिता बाबू राव वंदाम नेबताया, “मेरा बेटा 11 अप्रैल, 2017 को सुबह 9 बजे ऑफिस के लिए निकला और घर नहीं लौटा।” बाबू राव द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के आधार पर, माधापुर पुलिस ने 29 अप्रैल, 2017 को एक गुमशुदगी का मामला दर्ज किया।

प्रशांत के पिता को जब पता चला कि प्रशांत ज़िंदा है और वह पाकिस्तान में है तो उन्होंने कहा, “जब से प्रशांत लापता हुआ है, हमने उससे नहीं सुना है। कल, हमने टीवी चैनलों पर देखा कि वह पाकिस्तान में पकड़ा गया था।” बाबू राव ने कहा कि उन्होंने तेलुगु में बात करते हुए वीडियो देखा कि उन्हें पाकिस्तान में गिरफ्तार किया गया था। अब हम जानते हैं कि वह जीवित हैं। हम बेटे को वापस लेने के लिए पुलिस और विदेश मंत्रालय से संपर्क करेंगे।

यह भी पढ़ें: ममता बनर्जी की मुसलमानों की बात पर तिलमिलाए ओवैसी, दीदी को दी ये नसीहत

प्रशांत के पिता 63 वर्षीय राव सेवानिवृत्त निजी कर्मचारी हैं। पाकिस्तानी मीडिया में कुछ समाचारों ने प्रशांत को भारतीय जासूस बताया। प्रशांत के परिवार वालों ने इस बात को झूठा बताया। उनके परिवार के सदस्यों ने उन रिपोर्टों को निराधार बताया।

राव ने कहा, “मेरा बेटा एक नरम स्वभाव का निर्दोष आदमी है। वह जासूस नहीं है। मुझे नहीं पता कि वह पाकिस्तान में कैसे पहुंचा? मैंने खबरों में देखा है कि वह स्विट्जरलैंड की किसी लड़की से प्यार करता था और उसकी तलाश में गया था। राव ने फिर उसकी एक महिला सहकर्मी के बारे में बताया, जिसे वह पसंद करता था।