1993 मुंबई बम ब्लास्ट केस में आ सकता है फैसला, आरोपियों को हो सकती है उम्रकैद।

0
Mumbai Attack
Mumbai Attack

1993 में मुंबई में हुए बम धमाके ने पूरे देश को सन्न कर दिया था. 12 मार्च 1993 को मुंबई में एक के बाद एक बम धमाके हुए थे इन धमाकों के आरोपी और कोई नहीं अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम और अब्बू सलेम थे. अबू सलेम पुलिस की गिरफ्त में है लेकिन इन धमाकों का मास्टरमाइंड दाऊद इब्राहिम 1995 से फरार है और पुलिस के हाथ अब तक उसका कोई सुराग नहीं लगा है.

आज विशेष टाडा अदालत इस मामले में अपना फैसला सुना सकती है.  इस मामले में अबू सलेम समेत सात आरोपियों पर जस्टिस जी.एस. सानप की बेंच अपना फैसला सुनाएगी. सलेम समेत अन्य आरोपी कोर्ट पहुंच चुके हैं. कोर्ट परिसर में भारी संख्या में सुरक्षा बल तैनात है.

इन दोषियों में सलेम के अलावा मुस्तफा डोसा, ताहिर मर्चेंट, अब्दुल कय्यूम, करीमुल्ला शेख, रियाज सिद्दीकी और अब्दुल रशीद खान शामिल हैं. अदालत ने कुछ दिनों पहले ही इस मामले की सुनवाई पूरी की थी. बम धमाके के दोषी मुस्तफा डोसा को साल 2004 में यूएई से गिरफ्तार किया गया था.

2005 में अंडरवर्ल्ड डॉन अब्बू सलेम और उसकी प्रेमिका मोनिका बेदी को पुर्तगाल से गिरफ्तार किया गया था. मोनिका बेदी अभी जमानत पर बाहर है. लेकिन अबू सलेम अब भी पुलिस की गिरफ्त में है. अन्य पांचों आरोपियों को भी दुबई से भारत लाया गया था. बहरहाल इन धमाकों के पीड़ित परिवारों को शुक्रवार को सुनाए जाने वाले फैसले का बेसब्री से इंतजार है.

क्या था पूरा मामला?
12 मार्च 1993 मुंबई के लिए एक ऐसा काला सूरज बनकर आया जिसने पूरी मुंबई को हिला कर रख दिया था. एक के बाद एक 12 बम धमाके हुए थे.  बम धमाके में 257 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 700 से ज्यादा लोग घायल हुए थे. ब्लास्ट से जुड़े एक अन्य मामले में ही फिल्म अभिनेता संजय दत्त अवैध हथियार रखने के दोषी पाए गए और उन्हें टाडा कोर्ट ने पांच साल की सजा सुनाई थी. अभी अपनी सजा को पूरी कर चुके संजय दत्त अब अपने परिवार के साथ खुशहाल जीवन व्यतीत कर रहे है.

बहरहाल, आज सभी को कोर्ट के फैसले का इंतज़ार है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × 2 =