भारत और पुर्तगाल के बीच 14 समझौते पर हस्ताक्षर

indo pourtagal news
भारत और पुर्तगाल के बीच 14 समझौते पर हस्ताक्षर

भारत और पुर्तगाल ने बौद्धिक संपदा अधिकार, हवाई क्षेत्र और वैज्ञानिक अनुसंधान क्षेत्र में 14 समझौते और सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पुर्तगाल के अपने समकक्ष रेबेलो डी सूसा से राष्ट्रपति भवन में मुलाकात की। सूसा पहली बार भारत की यात्रा पर आए हैं।

भारत के राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि भारत-पुर्तगाल के बीच द्विपक्षीय एजेंडे का विस्तार कई क्षेत्रों में हुआ है। ये दोनों देश विज्ञान, तकनीक, रक्षा, शिक्षा,और स्टार्टअप, जल और पर्यावरण समेत कई अन्य क्षेत्रों में साथ आ रहे हैं। आतंकवाद को पूरी दुनिया के लिए खतरा बताते हुए कोविंद ने कहा कि हमें इस वैश्विक खतरे से निपटने के लिए आपसी सहयोग बढ़ाना होगा।

पुर्तगाल दक्षिणी यूरोप में भारत के लिए एक महत्वपूर्ण देश है और पिछले 15 वर्षों में द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति हुई है। अक्तूबर 2005 में पुर्तगाल ने अबू सलेम और मोनिका बेदी का प्रत्यर्पण किया था जिन पर आतंक से जुड़े आरोप थे। पुर्तगाल के राष्ट्रपति सूसा चार दिवसीय यात्रा पर गुरुवार की रात को भारत पहुंचे।

इसके अलावा दोनों देशों के बीच औद्योगिक एवं बौद्धिक संपदा अधिकार के क्षेत्र में सहयोग को लेकर भी एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए। दोनों देशों ने दृश्य श्रव्य सह उत्पादन में सहयोग को लेकर समझौता किया।

पुर्तगाल के डिप्लोमेटिक इंस्टीट्यूट और विदेश सेवा प्रशिक्षण संस्थान के बीच भी समझौता ज्ञापन किया गया। इसके अलावा इंवेस्ट इंडिया और स्टार्टअप पुर्तगाल के बीच भी एमओयू हुए।

यह भी पढ़ें :MPC की बैठक में नीतिगत ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं

इस द्विपक्षीय वार्ता का मुख्य उद्देस्य भारत-पुर्तगाल संबंध के व्यापक आयामों पर चर्चा की है जिसमें विभिन्न क्षेत्रों में एक-दूसरे की ताकत से फायदा उठाना शामिल है।