बीजेपी के इस नेता की फैक्ट्री में मिला 100KG क्च्चा केटामाइन

0

भाजपा जहां चुनावी राजनीती में विपक्षी दलों का सामना कर रही है वहीं बीजेपी के कुछ नेता उनकी परेशानियों को और बढ़ाते हुए नजर आ रहें है. गोवा में बीजेपी पार्टी के नेता वासुदेव परब के फर्म में राजस्व विभाग द्वारा छापा मारा गया जिसमें कई खुलासे सामने आए. उनके फर्म पर पड़े छापे में कुल 100 किलोग्राम क्च्चा केटामाइन मिला था. जिसके बाद काफी बवाल मचा है. बता दें कि गोवा में कच्चा केटामाइन पूरी तरह से बैन है. अब इसके बाद भाजपा का यह नेता मुश्किलों के दायरों में घिरा हुआ है.

जानकारी से पता चला कि इस मामले पर पुलिस ने अभी तक 11 लोगों को हिरासत में करा है. वहीं इस मामले पर वासुदेव परब से पूछताछ भी की जा रही है. इस पर DRI  ने परब से लगभग 6 घंटे तक पूछताछ की. वासुदेव परब गोवा बीजेपी में महासचिव पद पर हैं. दरअसल, ऑपरेशन विटामिन के तहत देशभर के तकरीबन 14 जगहों पर DRI ने  छापेमारी की है, जिनमें से गुजरात, महाराष्ट्र और गोवा जैसे राज्य शामिल है. इस दौरान कुल 308 किलोग्राम किटामेन जब्त किया गया.

वासुदेव परब ने कहा मैंने बस किराए पर दी थी जगह

इस मामले पर मीडिया से जब वासुदेव परब ने बातचीत की तो उन्होंने कहा कि जो भी चीज जब्त की गई है वो मेरी नहीं है. वह जगह मेरी है पर उस जगह को मैंने किराए पर दिया हुआ था. किसी कनाडा व्यक्ति को ये किराए पर चाहिए था इसलिए मैंने वो जगह उसे किराए पर दी. हालाँकि उन्होंने इस जगह को आधिकारिक तौर पर किराए पर नहीं दिया था बल्कि मौखिक तौर पर दिया था. बताया जा रहा है कि उन्हें किराए के मुताबिक, करीब 75,000 रुपए मिलते थे. लेकिन उन्होंने ने इस बात का जिक्र आयकर विभाग में नहीं किया. हालांकि सफाई देने के बवजूद भी वासुदेव परब इस मामले में और ज्यादा घिरते हुए जा रहें है वहीं राजनीतिक दलों के निशाने पर भी आ गए हैं.

गोवा स्टेट इंडस्ट्रियल कॉर्पोरेशन ने भेजा नोटिस

वासुदेव परब के पास गोवा स्टेट इंडस्ट्रियल कॉर्पोरेशन की तरफ से एक नोटिस भेजा गया है. नोटिस में लिखा गया है कि आखिर उन्होंने किस आधार पर ये जगह रेंट पर दी थी. इस मामले पर बीजेपी नेता परब से एक हफ्ते के अंदर जवाब देने का फरमान मांग गया है.

बीजेपी ने कहा परब का कोई अपराध नहीं है

वहीं विपक्षी द्वारा किए जा रहे लगातार हमले के बाद अब भाजपा इकाई ने भी इस पर सफाई देते हुए कहा कि तटीय शहर में सरकार द्वारा आवंटित औद्योगिकी प्लॉट के होल्डर वासुदेव परब इस मामले में किसी तरह से शमिल नहीं है. इस मामले पर गोवा भाजपा अध्यक्ष विनय तेंदुलकर ने बीते दिन कहा कि परब की इसमें एक फीसदी या 0.1 फीसदी भी हिस्सेदारी नहीं है. उन्होंने कोई अपराध नहीं किया है. उनका सिर्फ एक कसूर था कि उन्होंने आईडीसी को बिना बताए इस प्लाट को किराए पर दे दिया. हमें परब पर पूरा विश्वास है कि वह इस तरह की चीजों में शामिल नहीं हो सकते हैं और न ही भविष्य में भी इस तरह की चीजों में शमिल होंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one + 19 =