शेयर बाजार में लगातार दूसरे दिन तेजी, सेंसेक्स, निफ्टी एक प्रतिशत से अधिक मजबूत

0
81

शेयर बाजार में लगातार दूसरे दिन तेजी, सेंसेक्स, निफ्टी एक प्रतिशत से अधिक मजबूत

मुंबई, 18 जुलाई (भाषा) शेयर बाजार में सोमवार को लगातार दूसरे कारोबारी सत्र में तेजी रही और दोनों मानक सूचकांक बीएसई सेंसेक्स और एनएसई निफ्टी एक प्रतिशत से अधिक मजबूत हुए। वैश्विक बाजारों में तेजी के बीच आईटी, तेल और गैस तथा बैंक शेयरों में लिवाली से घरेलू बाजार में तेजी आई।

तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 760.37 अंक यानी 1.41 प्रतिशत की बढ़त के साथ 54,521.15 अंक पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी भी 229.30 अंक यानी 1.43 प्रतिशत मजबूत होकर 16,278.50 अंक पर बंद हुआ।

Copy

आनंद राठी इन्वेस्टमेंट सर्विसेज के बुनियादी शोध प्रमुख नरेंद्र सोलंकी ने कहा, ‘‘एशियाई बाजारों में सकारात्मक रुख के बीच घरेलू बाजार बढ़त के साथ खुला। दोपहर के कारोबार में आईटी, प्रौद्योगिकी और पूंजीगत सामान बनाने वाली कंपनियों के शेयरों में लिवाली से बाजार में और मजबूती आई। इन्फोसिस, टेक महिंद्रा जैसे बड़ी कंपनियों के शेयरों में खरीदारी से भी बाजार को समर्थन मिला।’’

सेंसेक्स के शेयरों में इंडसइंड बैंक सबसे अधिक 4.36 प्रतिशत लाभ में रहा। आईटी कंपनियों में गिरावट के दौर पर विराम लगा और इन्फोसिस 4.16 प्रतिशत, टेक महिंद्रा 3.67 प्रतिशत, विप्रो 2.77 प्रतिशत, और टीसीएस 2.23 प्रतिशत मजबूत हुए।

कच्चे तेल के दाम में तेजी के साथ रिलायंस इंडस्ट्रीज में करीब एक प्रतिशत की तेजी रही। इसके अलावा बजाज फिनसर्व 3.46 प्रतिशत, एक्सिस बैंक 3.31 प्रतिशत, कोटक बैंक 3.25 प्रतिशत, आईसीआईसीआई बैंक 2.78 प्रतिशत और भारतीय स्टेट बैंक 2.35 प्रतिशत के लाभ में रहा।

दूसरी तरफ, सबसे ज्यादा नुकसान में डॉ. रेड्डीज लैब (1.7 प्रतिशत) रही। इसके अलावा, एचडीएफसी बैंक, एचडीएफसी, मारुति, महिंद्रा एंड महिंद्रा में भी गिरावट रही।

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘अमेरिका में खुदरा बिक्री बढ़ने से अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा नीतिगत दर में 0.75 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि की संभावना को लेकर चिंता कुछ दूर हुई है। इससे वैश्विक शेयर बाजारों में एक उम्मीद बंधी है। यूरोपीय केंद्रीय बैंक इस सप्ताह होने वाली बैठक में महंगाई को काबू में लाने के लिये नीतिगत दर में वृद्धि कर सकता है।’’

विश्लेषकों ने कहा कि किसानों की आय बढ़ने की रिपोर्ट से भी धारणा मजबूत हुई है। रिपोर्ट के अनुसार, वित्त वर्ष 2017-18 के मुकाबले किसानों की आय औसतन 2021-22 में 1.3 से 1.7 गुना बढ़ी है। वहीं अनाज निर्यात बढ़कर 50 अरब डॉलर से अधिक पहुंच गया।

एशिया के अन्य बाजारों में दक्षिण कोरिया का कॉस्पी, चीन का शंघाई कंपोजिट सूचकांक और हांगकांग का हैंगसेंग उल्लेखनीय रूप से लाभ में रहे।

यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरुआती कारोबार में तेजी का रुख रहा। अमेरिकी बाजार शुक्रवार को बढ़त के साथ बंद हुआ था।

इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 2.18 प्रतिशत उछलकर 103.4 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गया।

शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों की बिकवाली जारी है। उन्होंने शुक्रवार को 1,649.36 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे।

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News