वीडियो: इजरायल ने बनाई स्‍वचालित राइफल, खुद ही करेगी शिकार, जंग का बदल देगी नक्‍शा

84


वीडियो: इजरायल ने बनाई स्‍वचालित राइफल, खुद ही करेगी शिकार, जंग का बदल देगी नक्‍शा

हाइलाइट्स

  • इजरायल ने एक ऐसी राइफल बनाई है जो दुश्‍मन के दौड़ते समय भी उनकी खुद ही पहचान कर लेगी
  • यह राइफल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से निशाना लगाकर अपने शत्रु का काम तमाम कर देगी
  • इस तरह से इजरायल ने असाल्‍ट राइफल को डिजिटली नेटवर्क लड़ाकू मशीन में बदल दिया है

तेलअवीव
एक से बढ़कर एक अत्‍याधुनिक हथियार बनाने वाले इजरायल ने अब एक ऐसी राइफल बनाई है जो दुश्‍मन सैनिकों के दौड़ते समय भी उनकी खुद ही पहचान कर लेगी। यही नहीं यह राइफल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से निशाना लगाकर अपने शत्रु का काम तमाम कर देगी। इस तरह से इजरायल ने असाल्‍ट राइफल को डिजिटली नेटवर्क लड़ाकू मशीन में बदल दिया है। रक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि आने वाले समय में यह राइफल जंग का नक्‍शा ही बदल सकती है।

इजरायल की रक्षा इलेक्‍ट्रोनिक्‍स कंपनी इल्बिट ने एआई से चलने वाली इस असॉल्‍ट राइफल को बनाया है। इसका नाम ARCAS वेपन सिस्‍टम है जो दुश्‍मन के दौड़ते समय भी उसकी पहचान कर लेगी और निशाना लगाकर उस पर वार कर सकती है। माना जा रहा है कि इस बेजोड़ क्षमता की वजह से यह राइफल आने वाले समय में शहरी युद्ध के दौरान एक महत्‍वपूर्ण हथियार साबित हो सकती है।
इजरायल में किन जगहों पर हमला करेगा ईरान? तेहरान के अखबार ने नक्शा जारी कर दुनिया को बताया
‘सैनिकों के स्‍मार्टफोन’ की तरह से है यह राइफल
यह सिस्‍टम अपनी खींची गई तस्‍वीरों को देखने की अनुमति देता है, हथियार की स्थिति और उसकी गोलियों के बारे में लाइव अपडेट देता रहता है। इसकी तस्‍वीरें हेलमेट में लगे कैमरे में दिखती रहती हैं जिससे सैनिक के लिए जंग के दौरान फैसला करना आसान होता है। इल्बिट का कहना है कि ARCAS एक तरह से ‘सैनिकों के स्‍मार्टफोन’ की तरह से है। इसे किसी भी सामान्‍य असाल्‍ट राइफल में लगाया जा सकता है जैसे एम-16 या इजरायली टवोर राइफल।

इसके लिए एआई से संचालित कंप्‍यूटर को राइफल में लगाया जाता है। इसमें कई अत्‍याधुनिक साफ्टवेयर का इस्‍तेमाल किया गया है जिससे उसे चलाना आसान हो जाए। साथ यह राइफल अपने दुश्‍मन और दोस्‍त का पहचान कर सके। इस सिस्‍टम में लगा कैमरा दिन और रात दोनों में ही काम कर सकता है। यहां तक की सुरंग के अंदर भी यह कैमरा आसानी से काम कर सकता है। इसके कैमरा के लेंस को बदला जा सकता है ताकि किसी बिल्डिंग के कोने से भी इसे ऑपरेट किया जा सके।

navbharat times -
यह घातक हथियार सिस्‍टम वाईफाई से लैस
इससे सैनिकों को गोलियों की चपेट में आए बिना दुश्‍मन का काम तमाम करना आसान होगा। यह हथियार सिस्‍टम वाईफाई से लैस हो सकता है और युद्ध क्षेत्र की सभी तस्‍वीरों को अपनी सेनाओं को भेज सकता है। यह सिस्‍टम किसी शत्रु के शरीर के एक हिस्‍से को भी पहचान सकता है, जो उसके सामने कुछ समय के लिए ही आते हैं। यह हथियार और गोलियां बचाता है और इसी वजह से दुनिया के कई देशों ने इस हथियार में अपनी रुचि दिखाई है। इस पूरे सिस्‍टम का वजन 150 ग्राम है जिससे इसे उठाना भी सैनिकों के लिए आसान होगा। इसे निकालना भी बहुत आसान है।



Source link