राज के बाद औरंगाबाद में चलेगी उद्धव की तोप, AIMIM के इम्तियाज़ जलील ने भी किया सभा का ऐलान, जगह वही क्या नियम भी वहीं रहेंगे?

136

राज के बाद औरंगाबाद में चलेगी उद्धव की तोप, AIMIM के इम्तियाज़ जलील ने भी किया सभा का ऐलान, जगह वही क्या नियम भी वहीं रहेंगे?

मुंबई: महाराष्ट्र दिवस पर राज ठाकरे की औरंगाबाद में हुई जनसभा के बाद अब राज्य के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे भी उसी मैदान में रैली को संबोधित करने वाले हैं। आगामी 8 जून को औरंगाबाद में शिवसेना की शाखा के वर्धापन दिन के उपलक्ष्य में उद्धव ठाकरे जनसभा को संबोधित करने वाले हैं। आपको बता दें कि दिवंगत बालासाहेब ठाकरे ने शहर के ऐतिहासिक मराठवाड़ा सांस्कृतिक मैदान पर कई बार जनसभाओं को संबोधित किया है। इसी जगह पर राज ठाकरे ने भी हाल में एक विशाल रैली का आयोजन किया था। मनसे की रैली के दौरान यह ग्राउंड खचाखच भरा हुआ था। एक तरफ अब शिवसेना ने भी इसी मैदान पर जनसभा की घोषणा की है। तो दूसरी तरफ एआईएमआईएम के सांसद इम्तियाज जलील ने भी जनसभा को लेकर अपनी तैयारियां शुरू कर दी है।

मनसे के बाद शिवसेना की सभा में भी लाखों लोगों के आने की संभावना जताई जा रही है। इस मुद्दे पर इम्तियाज जलील ने कहा कि हम भी जनसभा करेंगे। मनसे की सभा में तो ग्राउंड को कुर्सियों से भरा गया था लेकिन हम ग्राउंड में दोगुनी संख्या में लोगों की भीड़ इकट्ठा करेंगे। हालांकि राज ठाकरे की सभा को औरंगाबाद पुलिस ने कई शर्तों के साथ इजाजत दी थी। अब सवाल यह है कि क्या शिवसेना और उसके बाद एआईएमआई एम की जनसभा को भी पुलिस शर्तों के साथ इजाजत देगी।

शिवसेना को मिली इजाजत
8 जून 1985 को मराठवाड़ा के औरंगाबाद में शिवसेना की पहली शाखा की स्थापना हुई थी। जिसके 37वें स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे जिले में जनसभा करने वाले हैं। आगामी 14 मई को मुख्यमंत्री पहले मुंबई के बीकेसी में सभा को संबोधित करेंगे। वहीं औरंगाबाद में शिवसेना के विधायक अंबादास दानवे ने कहा कि इस जनसभा के लिए शिवसेना को इजाजत मिल चुकी है। जल्द ही उन्हें पुलिस की तरफ से भी इजाजत मिल जाएगी।

अंबादास दानवे ने कहा कि शिवसेना की यह सभा ऐतिहासिक होगी। जिसमें लोगों की भारी भीड़ आने की संभावना है। उन्होंने कहा यह सभा रिकॉर्ड ब्रेक होने वाली है। उन्होंने यह भी कहा कि इस सभा की तुलना किसी से नहीं हो सकती। हमें ताकत दिखाने की जरूरत नहीं है हमारी इस शहर में मौजूदगी काफी मजबूत है।

मैदान वही तो क्या शर्तें भी वही रहेंगी
राज ठाकरे की सभा को इजाजत देने के पहले औरंगाबाद शहर की पुलिस ने काफी वक्त लिया था। कई बैठकों के बाद एमएनएस को इजाजत दी गई थी। इस दौरान उन पर 16 शर्तों को भी लगाया गया था। जिसमें सबसे मुख्य शर्त यह थी कि मैदान में सिर्फ 15 हजार लोग ही आ सकते हैं। पुलिस ने कहा था कि यदि इससे ज्यादा लोग आए तो कार्रवाई की जाएगी। उद्धव ठाकरे की सभा में भी भारी भीड़ जुटने की बात कही जा रही है। ऐसे में सवाल यह भी उठ रहा है कि क्या औरंगाबाद पुलिस शिवसेना की सभा में भी कड़ी शर्तें लगाएगी। वहीं इम्तियाज जलील ने आरोप लगाया है कि औरंगाबाद की सभा के बाद राज ठाकरे के खिलाफ मामले दर्ज किए गए हैं, वह काफी हल्के हैं। उन्होंने कहा कि हम भी इसी प्रकार जनसभा का आयोजन करके उनसे भी अच्छी भाषा का इस्तेमाल करेंगे। उसके बाद यह देखेंगे कि आखिर हम पर क्या कार्रवाई होती है।

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News