राज्यसभा चुनाव में वोट नहीं कर पाएंगे नवाब मलिक और अनिल देशमुख, MVA की मुश्किलें बढ़ीं, मुंबई सेशंस कोर्ट ने खारिज की याचिका

101

राज्यसभा चुनाव में वोट नहीं कर पाएंगे नवाब मलिक और अनिल देशमुख, MVA की मुश्किलें बढ़ीं, मुंबई सेशंस कोर्ट ने खारिज की याचिका

मुंबई: आगामी 10 जून को महाराष्ट्र में राज्यसभा की 6 सीटों के लिए होने वाले चुनाव में राज्य के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख और मौजूदा कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक मतदान नहीं कर पाएंगे। दोनों की तरफ से मुंबई सेशंस कोर्ट में दायर की गई याचिका को अदालत ने खारिज कर दिया है। इस अदालत के फैसले के बाद महाविकास अघाड़ी गठबंधन की मुश्किल बढ़ना तय है। बीजेपी ने पहले से ही शिवसेना के खिलाफ अपना तीसरा उम्मीदवार उतारकर एमवीए की मुश्किलों को बढ़ा दिया था। रही-सही कसर अदालत के इस फैसले से पूरी हो गई है। अनिल देशमुख के वकील ने अदालत से आदेश की सत्यापित कॉपी को जल्द से जल्द मुहैया करवाने की अपील की है। ताकि वह इस फैसले के खिलाफ मुंबई हाई कोर्ट में अपील कर सकें।

शिवसेना और बीजेपी को इतने वोटों की दरकार
चाहे शिवसेना हो या फिर बीजेपी, जीत का दावा दोनों ही तरफ से हो रहा है। हालांकि इस जीत के लिए उन्हें कुछ निश्चित वोटों की जरूरत भी है। बीजेपी के पास फिलहाल विधानसभा में 106 सीटें हैं। इस लिहाज से 2 सीटों पर उनके जीत तय मानी जा रही है। इसके बाद भी बीजेपी के पास 22 वोट अतिरिक्त हैं। इसके अलावा बीजेपी 7 निर्दलीय विधायकों के समर्थन का भी दावा कर रही है। इन सबके बावजूद जीत के लिए बीजेपी को 13 अतिरिक्त वोटों की जरूरत होगी। जिसके लिए बीजेपी को छोटी राजनीतिक पार्टियों और अन्य बचे हुए निर्दलीय विधायकों का समर्थन जरूरी है।

दूसरी तरफ महाविकास अघाड़ी की बात करें तो 2 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारने वाली शिवसेना के पास कुल 55 वोट हैं। जबकि एनसीपी के पास 54 और कांग्रेस के पास 44 विधायक हैं। तीनों ही दल बड़ी आसानी के साथ अपनी एक-एक सीट जीत सकते हैं। लेकिन चौथी सीट के लिए शिवसेना और उसके उम्मीदवार को कड़ी मशक्कत करनी पड़ेगी। इसके बाद शिवसेना के पास 13, एनसीपी के पास 12 और कांग्रेस के पास 2 वोट अतिरिक्त बच रहे हैं। इस प्रकार महाविकास अघाड़ी गठबंधन के पास कुल 27 वोट हैं और उन्हें 42 का आंकड़ा छूने के लिए 15 वोटों की दरकार है। जीत सुनिश्चित करने के लिए इन्हें भी छोटे राजनीतिक दलों और निर्दलीय विधायकों के वोट की जरूरत है।

7 उम्मीदवार और छठवीं सीट के लिए फंसा पेंच
राज्यसभा चुनाव में महाराष्ट्र बीजेपी ने तीन उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है। जबकि शिवसेना ने दो उम्मीदवार, वहीं कांग्रेसी और एनसीपी ने एक-एक उम्मीदवार को टिकट दिया है। महाविकास अघाड़ी गठबंधन के तीन उम्मीदवार आसानी से जीत दर्ज कर सकते हैं। वहीं बीजेपी की तरफ से दो उम्मीदवार बड़े आराम से राज्यसभा में दाखिल हो जाएंगे। लेकिन आखरी और छठी सीट के लिए शिवसेना और बीजेपी के बीच में बीच फंस गया है। दोनों ही पार्टियों ने अपने अपने उम्मीदवारों का नामांकन वापस नहीं करवाया है। ऐसे में यह मुकाबला काफी दिलचस्प हो चुका है। हर बड़ी पार्टी छोटे-छोटे राजनीतिक दलों और निर्दलीय विधायकों को रिझाने में जुटी हुई है।

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News