राजस्थान: ट्यूशन गई बच्ची का टीचर के घर मर्डर, मास्टर फरार, इलाके में फैली सनसनी

0
127

राजस्थान: ट्यूशन गई बच्ची का टीचर के घर मर्डर, मास्टर फरार, इलाके में फैली सनसनी

अर्जुन अरविंद, कोटा
राजस्थान के कोटा जिले के रामपुरा कोतवाली थाना इलाके में 14 साल की बालिका ट्यूशन गई। जिसका मर्डर हो गया। टीचर घर के 9 हजार रुपए निकाल कर फरार हैं। पुलिस फरार टीचर की तलाश कर रही हैं। मृतक बालिका फरार टीचर के घर ट्यूशन गई हुई थी, जो लौटकर वापस घर नहीं पहुंची, बालिका समय से घर नहीं पहुंची तो परेशान परिजन ट्यूशन टीचर के घर पहुंचे। यहां उसका शव पड़ा मिला। बालिका फ्लोर पर मृत पड़ी थी और उसके हाथ-पांव भी रस्सी से बंधे थे।

ट्यूशन पर तलाशने गए परिजन, तो बालिका जमीन पर पड़ी मिली
परिजनों के मुताबिक उसकी सांसें चल रहीं थीं। ऐसे में परिजन उसे अस्पताल लेकर गए जहां उसकी मौत हो गई। परिजनों ने हत्या का शक जताया है। बालिका अपने परिजनों के साथ बजाज खाना में रहती थी। रविवार को वह ट्यूशन पढ़ने के लिए गई थी, लेकिन समय से घर नहीं पहुंची। ऐसे में परिजन जहां पर ट्यूशन पढ़ती थी वहां पर उसे तलाशने गए तो बालिका जमीन पर पड़ी मिली। उसके गले में रस्सी का फंदा था। परिजनों के मुताबिक उसकी सांसें चल रहीं थी। उसे अस्पताल ले जाया गया। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया है।

ब्रांड के नाम पर फंस मत जाइयेगा!, जयपुर में पकड़ी गए ‘फ्रॉड’ गिरोह की करतूत आपको हैरानी में डाल देगी

मौके से ट्यून टीचर फरार
परिजनों का कहना है कि जहां ट्यूशन जाती है, वहीं उसकी रस्सी से गला दबाकर हत्या की गई। बालिका कक्षा 9 की पढ़ाई कर रही थी। आज वह खुद ही ट्यूशन पढ़ने के लिए गई थी। उसको पढ़ाने वाला टीचर गौरव जैन मौके से फरार है। इस पूरे मामले में ट्यूशन टीचर पर ही शक जताया जा रहा है। साथ ही ट्यूशन टीचर के अन्य परिजन भी शादी समारोह में घर से बाहर गए हुए है।

Copy

परिजन मीडिया से किसी भी तरह की कोई बात करने से कतरा रहे
परिजनों का कहना है कि बालिका के साथ में कोई गलत काम की किया जा सकता है। ऐसे में मेडिकल होते ही पोस्टमार्टम पुलिस करवा रही है। हालांकि परिजन मीडिया से किसी भी तरह की कोई बात करने से कतरा है।

navbharat times -जयपुर से नाबालिग बच्ची का अपहरण कर जम्मू- कश्मीर ले गया था युवक, एक साल पहले भी रची थी साजिश

हाथ-पैर रस्सी से बंधे हुए मिले, गले में लगा था फंदा
पुलिस का कहना है कि बालिका के परिजन उसको तलाशने के लिए ट्यूशन टीचर के घर गए ,तो बाहर से ताला लगा हुआ था। लेकिन उसकी चप्पलें बाहर ही खुली हुई थी। ऐसे में उन्हें शक हुआ। परिजन ताला तोड़कर अंदर गए तो बालिका के हाथ-पैर रस्सी से बंधे हुए थे। उसके गले में भी फंदा था। वह खिड़की से लटकी हुई थी।

लता मंगेशकर ने 1960 में गाया था ये राजस्थानी गीत, थाने काजलियो बनाल्यूं म्हारे नैना में रमाल्यूं

राजस्थान की और समाचार देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Rajasthan News