रंगबाज़- डर की राजनीति में दिखेगी बिहार की कहानी

0
79

रंगबाज़- डर की राजनीति में दिखेगी बिहार की कहानी

– पोलिटिकल गैंगस्टर ड्रामा सीरीज रंगबाज़ डर की राजनीति के प्रमोशन में पटना पहुंचे कलाकार

– 29 जुलाई को वेब सीरीज का प्रीमियर होगा लांच

पटना। वरीय संवाददाता

ज़ी5 के अनोखे गैंगस्टर ड्रामा की तीसरी किस्त में गैंगस्टर के संग राजनीति का तड़का भी नए अंदाज में दिखेगा। इसमें एक ओर जहां मुख्य कलाकार के खौफ की कहानी है तो दूसरी ओर उसके बेइंतहा मोहब्बत के जज्बात भी दिखेंगे। यह बातें वेब सीरीज के अभिनेता विनीत कुमार सिंह ने कही। प्रमोशन के सिलसिले में पटना पहुंचे अभिनेता ने बताया कि इसमें बिहार के शहर व इसकी कहानी भी काल्पनिक है। होटल पनाश में अभिनेता ने कहा कि गैंगस्टर के रूप में उनके अभिनय से बिहार झारखंड व यूपी के दर्शक खुद को जोड़ पाएंगे। इसमें गैंगस्टर के रूप में हारून शाह अली बेग ( जिन्हें साहेब के नाम से भी जाना जाता है) की भूमिका करने वाले विनीत ने बताया कि हर गैंगस्टर का राजनीति में जाने से लेकर उसके 30 वर्ष के सफर को तीन अलग अलग उम्र के दौर में दिखाया गया है। उन्होंने बताया कि बनारस से होने के कारण उन्हें इस वेब सीरीज को करने में ज्यादा परेशानी नहीं हुई। वहीं, अभिनेत्री आकांक्षा सिंह ने बताया कि इसमें उनकी भूमिका सना के रूप में है जो हारून शाह अली बेग की प्रेमिका बनी है। प्रेमिका ऐसी है जो सच बोलना जानती है, वह सच को सच कहने वाली है। कहा कि पहली बार बिहार आने पर अच्छा लग रहा है। सना इसमें अपर मिडिल क्लास की लड़की के रोल में है जिसके पिता वकील हैं। वह सच बोलने से नहीं डरती है। शूटिंग के अनुभव साझा करते हुए आकांक्षा ने बताया कि पूरी शूटिंग लखनऊ में सेंटेनियल कॉलेज, सीतापुर छावनी और क्रिश्चियन कॉलेज से लेकर मोती महल, शिवगढ़ पैलेस और जहांगीराबाद हवेली तक दो महीने तक चली। इसमें विनीत गीत गाते थे वे रैप गाकर मनोरंजन करती थी। पूरा माहौल परिवार की तरह था। वेब सीरीज हिंदी के अलावा तमिल व तेलगू में भी दिखेगी।

Copy

चुनाव के समय हुई दिक्कत

सचिन पाठक द्वारा निर्देशित और सिद्धार्थ मिश्रा द्वारा लिखित वेब सीरीज का प्रीमियर 29 जुलाई को होगा। सीरीज में उनके अलावा आकांक्षा सिंह, राजेश तैलंग, गीतांजलि कुलकर्णी, प्रशांत नारायणन, विजय मौर्य, सुधन्वा देशपांडे, सोहम मजूमदार और अशोक पाठक हैं। शूटिंग के अनुभव बताते हुए विनीत कहते हैं कि यूपी चुनाव के वक्त उनकी टीम को पुलिस को काफी समझाना पड़ा था। हुआ यह था कि किसी ने गलत ढंग से सूचना पुलिस को दे दी थी कि शूटिंग की आड़ में पैसे बांटे जा रहे है। जबकि हकीकत यह थी कि हारुन शाह अली बेग आर्थिक दरबार में गरीबों की मदद पैसे देकर करते हैं। उसी सीन को करने की अफवाह किसी ने फैला दी थी।

यह है वेब सीरीज की कहानी

अभिनेता को बिहार के एक छोटे शहर से उभर कर राज्य के सबसे ताकतवरों लोगों में तब्दील होते दिखाया गया है। साहेब को 11 साल बाद जेल से रिहा किया गया है, जहां उन्हें हत्या, अपहरण और जबरन वसूली सहित 32 से ज्यादा आपराधिक मामलों के आरोप में कैद किया गया था। कई लोग उनसे प्यार करते हैं, कुछ नफरत भी करते हैं, लेकिन उनसे डरते सब हैं। ऐसे हारून शाह अली बेग अब चुनाव लड़ने और हर हाल में जीतने का एकमात्र मकसद लेकर अपने इलाके पर कब्जा करने लौट आए हैं। उन्होंने साफ कर दिया है कि वह जो चाहते हैं, उसे पाने के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार हैं भले ही इसके लिए उन्हें क्रूर हिंसा और हत्याओं का सहारा ही क्यों न लेना पड़े।

बिहार की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Delhi News