मोदी सरकार में शामिल होगी एकनाथ शिंदे सेना, मिल सकता है कैबिनेट और एक राज्यमंत्री पद

0
156

मोदी सरकार में शामिल होगी एकनाथ शिंदे सेना, मिल सकता है कैबिनेट और एक राज्यमंत्री पद

मुंबई: एकनाथ शिंदे सेना (Eknath Shinde Group) जल्द ही केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) का हिस्सा बनने जा रही है। शिंदे सेना को मोदी सरकार में एक कैबिनेट मंत्री पद और एक राज्य मंत्री पद दिया जाने वाला है। दिल्ली के भरोसेमंद सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की है। लोकसभा में शिवसेना (Shivsena) के 19 में से 12 सांसद शिंदे सेना के साथ हैं। शिंदे ने अलग गुट के नेता के तौर पर सांसद राहुल शेवाले (Rahul Shewale) और चीफ विप के पद पर सांसद भावना गवली को नियुक्त किया है। इतना ही नहीं, शिंदे सेना के सांसदों ने एनडीए (NDA) में शामिल होने का ऐलान भी कर दिया है।

एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना में हुई बगावत से पहले शिवसेना 1998 से 2019 तक एनडीए का हिस्सा रही है। 2019 में महाराष्ट्र में एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर महा विकास आघाडी की सरकार बनाने के बाद एनडीए से तब यह रिश्ता टूट गया था, जब केंद्र सरकार में शिवसेना के एकमात्र मंत्री अरविंद सावंत ने इस्तीफा दे दिया था। वह नवंबर 2019 तक मोदी सरकार में केंद्रीय भारी उद्योग और सार्वजनिक उपक्रम मंत्री थे।

उद्धव को संसद में भी झटका, शिंदे गुट से बना नेता
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने लोकसभा में राहुल शेवाले को शिवसेना नेता के रूप में मान्यता दी है। शिंदे के साथ शिवसेना के 19 में से 12 सांसद हैं। उन्होंने संसदीय दल के नेता को बदलने के लिए स्पीकर ओम बिरला को पत्र लिखा था। बताया जाता है कि महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे के बेटे और सांसद श्रीकांत शिंदे सहित 12 सांसद बिरला से मिले। उन्होंने सदन में अपने दल का नेता बदलने का ज्ञापन दिया। इससे पहले ठाकरे गुट की ओर से सोमवार की शाम सांसद विनायत राउत की ओर से स्पीकर को लेटर देकर यह अपील की गई थी कि विरोधी खेमे से कोई ज्ञापन न लिया जाए।

राउत की ओर से कहा गया कि वह दल के आधिकारिक नेता और राजन विचारे चीफ विप हैं। वहीं, उद्धव गुट के सांसद संजय जाधव ने बागी गुट पर निशाना साधते हुए कहा कि किसी के लालच की सीमा होनी चाहिए। यह शिवसेना ही थी, जिसने कई नेताओं के राजनीतिक करियर को संवारा है और उन्हें इसे कभी नहीं भूलना चाहिए।

BJP से जुड़ना चाहते थे उद्धव, फिर पलटे: शिवाले
लोकसभा में शिवसेना के संसदीय दल के नेता बने सांसद राहुल शेवाले ने कहा कि उद्धव ठाकरे बीजेपी के साथ फिर से जुड़ने के इच्छुक थे, लेकिन फिर वह अपने शब्दों से पीछे हट गए। उनका कहना था कि हमने ठाकरे से उपराष्ट्रपति पद के लिए मार्ग्रेट अल्वा का समर्थन न करने की अपील की थी, लेकिन हमारे विचारों को नजरअंदाज कर दिया गया। बताया जाता है कि सीएम शिंदे ने इन एक दर्जन सांसदों के साथ ऑनलाइन मीटिंग भी की। शिंदे ने कहा कि शिवसेना सांसदों ने बालासाहेब ठाकरे के आदर्शों को बनाए रखने के हमारे रुख का समर्थन किया है।

Copy

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News