मोदी जी बजट घटा देंगे, अधिकारियों की क्लास लेते वक्त कांग्रेस लीडर चंद्रभान ऐसे क्यों फट पड़े

0
100

मोदी जी बजट घटा देंगे, अधिकारियों की क्लास लेते वक्त कांग्रेस लीडर चंद्रभान ऐसे क्यों फट पड़े

जालोर: राजस्थान में खराब सड़क का मुद्दा फिर से उठा। राज्य के बीस सूत्री कार्यक्रम और क्रियान्वयन समिति के उपाध्यक्ष डॉ चंद्रभान ने सोमवार को जालोर जिला कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक ली। इस दौरान बीसूका कार्यक्रम और फ्लैगशिप योजनाओं के बारे में अधिकारियों से उन्होंने समीक्षा कर उसकी प्रगति जानी। इस दौरान सड़क के विषय पर बात करते हुए डॉ चंद्रभान ने कहा कि मैं जोधपुर से आया हूं, पूरे राजस्थान में इस प्रकार की खराब सड़क नहीं देखी है। उन्होंने रोहिट-आहोर सड़क का हवाला देते हुए कहा कि जयपुर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत किसी भी कार्य के लिए कहते हैं कि पुखराज जी आप देखो, लेकिन उनके इलाके में रोड की हालत ऐसी है यह समझ से परे है।

उन्होंने अधिकारियों को आगामी 6 महीने में इस रोड को ठीक करने के निर्देश दिए। हालांकि अधिकारियों ने बताया कि इस रोड का मामला हाईकोर्ट में चल रहा है। इस पर लगी टोल वसूली बंद हो चुकी है। इस दौरान बैठक में मौजूद भीनमाल के पूर्व विधायक डॉ समरजीत सिंह ने भी कहा कि आहोर रोहिट रोड को लेकर सरकार की खूब बदनामी हो रही है। हमें इसमें सुधार करने की आवश्यकता है।

डॉ चंद्रभान ने इस दौरान सड़क के अलावा दूसरे मुद्दों पर अधिकारियों से चर्चा की। उन्होंने कहा कि सरकार कि महत्वपूर्ण अंग्रेजी माध्यम स्कूल और इंदिरा रसोई को लेकर बेहतर काम होने जरूरी है। इसकी क्वालिटी पर विशेष ध्यान रखना होगा। इसके लिए अधिकारियों को भी निर्देशित किया। बैठक में राज्य जन अभाव अभियोग निराकरण समिति के अध्यक्ष पुखराज पाराशर, जिला कलेक्टर निशान्त जैन, एसपी हर्षवर्धन अग्रवाला और पूर्व विधायक डॉ समरजीत सिंह समेत जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।

जालोर में हत्या के दोषी को उम्र कैद, 2 लाख का जुर्माना… पत्नी से छेड़छाड़ करने से रोका तो पीट-पीटकर मार डाला

चंद्रभान ने भैरोसिंह की अंत्योदय योजना की तारीफ की

डॉ चंद्रभान ने कहा कि 20 सूत्री कार्यक्रम पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने लाईं थी। देश में गरीबी कम करने में बीस सूत्री कार्यक्रम की अहम भूमिका रही है। उन्होंने स्वीकार किया कि गरीबी दो प्रकार की होती है अत्यंत गरीबी और कम गरीबी। बीसूका के आने के बाद हालांकि पूर्ण रूप से गरीबी कम नहीं हुई है, लेकिन फिर भी काफी कम हुई है। उन्होंने कहा कि कार्यों में कोई भी हो अच्छे कार्यों की हमेशा प्रशंसा होनी चाहिए।

चंद्रभान ने कहा भारत में मनरेगा जैसी योजना के चलते हम लोग अत्यंत गरीबी से काफी हद तक बाहर आ गए हैं। उन्होंने बीसूका को मजबूत बनाने की आवश्यकता जताई। उन्होंने यह भी कहा कि देश में ज्यादा गरीबी नहीं है, लेकिन गरीब और अमीर के बीच का अंतर बढ़ रहा है इसे रोकने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि बीस सूत्री कार्यक्रम की योजनाएं भले ही केंद्र सरकार की हो, लेकिन इसका जिम्मेदारी पूर्ण निर्वहन करना राज्य का भी दायित्व है। इसलिए हमें इन योजनाओं को लेकर सजग रहने की जरूरत है। उन्होंने जालोर जिले में जल जीवन मिशन में कमजोर होने पर अधिकारियों को कहा कि इसकी प्रगति करने में कोताही नहीं बरतें। बीसूका उपाध्यक्ष डॉ चंद्रभान ने कहा कि भैरोसिंह की अंत्योदय योजना भी प्रदेश में बेहतर थी, योजनाओं का उचित क्रियान्वयन ही गरीब की असली सेवा है।

navbharat times -गुरु ही बने गुरूघंटाल, राजस्थान के जालोर जिले में शिक्षक की हरकतों ने पुलिस जान पुलिस भी रह गई भौंचक्की

मनरेगा में कोताही बरती तो मोदी जी बजट नहीं देंगे

मनरेगा पर उन्होंने चर्चा करते हुए कहा कि मनरेगा में जालोर जिले में व्यवस्थित तरीके से क्रियान्विति नहीं हुई है। मजदूरी के तौर पर लोगों को 194 रुपर अभी हर दिन औसत मजदूरी मिल रही है, लेकिन लक्ष्यपूर्ति नहीं हो रही है। 45 हजार के लक्ष्य के मुकाबले केवल 4156 मजदूर ही 100 मानव दिवस पूरा कर पाए है। उन्होंने कहा कि सरकार 125 दिन मानव दिवस रोजगार करने का विचार कर रही है, लेकिन यहां पर लक्ष्य पूर्ति नहीं होने के कारण नुकसान हो रहा है। उन्होंने चिंता जताई कि अगर इसी प्रकार के हालत रहे तो मोदीजी बजट कम कर देंगे, इसलिए रोजगार के अवसर को बढ़ाया जाए। उन्होंने आवश्यकता जताते हुए कहा कि जालोर की जनता को रोजगार की बेहतर बेहद जरूरत है, अधिकारी इसकी क्रियान्वित को लेकर तत्पर रहें।

Gujarat Election Results: गुजरात में AAP के प्रदर्शन पर बोले संजय सिंह- मोदी-शाह का किला भेदना आसान नहीं

राजस्थान की और समाचार देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Rajasthan News