महाराष्ट्र: फिर टला मंत्रिमंडल विस्तार? शिंदे गुट की नाराजगी के बाद अब मानसून सत्र के बाद एक्सपेंशन की खबर

1
महाराष्ट्र: फिर टला मंत्रिमंडल विस्तार? शिंदे गुट की नाराजगी के बाद अब मानसून सत्र के बाद एक्सपेंशन की खबर

महाराष्ट्र: फिर टला मंत्रिमंडल विस्तार? शिंदे गुट की नाराजगी के बाद अब मानसून सत्र के बाद एक्सपेंशन की खबर

मुंबई: महाराष्ट्र सरकार में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। अजित पवार गुट के सरकार में शामिल होने के बाद से एकनाथ शिंदे गुट नाराज बताया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ शिंदे गुट के विधायक लगातार मुख्यमंत्री पर यह दबाव बना रहे हैं कि हमे एनसीपी के आगे नहीं झुकना है। साथ ही वित्त मंत्रालय किसी भी कीमत पर अजित पवार को न दिया जाए। जब तीन दिन की बैठक में अजित पवार को कोई भी हल निकलता हुआ नजर नहीं आया। तब उन्होंने प्रफुल्ल पटेल के साथ दिल्ली में बीती शाम अमित शाह से भी मुलाकात की। इस मीटिंग के बाद यह कहा जा रहा था कि महाराष्ट्र सरकार की सभी दिक्कतों को कर लिया गया है। हालांकि, ताजा जानकारी के अनुसार महाराष्ट्र सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार अब आगामी मानसून सत्र के बाद होगा। वहीं विभागों का आज या कल हो सकता है।

बता दें कि जब से अजित पवार की एंट्री महाराष्ट्र सरकार में हुई है तब से तीनों पार्टियों के बीच सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। इसके अलावा एकनाथ शिंदे की बगावत के दिनों से साथ रहने वाले प्रहार जनशक्ति पार्टी के नेता बच्चू कडू भी नाराज नजर आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह कार्यकर्ताओं से बातचीत के बाद आज फैसला करेंगे कि सरकार में रहना है या नहीं?

अमित शाह के साथ बैठक में क्या हुआ?
बीती शाम अजित पवार और प्रफुल्ल पटेल ने दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ एक घंटे तक चर्चा की। इस बैठक में कैबिनेट विस्तार और विभागों के बंटवारे को लेकर चर्चा हुई। बैठक के बाद यह जानकारी सामने आई कि सभी मुद्दों को हल कर लिया गया है। इस बैठक में मंत्री पद को लेकर 4-4-2 फॉर्मूला तय किया गया है। जिसके मुताबिक मंत्रिमंडल विस्तार होगा। एक तरफ एकनाथ शिंदे गुट, अजित पवार को वित्त मंत्री का पद देने के खिलाफ था। साथ ही, सहकारिता एवं ग्रामीण विकास मंत्रालय को लेकर भी विवाद कम नहीं हो रहा था। आखिरकार बुधवार की शाम अजित पवार और प्रफुल्ल पटेल दिल्ली पहुंचे और मामले को सुलझाया गया।

‘हर हाल में NCP और शरद पवार के साथ’, अजित पवार और प्रफुल्ल पटेल की वापसी पर अनिल देशमुख ने कही बड़ी बात

महाराष्ट्र में ‘कलंक’ शब्द को लेकर मचा बवाल, बीजेपी नेता संजय पांडेय ने उद्धव ठाकरे पर लगाए गंभीर आरोप

इस 4-4-2 के फॉर्मूले के मुताबिक बीजेपी और एकनाथ शिंदे गुट को चार- चार मंत्री पद मिलेंगे। जबकि एनसीपी को दो मंत्री पद मिलेंगे। यानी आगामी मंत्रिमंडल विस्तार में कुल 10 मंत्री शपथ लेंगे। बीजेपी और शिंदे गुट के कैबिनेट में पहले से ही 10-10 मंत्री हैं। इस लिहाज से दोनों पार्टियों के मंत्रियों की संख्या 14-14 होगी। जबकि एनसीपी के कैबिनेट में 9 मंत्री हैं। उन्हें दो मंत्रीपद मिलने से यह संख्या बढ़कर 11 हो जाएगी।

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News