‘बीजेपी की नाक में दम हो जाएगा, सितंबर में सिरदर्द और बढ़ेगा…’ जदयू MLC ने बताया नीतीश का प्लान

0
‘बीजेपी की नाक में दम हो जाएगा, सितंबर में सिरदर्द और बढ़ेगा…’ जदयू  MLC ने बताया नीतीश का प्लान

‘बीजेपी की नाक में दम हो जाएगा, सितंबर में सिरदर्द और बढ़ेगा…’ जदयू MLC ने बताया नीतीश का प्लान

ऐप पर पढ़ें

इंडिया गठबंधन की मुबंई बैठक से पहले ही सियासी बयानबाजी तेज हो गई है। बीजेपी जहां विपक्षी गठबंधन को फ्लॉप बता रहा है। वहीं जेडीयू के एमएलसी नीरज कुमार ने बीजेपी पर जमकर निशाना साधा, और कहा कि मुंबई की बैठक के बाद तो भाजपा की नाक में दम हो जाएगा, राजनीति सिरदर्द और बढ़ जाएगा। अभी इन्हें कहां पता है कि नीतीश कुमार की रणनीति क्या है, और कांग्रेस का प्लान क्या है।

जदयू एमएलसी नीरज कुमार ने कहा कि सबसे अहम बात ये है कि आजाद हिन्ंदुस्तान में पहली बार किसी को हटाने और लाने के लिए गठबंधन नहीं हो रहा। बल्कि लोकतांत्रिक मूल्यों, संवैधानिक संस्थाओं के संरक्षण और संघीय ढांचे के अपमान के आधार पर देश की राजनीतिक पार्टियों ने इंडिया नाम का गठबंधन बनाया है। अंबेडकर ने कहा था इंडिया इज द भारत। 

बीजेपी का सियासी सिरदर्द बढ़ने वाला है- नीरज कुमार

उन्होने कहा कि हर पार्टी को अपना विस्तार करने का अधिकार है। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे से लेकर आम आदमी पार्टी के संजय सिंह ने कहा है कि हम सब मिलकर चुनाव लड़ेंगे। राज्यों के अदर जो अंर्तविरोध हैं, उसे समय रहते पाट दिया जाएगा। इंडिया एकजुट होकर चुनाव लड़ेगा, और हमारी इच्छा है एक सीट पर एक उम्मीदवार की फाइट हो।

नीरज कुमार ने हमला बोलते हुए कहा कि अभी गठबंधन का स्वरूप तो उभरने दीजिए। इनकी नाक में दम हो जाएगा, परेशान हो जाएंगे, अभी कहां पता है कि नीतीश कुमार की रणनीति क्या है, कांग्रेस की रणनीति क्या है।मुंबई की बैठक के बाद देखिएगा सितंबर महीना में इन लोगों का राजनीतिक सिरदर्द बढ़ने वाला है। वहीं यूपी से लोकसभा चुनाव लड़ने की अटकलों पर नीरज कुमार ने कहा कि नीतीश कुमार और हमारी पार्टी के किसी पदाधिकारी ने दावा नहीं किया कि वो पीएम के उम्मीदवार है, और यूपी से चुनाव लड़ने वाले हैं। वो तो मीडिया कयास लगाती रहती है, क्योंकि नीतीश कुमार के बिना कोई न्यूज बनती ही नहीं है। 

विपक्ष की आवाज हैं नीतीश कुमार- जेडीयू

नीतीश कुमार विपक्ष की आवाज है, जब उन्होने विपक्षी एकता की गोलबंद शुरू की थी, तो उसका असर ये हुआ कि कर्नाटक में बीजेपी हार गई, राजस्थान और एमपी में भी बीजेपी की विदाई तय है। नीतीश कुमार सीएम जरूर हैं, लेकिन राष्ट्रीय फलक पर उनकी स्वीकारिता है। बिहार के ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार के बयान पर कहा कि उनके बयान का मतलब ये है कि अलग-अलग जगहों के लोगों की आकांक्षाएं हैं। कि नीतीश कुमार चुनाव लड़ें, इस संबंध में तो राष्ट्रीय नेतृत्व तय करेगा। इस आधार हम पीएम के उम्मीदवार नहीं।

हमारी इच्छा है लोकसभा में वन टू वन मुकाबला हो। आपको बता दें इससे पहले बिहार बीजेपी के अध्यक्ष सम्राट चौधरी ने मुंबई बैठक पर तंज कसते हुए कहा था कि एनडीए छोड़कर नीतीश कुमार पीएम बनना चाहते थे, अब उनको एक टोला का मुखिया बनाया  जाएगा, मतलब दो तीन राज्यों का संयोजक बनने जा रहे हैं। 

बिहार की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Delhi News