बिजली कर्मचारियों की हड़ताल ने बढ़ाई परेशानी, कई क्षेत्रों में दिन भर गुल रही बिजली

0
11

बिजली कर्मचारियों की हड़ताल ने बढ़ाई परेशानी, कई क्षेत्रों में दिन भर गुल रही बिजली



भोपाल. बिजली कर्मचारियों के संगठन की हड़ताल का असर शुरू हो गया है। मंगलवार को शहर के कई क्षेत्रों में बिजली गुल की शिकायतों को दूर करने के लिए कर्मचारियों की कमी महसूस की गई। अशोका गार्डन क्षेत्र में ही सुबह गुल हुई बिजली को दुरुस्त करने के लिए देर शाम तक कोई नहीं पहुंचा था। लोगों को प्राइवेट इलेक्ट्रिशियन को बुलाकर फेस बदलवाने पड़े तब आपूर्ति बहाल हो पाई। हालांकि बिजली कंपनी प्रबंधन सब कुछ सुचारू होने की बात कह रहा है। आउटसोर्स के 59 कर्मचारियों को इस बीच कंपनी ने बर्खास्त भी कर दिया। यह लगातार तीन दिन से काम से अनुपस्थित थे। बिजली कंपनी प्रबंधन का कहना है कि नए कर्मचारियों की भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी गई है और जल्द ही स्टाफ की कमी को पूरा कर दिया जाएगा। हालांकि हड़ताल आगे बढ़ती है तो बिजली आपूर्ति बहाल बनाए रखने और शिकायतों के समय पर निराकरण करने में समस्या भी बढ़ सकती है। बिजली कंपनी को या तो हड़ताली कर्मचारियों को तुरंत काम पर लौटाना होगा या फिर उनकी जगह पर वैकल्पिक पुख्ता इंतजाम करने होंगे। आउटसोर्स कर्मचारियों के साथ ही संविदा और यूनाइटेड फोरम के कर्मचारी भी हड़ताल में शामिल है। गौरतलब है कि 21 जनवरी से हड़ताल की जा रही है। मंगलवार से इस हड़ताल को यूनाइटेड फोरम ने भी समर्थन दिया। भोपाल समेत पूरे मध्यप्रदेश में हड़ताल जारी है। वेतन विसंगति दूर करने समेत कर्मचारियों को ठेका प्रथा से मुक्त करने की प्रमुख मांगे हैं।

प्रमुख सचिव से मिले
हड़ताली कर्मचारी संगठन के प्रतिनिधि मंडल ने मंगलवार को प्रमुख सचिव ऊर्जा संजय दुबे से मुलाकात भी की। उन्हें अपनी मांगों को बारे में बताया। हालांकि यहां पर कुछ सकारात्मक निर्णय नहीं हो पाया। आउटसोर्स कर्मचारी संगठन के मनोज भार्गव का कहना है कि बुधवार से अब निर्णायक तरीके से हड़ताल शुरू की जाएगी। अब तक जो थोड़ा बहुत काम चल रहा था संभवत बुधवार से उसमें कमी हो। हड़ताल का बिजली उपभोक्ताओं पर ज्यादा असर नजर आएगा। गौरतलब है कि कर्मचारियों पर अंतिम निर्णय मुख्यमंत्री व उनकी कैबिनेट को लेना है। ऐसे में अब कर्मचारी बिजली उपभोक्ताओं से जुड़े मामलों को ठप करने की कोशिश में है, ताकि प्रदेश में बिजली संकट और बिजली गुल की स्थिति नजर आए।

व्यवस्थाएं की हैं
काफी हद तक वैकल्पिक व्यवस्थाएं कर ली हैं। कंप्यूटर ऑपरेटर से लेकर सब स्टेशन संचालन के लिए जरूरी कर्मचारियों को भी रखा गया है। नई भर्ती की कोशिश की जा रही है, ऐसे में दिक्कत वाली कोई बात नहीं होगी।

जाहिद खान, महाप्रबंधक भोपाल सिटी सर्कल

उमध्यप्रदेश की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Madhya Pradesh News