पैन-इंडिया होगी हाइब्रिड एजुकेशन सिस्टम की शुरुआत | Pan-India hybrid education system will be launched | Patrika News

0
7

पैन-इंडिया होगी हाइब्रिड एजुकेशन सिस्टम की शुरुआत | Pan-India hybrid education system will be launched | Patrika News

संयुक्त रक्षा सेवा परीक्षा, वायु सेना, आम प्रवेश परीक्षा, राष्ट्रीय रक्षा अकादमी और नौसेना अकादमी परीक्षा तथा भारतीय तट रक्षा गार्ड नाविक टेस्ट जैसी परीक्षाओं में शामिल होने के इच्छुक अभ्यर्थियों की तैयारी करवाने में सक्रिय भूमिका निभाने के उददेश्य से उत्कर्ष क्लासेस एंड एडुटेक ने अपनी हाइब्रिड शिक्षा प्रणाली के साथ जोधपुर में 17वां ऑफलाइन सेंटर शुरू किया।

जयपुर

Published: July 27, 2022 01:13:37 pm

संयुक्त रक्षा सेवा परीक्षा, वायु सेना, आम प्रवेश परीक्षा, राष्ट्रीय रक्षा अकादमी और नौसेना अकादमी परीक्षा तथा भारतीय तट रक्षा गार्ड नाविक टेस्ट जैसी परीक्षाओं में शामिल होने के इच्छुक अभ्यर्थियों की तैयारी करवाने में सक्रिय भूमिका निभाने के उददेश्य से उत्कर्ष क्लासेस एंड एडुटेक ने अपनी हाइब्रिड शिक्षा प्रणाली के साथ जोधपुर में 17वां ऑफलाइन सेंटर शुरू किया। उत्कर्ष क्लासेस के संस्थापक डॉ. निर्मल गहलोत ने कहा कि हम अपने पाठ्यक्रमों में विस्तार करने की दिशा में अग्रसर हैं तथा ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों माध्यमों से विद्यार्थियों को विविध पाठ्यक्रम प्रदान कर रहे हैं। वर्तमान में, राजस्थान के जयपुर व जोधपुर में 17 केंद्रों के साथ हमारी सशक्त ऑफलाइन उपस्थिति है, जिसे आगे बढ़ाते हुए हम अगले चरण में मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार और हरियाणा में भी अपनी ऑफलाइन उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं। इस योजना के अंतर्गत इन राज्यों में डिजिटल स्टूडियो को विस्तारित करते हुए टियर 2 और 3 शहरों में 100 से अधिक ऑफलाइन कोचिंग सेंटर खोलना शामिल है, जोकि वहां के विद्यार्थियों एवं अभिभावकों तक ऑफलाइन पहुंच में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।
एडुटेक उद्योग में छंटनी के बाद उत्कर्ष क्लासेस ने साल 2023 में विशेष रूप से टियर 2 और 3 शहरों में शिक्षक भर्ती की योजना बनाई है, जिसके अंतर्गत अखिल भारतीय स्तर पर श्रेष्ठ शिक्षकों के चयन हेतु यूट्यूब पर ‘टीचिंग टैलेंट हंट’ अभियान की शुरुआत की है। शिक्षक वर्ग के अलावा कंपनी में वरिष्ठ नेतृत्व एवं अन्य कर्मचारियों सहित 500 सदस्यों की भर्ती करने की भी योजना है। उत्कर्ष क्लासेस में वर्ष 2018 में ऑनलाइन कोर्सेस में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों की संख्या 6000 थी, परन्तु वर्तमान में लगभग 1.5 मिलियन है और लगभग 27,000 ऑफलाइन विद्यार्थी हैं, जो विभिन्न पाठ्यक्रमों के साथ सरकारी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में जुटे हुए हैं।
गहलोत ने कहा कि निकट भविष्य में एजुकेशन, हाइब्रिड मॉडल के साथ मौजूदा गति से और अधिक तेज होने की उम्मीद है, क्योंकि वे विद्यार्थी और अभिभावक जो ऑफलाइन कोचिंग लेने में असमर्थ हैं, वे ऑनलाइन माध्यम का विकल्प चुन सकते हैं। हाइब्रिड लर्निंग मॉडल में स्टूडियो बनाकर कक्षाओं को अधिक आकर्षक, व्यावहारिक और सुलभ बनाकर विद्यार्थियों के सीखने की क्षमता को बढ़ाया सकता है। हम शिक्षा के तेजी से आगे बढ़ते युग में हैं जहां कक्षाओं या पाठ्यपुस्तकों से सीखने तक ही सीमित नहीं हैं और इसलिए हाइब्रिड लर्निंग एनवायरनमेंट शिक्षा का एक अभिन्न अंग बनता जा रहा है। जैसे-जैसे हम शिक्षा को सुलभ बनाने की कल्पना करते हैं तो देश भर के शिक्षक ऑनलाइन माध्यम से छात्रों से जुड़ने के सर्वोत्तम तरीकों की तलाश कर रहे हैं, लेकिन पारंपरिक कक्षाओं में वापस जाने के बजाय, हम हमारे विद्यार्थियों की जरूरतों को पूरा करने के लिए विभिन्न शैक्षणिक मॉडल्स का निर्माण कर रहे हैं।

Copy

पैन-इंडिया होगी हाइब्रिड एजुकेशन सिस्टम की शुरुआत

newsletter

अगली खबर

right-arrow



राजस्थान की और समाचार देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Rajasthan News