पाम तेल 13 महीने के निचले स्तर पर | Palm oil at 13-month low | Patrika News

0
107

पाम तेल 13 महीने के निचले स्तर पर | Palm oil at 13-month low | Patrika News

इंदौर में पाम तेल 1275 के स्तर पर

इंदौर

Published: July 26, 2022 06:03:07 pm

इंदौर. उत्पादन बढऩे व निर्यात मांग में कमी के कारण पाम तेल की कीमतें 13 महीने के निचले स्तर पर आ गई है। बर्सा मलेशिया डेरिवेटिव एक्सचेंज पर, अक्टूबर डिलीवरी के लिए कच्चा पाम तेल 3,646 मलेशियाई रिंगित (एमवायआर) प्रति टन (818.68 डॉलर) पर शासन किया, जो 28 जून, 2021 के बाद सबसे कम है। कीमतें 7,000 एमवायआर ($ 1,571.80) के शिखर से 40 प्रतिशत कम हैं।
स्थानीय बाजार घटे भाव पर तेलों में लेवाली कमजोर बनी हुई है। सूत्रों का कहना है कि सरकारी रणनीतियों व पाम तेल में आई गिरावट से घरेलू स्तर पर खाद्य तेलों में तेजी के आसान नजर नहीं आ रहे है। अमरीका में गर्म व शुष्क मौसमी दशाओं से सोयाबीन की फसल पर असर पडऩे की चिंता बढ़ गई है। फसल खराब होने से कम पैदावार होगी जोकि बाजार में तेजी के कारक है। खासतौर से जब अगस्त में फली विकास के चरण होगा और उस समय मौसम प्रतिकूल रहने का पूर्वानुमान निश्चित तौर पर चिंता का सबब है। सीबीओटी अगस्त सोयाबीन 38-1/2 सेंट चढक़र 14.73 डॉलर प्रति बुशल पर बंद हुआ, जबकि नवंबर सोयाबीन 30-1/4 सेंट चढक़र 13.46 डॉलर प्रति बुशल पर बंद हुआ। सीबीओटी का सबसे सक्रिय दिसंबर सोया तेल वायदा 0.32 सेंट की गिरावट के साथ 57.55 सेंट प्रति पौंड पर बंद हुआ, जबकि सीबीओटी दिसंबर सोयामील 17.10 डॉलर बढक़र 399.10 डॉलर प्रति शॉर्ट टन हो गया। अमरीकी निर्यातकों ने 21 जुलाई को समाप्त सप्ताह के दौरान निर्यात के लिए 388,212 टन सोयाबीन का सौदा किया है। यूएसडीए द्वारा जारी यह आंकड़ा पिछले सप्ताह से 11.13 फीसदी कम है। उधर, एनएसएस के अनुसार, 24 जुलाई, 2022 तक अमरीका में 64 फीसदी सोयाबीन की फसल खिली हुई पाई गई जबकि 26 फीसदी में फली लगी हुई थी। हालांकि यह आंकड़ा औसत क्रमश: 69 फीसदी एवं 34 फीसदी से कम है। नास के मुताबिक 59 फीसदी फसल अच्छी स्थिति में थी जबकि पिछले सप्ताह 61 फीसदी फसल अच्छी स्थिति में पाई गई थी।
ब्राजील का सोया निर्यात बढऩे की संभावना
चालू वर्ष के दौरान ब्राजील से 772 लाख टन सोयाबीन का निर्यात होने की संभावना है, जबकि अगले वर्ष 2023 में यह तेजी से उछलकर 915 लाख टन के नए रेकॉर्ड स्तर पर पहुंच सकता है क्योंकि किसान विशाल क्षेत्रफल में इसकी बिजाई की तैयारी कर रहे है। मालूम हो कि कैटिन अमरीका में अवस्थित ब्राजिल दुनिया में सोयाबीन का सबसे बड़ा उत्पादक एवं निर्यातक देश है। ब्राजिल में सोयाबीन की कुल क्रशिंग चालू वर्ष की संभावित मात्रा 479 लाख टन से बढक़र अगले साल 495 लाख टन पर पहुंच सकती है। सोयाबीन का कुल उत्पादन 18 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 1545.30 लाख टन के सर्वकालीन सर्वोच्च स्तर पर पहुंचने की अनुमान लगाया गया है।
लूज तेल (प्रति दस किलो) : इंदौर मंूगफली तेल 1630 से 1650, मुंबई मूंगफली तेल 1640, इंदौर सोयाबीन रिफाइंड 1215 से 1220, इंदौर सोयाबीन साल्वेंट 1185 से 1190, मुंबई सोया रिफाइंड 1230, मुंबई पाम तेल 1200, इंदौर पाम 1275, राजकोट तेलिया 2550, गुजरात लूज 1600, कपास्या तेल इंदौर 1385 रुपए।
तिलहन : सरसों 6000 से 6200, रायड़ा 5900 से 6100, टोली 4100 से 4150, सोयाबीन 5700 से 6180 रुपए क्विंटल। सोयाबीन डीओसी स्पॉट 49900 से 51700 रुपए टन।
प्लांटों के सोयाबीन भाव : बैतूल 6350, महाकाली 6275, लक्ष्मी 6250, कास्ता 6200, सांवरिया 6150, रुचि 6200, धानुका 6275, एमएस नीमच 6200, पचोर 6225, प्रकाश 6300, सिवनी 6100 व एवी 6225 रुपए।
कपास्या खली ( 60 किलो भरती) बिना टेक्स भाव – इंदौर 2250, देवास 2250, उज्जैन 2250, खंडवा 2225, बुरहानपुर 2225, अकोला 3150 रुपए।

Copy

पाम तेल 13 महीने के निचले स्तर पर

newsletter

अगली खबर

right-arrow



उमध्यप्रदेश की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Madhya Pradesh News