पांडव नगर हत्याकांड: पुलिस ने आरोपी मां-बेटे के साथ घटनास्थल पर क्राइम सीन को रीक्रिएट किया, शव की DNA जांच के लिए बिहार से बुलाए गए परिजन

0
118

पांडव नगर हत्याकांड: पुलिस ने आरोपी मां-बेटे के साथ घटनास्थल पर क्राइम सीन को रीक्रिएट किया, शव की DNA जांच के लिए बिहार से बुलाए गए परिजन

विशेष संवाददाता, पांडव नगरः पांडव नगर इलाके में अंजन दास की हत्या करने और उसके शव के कई टुकड़े करने के लिए आरोपी मां-बेटे ने जिन हथियारों का इस्तेमाल किया था, अब तक उनका पता नहीं लग पाया है। पुलिस ने आरोपी मां-बेटे के साथ घटनास्थल का क्राइम सीन रीक्रिएट किया। सूत्रों का कहना है कि प्लानिंग के तहत आरोपियों ने 30 मई की रात को अंजन दास को शराब में नींद की गोलियां मिलाकर पिला दी थीं।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, आरोपी मां-बेटे ने पूछताछ में खुलासा किया है कि उन्होंने अंजन की हत्या के बाद उसके शव के करीब 10-12 टुकड़े कर दिए थे। जिन्हें पांडव नगर स्थित रामलीला ग्राउंड की झाड़ियों में और न्यू अशोक नगर के गंदे नाले में फेंके थे। पुलिस को सिर्फ रामलीला ग्राउंड से ही अंजन के शव के कुछ अवशेष मिले थे। जिसमें हाथ-पैरों के टुकड़े और सिर था। ये सभी सड़ी-गली अवस्था में मिले थे। पोस्टमॉर्टम के बाद इन्हें एफएसएल भेज दिया गया था। पुलिस ने मंगलवार को शव के बाकी अवशेष बरामद करने के लिए नाले में सर्च ऑपरेशन चलाया। मगर यहां से अभी तक पुलिस को कुछ नहीं मिला है।

न नाम, न पहचान, 10 टुकड़ों में मिला शव, दिल्ली पुलिस ने कैसे सुलझाई पांडव नगर हत्याकांड की गुत्थी, यहां जानिए सबकुछ
दिल्ली पुलिस के सूत्रों का कहना है कि अंजन दास के परिजनों को बुलाया गया है। वे बिहार से ट्रेन में बैठकर दिल्ली के लिए रवाना हो चुके हैं। इसके बाद अंजन का डीएनए मिलाया जाएगा। पुलिस अंजन के सिर की थ्री-डी मैपिंग भी कराएगी। आरोपी मां-बेटे चार दिन की रिमांड पर हैं। आरोपियों ने त्रिलोकपुरी ब्लॉक-4 के जिस घर में अंजन की हत्या की थी, लोकल पुलिस एफएसएल की टीम के साथ उस घर में पहुंची। आरोपियों ने हत्या के बाद शव के टुकड़ों को एक फ्रिज में रखने की बात कही थी। एफएसएल टीम देर शाम तक मृतक के कमरे पर मौजूद रही और यहां फ्रिज और कमरे के फर्श से खून के नमूने तलाशे।

चार दिन के रिमांड पर मां-बेटे
दूसरी ओर, इस जघन्य वारदात को अंजाम देने वाले मां-बेटे अब एक-दूसरे साथ भी ब्लेम गेम खेलने लगे हैं। आरोपी पूनम कह रही है कि दीपक ने अंजन को मारा है, जबकि दीपक कह रहा है कि उसने मां के कहने पर ही वारदात को अंजाम दिया है। दोनों की सहमति पर ही हत्या करने की योजना बनी थी। पुलिस सूत्रों ने बताया कि क्राइम ब्रांच की ओर से मामले का खुलासा करने के बाद दोनों आरोपियों को पुलिस हेड क्वार्टर से ही पांडव नगर थाने भेजकर कस्टडी उन्हें सौंप दी थी। पांडव नगर पुलिस ने दोनों आरोपियों को सोमवार को ही कड़कड़डूमा कोर्ट में पेश कर के सात दिन के पुलिस रिमांड की मांग की थी। जिस पर कोर्ट ने पुलिस को चार दिन के रिमांड पर दिया है। पुलिस लगातार दोनों से पूछताछ कर रही है। दोनों को अलग-अलग बैठाकर पूछताछ की जा रही है। जिससे पता चल सके वह कितना सच बोल रहे हैं। इसके अलावा पुलिस टीम न्यू अशोक नगर के उस नाले में सर्च ऑपरेशन चलवा रही है, जहां आरोपियों ने लाश के बाकी टुकड़े फेंकने दावा किया है।

navbharat times -रोज फ्रिज से लाश का एक टुकड़ा निकालते थे मां-बेटा… पांडव नगर में श्रद्धा जैसे मर्डर केस की पूरी कहानी
घर के बाकी सदस्य भी रडार पर
यह भी बताया गया है कि क्राइम ब्रांच की पूछताछ में आरोपियों ने खुलासा किया है कि वारदात के बारे में परिवार के बाकी लोगों को नहीं पता था। ऐसे में पुलिस मानकर चल रही है कि यह भी हो सकता है कि आरोपी घर के बाकी लोगों को बचाने के लिए झूठ बोल रहे हों। क्योंकि परिवार ने अंजन के अचानक गायब होने और फिर उसके तुरंत बाद घर में बिना वजह पेंट करवाने पर उन्होंने उनसे सवाल जवाब जरूर करे होंगे। पुलिस दीपक की पत्नी व बहनों को भी पूछताछ के लिए बुलाने की तैयारी कर रही है।

दिल्ली की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Delhi News