नीतीश के ट्रिपल ‘M’ का क्या है रहस्य? 2024 लोकसभा चुनाव को लेकर JDU कर रही है इस प्लानिंग पर काम

0
144

नीतीश के ट्रिपल ‘M’ का क्या है रहस्य? 2024 लोकसभा चुनाव को लेकर JDU कर रही है इस प्लानिंग पर काम

नीलकमल, पटना : बिहार में आरजेडी के साथ मिलकर महागठबंधन की सरकार का नेतृत्व कर रहे नीतीश कुमार पहले ही ऐलान कर चुके हैं कि 2024 लोकसभा चुनाव में केंद्र की सत्ता से बीजेपी को बाहर करके ही दम लेंगे। इसके लिए नीतीश कुमार ने प्रयास भी शुरू कर दिया था। लेकिन, पिछले कुछ महीनों से उनके विपक्षी दलों को एकजुट करने की मुहिम ठंडी पड़ी हुई है। हालांकि जेडीयू के सूत्र बताते हैं कि नीतीश कुमार दिसंबर महीने से ही अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए फिर से यात्रा पर निकलने वाले हैं। सूत्र से मिली जानकारी के अनुसार जेडीयू इस बार ‘मैन टू मैन मार्किंग’ यानी ट्रिपल एम के तहत विपक्षी दलों को बीजेपी के खिलाफ उतारना चाहती है।

क्या है ‘मैन टू मैन मार्किंग’

मैन-टू-मैन मार्किंग का प्रयोग फुटबॉल के खेल में किया जाता है। इसके तहत जब कोई टीम किसी विरोधी टीम के मुकाबले कमजोर होती है, तो वो विरोधी टीम के बेहतर खिलाड़ी के पीछे अपने दो खिलाड़ी को लगा देते हैं। इसका मतलब ये होता है कि विपक्षी टीम के खिलाड़ी उस खिलाड़ी को गोलपोस्ट की ओर बॉल ले जाने से रोकते हैं। यानी, मजबूत टीम के मजबूत खिलाड़ी के पीछे अपने टीम के दो खिलाड़ी को लगाकर उसे गेंद लेकर आगे नहीं बढ़ने देते और इसी के दम पर या तो वह उस टीम को हरा देते हैं या फिर मुकाबला बराबरी पर छूटता है।

‘क्या अब तेजस्वी यादव की पालकी ढोएंगे उपेंद्र कुशवाहा’, बीजेपी ‘जमीर’ जगाने की फिराक में

JDU भी कर रही है 2024 तैयारी

जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी का कहना है कि पार्टी ‘नीतीश -2024’ मिशन के तहत काम कर रही है। जेडीयू के राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी के अनुसार योजना यह बनाई गई है कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी के एक उम्मीदवार के पीछे विपक्ष का एक उम्मीदवार ही हो। उन्होंने यह भी कहा कि इसी के तहत उत्तर प्रदेश में हो रहे उपचुनाव में भी सभी विपक्षी दलों को अपने-अपने उम्मीदवार ना उतरने की सलाह दी गई थी। उन्होंने बताया कि उनसे यह कहा गया था कि विपक्ष का एक ही उम्मीदवार हो जिसका समर्थन विपक्ष की तमाम पार्टियां करें। इसी के तहत समाजवादी पार्टी के खिलाफ उत्तर प्रदेश में के उपचुनाव में SP के अलावा किसी राजनीतिक दल ने अपना उम्मीदवार नहीं उतारा।

navbharat times -Kurhani Upchunav: कुढ़नी उपचुनाव में प्रचार के लिए मैदान में उतरेंगे नीतीश-तेजस्वी-मांझी और ललन, जानिए महागठबंधन का प्लान ‘B’

नीतीश भी निकलेंगे भारत यात्रा पर ?

एक तरफ कांग्रेसी नेता राहुल गांधी कि भारत जोड़ो यात्रा चल रही है। दूसरी तरफ विपक्ष को एकजुट करने का लक्ष्य लेकर अब नीतीश कुमार भी भारत यात्रा पर निकलने वाले हैं। आपको बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार यह कह चुके हैं कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने 8 साल में कुछ काम नहीं किया है। सिर्फ, प्रचार किया है। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा है कि 2024 में वह केंद्र की सत्ता से बीजेपी को हटा कर ही दम लेंगे। इसके लिए वे विपक्ष की तमाम पार्टियों को एकजुट करेंगे। गौरतलब है कि 2022 अगस्त में आरजेडी के साथ मिलकर महागठबंधन की सरकार बनाने वाले नीतीश कुमार ने इसके लिए प्रयास करना भी शुरू कर दिया था। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शरद पवार, अरविंद केजरीवाल, सोनिया गांधी समेत कई अन्य नेताओं से मिलकर विपक्ष की एकजुटता के लिए बातचीत कर चुके हैं। दो महीने बाद नीतीश कुमार फिर से विपक्ष को एकजुट करने की मुहिम में लगने वाले हैं। सूत्रों ने बताया कि इसके लिए मुख्यमंत्री नीतीश क्या कार्यक्रम तय किया जा रहा है। इसके तहत दिसंबर के महीने में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भारत यात्रा शुरू हो सकती है। अपनी यात्रा के दौरान नीतीश कुमार विपक्षी नेताओं से मिलकर 2024 लोकसभा चुनाव में केंद्र की सत्ता से बीजेपी को हटाने की रणनीति पर विचार विमर्श करेंगे।

navbharat times -राजनीति के ‘घाघ’ गलियारे से निकले हैं नीतीश, JDU में जारी सियासी घमासान से पहले ही ले चुके हैं राष्ट्रीय अध्यक्ष पर फैसला!

भारत यात्रा पर निकलेंगे नीतीश कुमार ?

लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर नीतीश कुमार और उनकी पार्टी कई योजनाओं पर काम कर रही है। सूत्र बताते हैं कि बीजेपी से अलग होने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अब केंद्र की सत्ता से बीजेपी को बेदखल करना चाहते हैं। हालांकि, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कई बार यह बात कह चुके हैं कि वह प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नहीं है। लेकिन उनकी पार्टी के कई नेता यह कह चुके हैं कि 2024 में प्रधानमंत्री पद के लिए नीतीश कुमार से बेहतर चेहरा विपक्ष के पास नहीं है। तो क्या नीतीश कुमार अब प्रधानमंत्री बनने की चाहत में बिहार की बागडोर लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव को सौंप कर भारत यात्रा पर निकलेंगे ? क्योंकि, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तेजस्वी यादव की ओर इशारा कर कई बार यह कह चुके हैं कि अब इसे आगे बढ़ाना है। तो क्या यह मान लिया जाए कि दिसंबर के महीने में ही तेजस्वी यादव की ताजपोशी हो जाएगी ? क्या मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार की गद्दी तेजस्वी यादव को सौंप कर 2024 के लिए विपक्ष को एकजुट करने की मुहिम के तहत भारत यात्रा पर निकलेंगे ?

navbharat times -तेजस्वी यादव ‘बेचैन’ हैं? बीजेपी बोली- नीतीश कुमार की महीन सियासत में ‘फंस’ गए डेप्युटी सीएम!

8 दिसंबर का सभी कर रहे हैं इंतजार

बिहार की राजनीति के लिए 8 दिसंबर 2022 बहुत महत्वपूर्ण है। इसी दिन जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव होना है। हालांकि, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार राज्य कार्यकारिणी की बैठक में यह कह चुके हैं कि राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ही राष्ट्रीय अध्यक्ष बने तो बेहतर होगा। इसके अलावा 8 दिसंबर को हिमाचल प्रदेश और गुजरात के चुनाव परिणाम भी आएंगे। इन दोनों राज्यों में से अगर एक भी राज्य बीजेपी के हाथ से फिसलती है, तो नरेंद्र मोदी को हटाने की कोशिश में थक चुकी विपक्ष में नई जान आ जाएगी। गुजरात और हिमाचल प्रदेश के अलावा बिहार के मुजफ्फरपुर जिला के कुढ़नी विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव के परिणाम भी 8 दिसंबर को ही आएंगे। अगर इस सीट पर महागठबंधन की हार होती है तो यह मान लिया जाएगा कि बिहार की जनता ने लालू नीतीश की जोड़ी को स्वीकार नहीं किया है।

बिहार की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Delhi News