नकली है टीम इंडिया का कॉन्फिडेंस, हरभजन सिंह ने तो BCCI की बैंड बजाकर रख दी

13
नकली है टीम इंडिया का कॉन्फिडेंस, हरभजन सिंह ने तो BCCI की बैंड बजाकर रख दी


नकली है टीम इंडिया का कॉन्फिडेंस, हरभजन सिंह ने तो BCCI की बैंड बजाकर रख दी

नई दिल्ली: वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल के लिए टीम इंडिया जब इंग्लैंड पहुंची थी तो वह आत्मविश्वास से लबालब नजर आई थी। आत्मविश्वास में होने का कारण भी स्पष्ट था। हाल ही में समाप्त हुई इंडियन प्रीमियर लीग में उसके शीर्ष बल्लेबाजों शुभमन गिल और विराट कोहली ने जोरदार बल्लेबाजी की थी। शीर्ष क्रम के बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा पिछले करीब दो महीनों से इंग्लैंड में थे और काउंटी क्रिकेट में खूब रन बना रहे थे। आत्मविश्वास की एक और सबसे बड़ी वजह वह सीरीज जीत थी जो उसने इसी ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाफ अपने घरेलू मैदान पर पिछली टेस्ट सीरीज में हासिल की थी। हालांकि पूर्व भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह ने टीम इंडिया के इस आत्मविश्वास को फेक कॉन्फिडेंस (नकली आत्मविश्वास) का नाम दिया है।

भारत में खेली गई पिछली टेस्ट सीरीज में
(IND v AUS)

टेस्ट कुल ओवर भारतीय पेसर्स मैच चला रिजल्ट
नागपुर टेस्ट 96.2 21.3 तीन दिन भारत जीता
दिल्ली टेस्ट 109.5 26.4 तीन दिन भारत जीता
इंदौर टेस्ट 95.2 13 तीन दिन ऑस्ट्रेलिया जीता
अहमदाबाद टेस्ट 245.3 69 पांच दिन ड्रॉ

स्पिन फ्रेंडली पिच के बादशाह
डब्ल्यूटीसी फाइनल में भारत की हार के बाद इस पूर्व ऑफ स्पिनर ने वो मुद्दे उठाए जिसकी चर्चा कम ही होती है। हरभजन ने कहा कि भारत की स्पिन फ्रेंडली पिचों पर तीन दिन के भीतर खत्म होने वाले टेस्ट मैच खेल कर बड़े मुकाबलों की तैयारी नहीं की जा सकती। हरभजन ने कहा, ‘आप उन खराब विकटों पर जहां पर ढाई दिन का मैच होता है, जहां पहली गेंद से ही बॉल टर्न लेने लगती है वहां पर मैच खेलकर और जीतकर आप अपने आप को फेक कॉन्फिडेंस नहीं दे सकते। मुझे माफ कीजिए। आपको पांच दिन तक मेहनत करने की आदत डालनी होगी। आप मेहनत करके आएंगे तो आप बड़े मैचों के लिए खुद को अच्छी तरह से तैयार पाएंगे। टीम इंडिया के फास्ट बोलर्स इंडिया में बोलिंग ही नहीं करते। स्पिनर पहले ही ओवर से आते हैं। मुझे लगता है कि हमें किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले बहुत चीजों को ध्यान में रखना होगा और बहुत चीजें सुधारनी होंगी।’

बेस्ट ऑफ थ्री फाइनल में हो WTC, रोहित शर्मा को मिला दीप दासगुप्ता का सपोर्ट

घर पर जीतकर पहुंचे फाइनल
वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल से पहले भारत ने घरेलू मैदान पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज खेली थी। चार टेस्ट मैचों की पूरी सीरीज स्पिनिंग ट्रैक पर खेली गई, जहां भारतीय स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (25 विकेट), रविंद्र जडेजा (22 विकेट) और ऑस्ट्रेलियाई स्पिनर नाथन लियोन (22 विकेट) सर्वाधिक विकेट लेने के मामले में शीर्ष तीन गेंदबाज रहे। इस टेस्ट सीरीज के टेस्ट मैचों की पहली पारी में तो पेसर्स को कुछ ओवर्स करने को भी मिले, लेकिन दूसरी पारी में उनके हिस्से के ओवर्स दहाई में भी नहीं पहुंचे।

IPL के पैसों से ज्यादा टेस्ट क्रिकेट अहम, मिचेल स्टार्क का यह बयान सुनकर भारतीय क्रिकेटर्स को शर्म आनी चाहिए



Source link