नई वंदेभारत एक्सप्रेस का ट्रायल शुरू, 180 की स्पीड से दौड़ेगी 75 ट्रेन | indian railways start new vande bharat train trial | Patrika News

0
26

नई वंदेभारत एक्सप्रेस का ट्रायल शुरू, 180 की स्पीड से दौड़ेगी 75 ट्रेन | indian railways start new vande bharat train trial | Patrika News

रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव (@AshwiniVaishnaw) ने गुरुवार को नई वंदेभारत ट्रेन के चंडीगढ़ पहुंचने की जानकारी ट्वीट के जरिए दी है। अश्वनी वैष्णव (Ashwini Vaishnaw) ने कहा है कि रोल करने के लिए तैयार है ट्रेन।

गौरतलब है कि देश में फिलहाल दो वंदेभारत एक्सप्रेस चल रही है। इनमें से एक दिल्ली से माता वैष्णोदेवी (कटरा) तक और दूसरी ट्रेन दिल्ली से वाराणसी के बीच चल रही है। यह देश की तीसरी वंदेभारत ट्रेन होगी। खास बात यह है कि यह ट्रेन (Vande Bharat New Version) पहले की ट्रेनों से अलग हैं, इसमें कई नए फीचर्स भी जोड़े गए हैं। इसमें यात्रियों की सुविधा और सुरक्षा पर विशेष ध्यान दिया गया है।

यह वंदेभारत ट्रेन चेन्‍नई इंटीग्रल कोच फैक्ट्री (ICF Chennai) से ट्रायल के लिए रवाना कर दी गई है। सबसे पहले इसका ट्रायल अंबाला रेलवे मंडल के चंडीगढ़-लुधियाना सेक्शन पर होगा। केंद्र सरकार की योजना के मुताबिक 75 शहरों को सेमी हाई स्‍पीड ट्रेन वंदे भारत से जोड़ा जाएगा। इसका काम अगस्‍त 2023 तक पूरा हो जाएगा। अंबाला में पहले ट्रायल के बाद मध्यप्रदेश में होने वाले दूसरे ट्रायल के लिए इसे लाया जा रहा है। इसके कमर्शियल रूट के लिए भी हरी झंडी मिल गई है। सूत्रों के मुताबिक आने वाले वक्त में सरकार राजधानी एक्सप्रेस और दूरंतों एक्सप्रेस की जगह वंदेभारत ट्रेनें ही चला सकती है।

एक साल में 75 वंदेभारत ट्रेनें

Copy

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त 2021 को देश में 75 नई वंदेभारत ट्रेनें चलाने का ऐलान किया था। मोदी ने यह भी कहा था कि 15 अगस्त 2023 तक 75 ट्रेनें पटरी पर दौड़ने लगेंगी। उसी कड़ी में यह तीसरी वंदेभारत ट्रेन है जो पटरी पर पहुंच गई है। उल्लेखनीय है कि चेन्नई में हर माह 7 वंदे भारत ट्रेन बनाने की क्षमता है। इस क्षमता को बढ़ाकर अब 10 तक किया जा रहा है।

सुविधाएं एक नजर में

  • – नई वंदेभारत ट्रेन में रेक्लाइनिंग सीट पुशबैक से लैस है। इससे सीट आगे-पीछे होगी।
  • – कोई यात्री धूम्रपान करता है तो अलार्म बजेगा।
  • – हर कोच में चार माइक और स्विच लगे है। इमर्जेंसी में लोको पायलट से बात हो सकेगी।
  • – ट्रेन को रोकने के लिए पुशबटन दिया गया है।
  • – दो कोच से पूरी ट्रेन पर नजर रख सकते हैं।
  • – यदि ट्रेन का पॉवर फेल हो जाता है तो तीन घंटे तक लाइट ऑन रहेगी।
  • – बैक्टीरिया फ्री एयर कंडीशनिंग लगाए गए हैं।
  • – पैसेंजर इंफार्मेशन सिस्टम भी इंस्टाल है।
  • – दरवाजे और खिड़कियों में फायर सर्वाइवल केबल है।



उमध्यप्रदेश की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Madhya Pradesh News