देर आए,दुरुस्त आए, केंद्रीय मंत्री ने शेखावत का गहलोत सरकार पर निशाना, गिरफ्तारी के दौरान कैसा था मुफ्ती का अंदाज

0
55

देर आए,दुरुस्त आए, केंद्रीय मंत्री ने शेखावत का गहलोत सरकार पर निशाना, गिरफ्तारी के दौरान कैसा था मुफ्ती का अंदाज

जयपुर: राजस्थान के बूंदी जिले में विवादित बयान देने वाले मौलाना को आखिरकार राजस्थान पुलिस (Rajasthan police) ने गिरफ्तार कर लिया है। 3 जून को मौलाना मुफ़्ती नदीम अख्तर (Maulana Mufti Nadeem) की ओर से बीजेपी की पूर्व राष्ट्रीय प्रवक्ता नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) टिप्पणी के विरोध में हिंसात्मक बयान दिया गया था। इसके बाद उदयपुर में कन्हैयालाल की हत्या (Kanhaiyalal murder case) होने के बाद 30 जून को उसके इस बयान का वीडियो केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत (union minister gajendra singh shekawat) ने अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया था। साथ ही मौलाना की गिरफ्तारी की मांग की थी। केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के ट्वीट के बाद एक जुलाई को मौलाना को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।


मौलाना की गिरफ्तारी के बाद केंद्रीय मंत्री ने फिर ट्वीट पर साधा निशाना
मौलाना की गिरफ्तारी के बाद केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने दोबारा ट्वीट कर सोशल मीडिया यूजर्स को इस संबंध में जानकारी दी है। साथ ही गहलोत सरकार पर निशाना भी साध दिया है। मंत्री शेखावत ने अपने ट्वीट में लिखा है कि “देर आए …दुरुस्त आए….
मेरे वीडियो पोस्ट करने से पहले ही ये कार्रवाई हो जाती तो शायद…”। उल्लेखनीय है कि इस पोस्ट के जरिए शेखावत ने यह बताने की कोशिश की है कि अग पुलिस समय रहते कार्रवाई करती ,तो उदयपुर में टेलर कन्हैयालाल की हत्या नहीं होती।

क्या था मामला
दरअसल नूपुर शर्मा की ओर पैगंबर मोहम्मद की खिलाफ टीवी डिबेट में दिए गए विवादित बयान के बाद अल्पसंख्यक समुदाय की ओर से उनकी गिरफ्तारी की मांग चल रही थी। इसे लेकर जहां चार राज्यों में केस दर्ज किए गए। वहीं सड़कों पर जूलूस निकालकर और कलेक्टर को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपकर भी नूपुर शर्मा के अरेस्ट की मांग की जा रही थी। इसी क्रम में बूंदी में भी 3 जून को बड़ी संख्या में लोग ज्ञापन सौंपने कलेक्ट्रेट पहुंचे थे। इस दौरान यहां मौलाना ने भरी सभा में हिंसात्मक भाषण देकर लोगों को भड़काने की कोशिश की थी, जिसके बाद उसका वीडियो लगातार वायरल हो रहा था।

आज जमानत पर होगी सुनवाई
लंबी जांच के बाद शुक्रवार को कोतवाली थाना पुलिस की ओर से मौलाना मुफ़्ती नदीम अख़्तर के साथ मौलाना मोहम्मद आलम गोरी को भी गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने दोनों मौलानाओं को न्यायालय मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के यहां पेश किया। जहां से दोनों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। हालांकि न्यायालय ने दोनों की जमानत पर समय के अभाव के चलते फैसला सुरक्षित रख लिया है। अब जमानत पर सुनवाई शनिवार को होगी।

राजस्थान की और समाचार देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Rajasthan News