दिग्गज आमने-सामने: नाथ बोले- लोकल चुनाव से ज्यादा मतलब नहीं, शिवराज ने कहा- फिर जबलपुर क्यों आए | BJP-Congress Veterans face to face | Patrika News

0
63

दिग्गज आमने-सामने: नाथ बोले- लोकल चुनाव से ज्यादा मतलब नहीं, शिवराज ने कहा- फिर जबलपुर क्यों आए | BJP-Congress Veterans face to face | Patrika News

रोड शो के दौरान दोनों नेताओं ने एक-दूसरे पर हमले भी किए। कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पर तंज करते हुए कहा कि वे सोचते हैं कि स्मार्ट सिटी घोषणाओं से बन जाएगी। वहीं, उन्होंने छिंदवाड़ा नगर निगम चुनाव को लेकर कहा कि लोकल चुनाव है, कांग्रेस के विधायक हैं, सब संभाल लेंगे। इसलिए ज्यादा मतलब नहीं रख रहे। इस पर पलटवार करते हुए मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जब कमलनाथ को नगर निगम चुनाव से मतलब नहीं है तो फिर जबलपुर आए क्यों थे?

भ्रष्टाचार की अति हो गई थी :
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को जबलपुर, विदिशा और सीहोर में चुनावी सभाएं व रोड शो किए। जबलपुर में कमलनाथ के बयान
पर सीएम शिवराज ने कहा कि मुझे कांग्रेस और कमलनाथ की सोच व विचार पर तरस आता है। न विकास है, न जनकल्याण है। जब निकाय चुनाव में इंटरेस्ट नहीं तो फिर आप जबलपुर आए ही क्यों? जब मतलब नहीं है, तो आए काहे को थे।

वैसे भी प्रदेश और प्रदेश की जनता को न तो कांग्रेस से मतलब है और न ही कमलनाथ से। शिवराज ने कहा कि 15 महीना की कांग्रेस सरकार देखें, भ्रष्टाचार की अति हो गई थी। आतंक का राज था। सीएम ने विदिशा में कहा, कमलनाथ जब सीएम बने तो पैसों का ही रोना रोते रहे। मैं खुलेआम कहता हूं कि गरीबों के लिए मेरे पास पैसे की कोई कमी नहीं। विदिशा में जो किया है, हमने ही किया है और हम ही करेंगे।

सीएम शिवराज सिंह बोले- कांग्रेस भी अजब-गजब है कमलनाथ अपनी सरकार न बचा पाए, उन्हें महाराष्ट्र सरकार बचाने भेजा गया।

भाजपा की जेब में :
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने जबलपुर में सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश में 18 साल से भाजपा की सरकार है और 15 साल नगर निगम में राज रहा। पर हालत यह है कि कुछ देर की बारिश में शहर डूब जाता है। पत्रकारवार्ता में छिंदवाड़ा नगर निगम से जुड़े एक सवाल पर उन्होंने कहा कि छिंदवाड़ा नगर निगम चुनाव में मैं ज्यादा रुचि नहीं लेता हूं, विधानसभा चुनाव में रुचि लेता हूं, वहां सभी विधायक कांग्रेस के हैं।

कमलनाथ ने आरोप लगाया कि मप्र 18 साल में बेरोजगारी, किसानों की आत्महत्या और महिला अपराधों में नंबर वन है। कांग्रेस सरकार में 27 लाख किसानों का कर्जा माफ करने का काम किया। ये मैं नहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने विधानसभा में आंकड़े पेश कर कहा है। शिवराज ने प्रदेश में घूम घूमकर 20 हजार घोषणाएं की हैं। भाजपा की जेब में पैसा, प्रशासन और पुलिस बची है।

कांग्रेस में गुटबाजी के सवाल पर कमलनाथ कहा कि जो लोग घर बैठे हैं, विरोध कर रहे हैं, समय आने पर फसल सामने कटेगी।



उमध्यप्रदेश की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Madhya Pradesh News