दरभंगा जिजे के 11 तालाबों से अबतक नहीं हटाया जा सका अतिक्रमण

0
27

दरभंगा जिजे के 11 तालाबों से अबतक नहीं हटाया जा सका अतिक्रमण

दरभंगा। प्रमंडलीय आयुक्त मनीष कुमार की अध्यक्षता में गुरुवार को सीडब्ल्यूजेसी नंबर-9692/2015 में पारित…

Newswrapहिन्दुस्तान टीम,दरभंगाFri, 16 Dec 2022 12:31 AM

ऐप पर पढ़ें

दरभंगा। प्रमंडलीय आयुक्त मनीष कुमार की अध्यक्षता में गुरुवार को सीडब्ल्यूजेसी नंबर-9692/2015 में पारित आदेश के आलोक में गुरुवार को समीक्षा बैठक हुई। इसमें तिरहुत व दरभंगा प्रमंडल के सभी जिलों के तालाब-पोखर अतिक्रमण वाद की समीक्षा हुई। मुजफ्फरपुर जिले से अपर समाहर्ता राजस्व व दोनों एसडीओ के ऑनलाइन नहीं जुड़े रहने के कारण समीक्षा नहीं हो सकी। आयुक्त ने उन सबों से स्पष्टीकरण की मांग करते हुए एक दिन का वेतन स्थगित करने का निर्देश दिया। बैठक में दरभंगा डीएम राजीव रौशन ने कहा कि जिले में 11 तालाब अतिक्रमणमुक्त कराने के लिए बचे हुए हैं। इनमें सदर अनुमंडल के तीन, सिंहवाड़ा के तीन, मनीगाछी के तीन एवं बहादुरपुर के दो तालाब हैं। सदर अंचल के तीनों तालाबों पर उच्च न्यायालय का स्टेटस को लगा हुआ है। आयुक्त ने कहा कि सुप्रीम का आदेश है कि सभी जल संरचना सरकारी संपत्ति है। इससे सभी लोगों का हित जुड़ा हुआ है और पब्लिक राइट प्राइवेट राइट से ऊपर होता है। उन्होंने अपर समाहर्ता राजस्व एवं एसडीओ को अपने सीओ के साथ बैठक कर इस तथ्य से अवगत करा देने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि संविधान के अनुसार सभी तलाब सरकारी संपत्ति है क्योंकि जल का उपयोग करने से किसी को भी वंचित नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि अतिक्रमणमुक्त कराने के बाद संबंधित तालाब-पोखर का जियो टैग फोटो उपलब्ध कराया जाए। मधुबनी डीएम अरविंद कुमार ने कहा कि उनके यहां केवल चार तालाब अतिक्रमणमुक्त कराने को बचे हुए हैं। इनमें से तीन पर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की जा रही है। लौकही अंचल के एक तालाब पर अतिक्रमणमुक्त कराने की कार्रवाई की जा रही है। आयुक्त ने कहा कि वैसे राजस्व कर्मचारी जो तालाब-पोखर अतिक्रमण के लिए जवाबदेह पाए जाएंगे उन पर कार्रवाई होगी, भले ही वे सेवानिवृत्ति होकर पेंशन पा रहे हों। समस्तीपुर डीएम योगेंद्र सिंह ने कहा कि उनके यहां तालाबों को अतिक्रमणमुक्त करने की कार्रवाई तेजी से चल रही है। हाल के दिनों में एक सौ तालाबों को अतिक्रमणमुक्त कराया गया है। 101 तालाब शेष बचे हुए हैं जिन्हें शीघ्र ही अतिक्रमणमुक्त करा लिया जाएगा। आयुक्त ने अतिक्रमणमुक्त तालाबों का जियो टैग फोटो उपलब्ध कराने का निर्देश दिए। शिवहर डीएम मुकुल कुमार गुप्ता ने बताया कि उनके यहां 142 तलाब अतिक्रमित थे, जिन्हें अतिक्रमणमुक्त करा दिया गया है। आयुक्त ने कहा कि अपर समाहर्ता राजस्व, एसडीओ व डीसीएलआर संयुक्त रूप से सभी सीओ के साथ बैठक कर इसकी समीक्षा कर लें। सीतामढ़ी डीएम मनेश कुमार मीणा ने कहा कि उनके यहां 586 तालाब अतिक्रमित थे, जिन्हें अतिक्रमणमुक्त करा लिया गया है। वैशाली डीएम यशपाल मीणा ने कहा उनके यहां पांच तालाब अतिक्रमणमुक्त कराने को शेष बचे हैं, जो गोरौल अंचल के हैं। उन्हें रविवार तक अतिक्रमणमुक्त करा लिया जाएगा। पूर्वी चंपारण के डीएम शीर्षत कपिल अशोक ने कहा कि उनके यहां के सभी तालाबों से अतिक्रमण हटा दिया गया है। पश्चिमी चंपारण के डीडीसी ने कहा कि उनके यहां के 10 तालाबों पर अतिक्रमण है जो स्थाई प्रकृति के हैं। चनपटिया और नतौन के कुछ तलाबों के भिंड पर भूमिहीन परिवार बसे हुए हैं। आयुक्त ने भूमिहीन परिवारों के लिए भूमि की व्यवस्था करते हुए तालाबों को अतिक्रमण मुक्त कराने के निर्देश दिए। बैठक में आयुक्त के सचिव देवेंद्र प्रसाद तिवारी, क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार सह प्रभारी राजस्व पदाधिकारी राजेश कुमार, उप निदेशक जनसंपर्क नागेंद्र कुमार गुप्ता व संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।

अगला लेख पढ़ें
epaper

बिहार की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Delhi News