जिस प्लॉट में आगजनी के आरोप में एसपी MLA इरफान सोलंकी पर लटक रही गिरफ्तारी की तलवार… उसमें उठाई जा रही बाउंड्रीवाल

0
112

जिस प्लॉट में आगजनी के आरोप में एसपी MLA इरफान सोलंकी पर लटक रही गिरफ्तारी की तलवार… उसमें उठाई जा रही बाउंड्रीवाल

कानपुर: यूपी के कानपुर से एसपी विधायक इरफान सोलंकी और उनके भाई पर विवादित प्लाट पर बनी झोपड़ी में आग लगाने के आरोप हैं। एमएलए और उनके भाई पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है। उसी विवादित प्लाट में बाउंड्रीवाल का निर्माण कार्य चल रहा है। शनिवार देररात वीडियो सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हुआ तो पुलिस हरकत में आ गई। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर निर्माण कार्य बंद कराया। पुलिस का कहना है कि प्लाट का मामला कोर्ट में चल रहा है, इसलिए किसी तरह का निर्माण नहीं कराया जा सकता है।

जाजमऊ थाना क्षेत्र स्थित डिफेंस कॉलोनी में रहने वाली बेबी नाज का प्लाट है। यह प्लाट बेबी नाज के पिता का था। पिता के निधन के बाद इस प्लाट पर बेबी नाज अपना कब्जा बता रही हैं। बेबी का परिवार प्लाट में ट्टर और छप्पर डालकर रहता है। बेबी मूलरूप से प्रयागराज की रहने वाली हैं। बेबी नाज ने आरोप लगाया था कि सपा विधायक और उनके भाई प्लाट पर कब्जा करना चाहते थे। बीते 7 नवंबर (सोमवार) को परिवार के साथ एक शादी समारोह में शामिल होने के लिए गए थे। इसी बीच विधायक और उनके भाई ने झोपड़ी में आग लगा दी गई। एसपी एमएलए अपने भाई के साथ बीते 13 दिनों से फरार हैं। पुलिस उनकी तलाश में लगातार दबिशें दे रही हैं।

दोनों पक्ष एक-दूसरे पर लगा रहे आरोप

बेबी नाज का आरोप है कि इरफान सोलंकी के लोग कब्जा करने की नियत से दीवार बनवा रहे थे। वहीं, दूसरे पक्ष का कहना है कि बेबी नाज और उसका भाई दीवार का निर्माण करा रहे थे। मौके पर पहुंचे जाजमऊ इंस्पेक्टर अशोक कुमार दुबे ने दीवार के निर्माण का कार्य रुकवा दिया है। इसके साथ ही महिला के बेटे को हिरासत में लेकर दोनों पक्षों पर शांतिभंग की कार्रवाई की है।

गिरफ्तारी की लटकी तलवार

एसपी विधायक इरफान सोलंकी और उनके भाई रिजवान की गुस्ताखियों पर पहले की सरकारों में नजरंदाज किया जाता रहा, लेकिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पुलिस ने इस बार कार्रवाई का मन बना लिया है। योगी की पुलिस ऐक्शन मोड पर है। पीड़िता की तहरीर पर कानपुर पुलिस ने एसपी एमएलए और उनके भाई पर आईपीसी की धारा 147, 327, 427, 386, 504, 436, 506 और 120 के तहत मुकदमा किया था। इसके साथ ही अब गिरफ्तारी के लिए दबिश भी दे रही है। इरफान सोलंकी और उनके रिजवान फरार हैं। वहीं, पुलिस ने कोर्ट से दोनों भाईयों के खिलाफ एनबीडब्ल्यू भी जारी करा लिया है।

यह है विवाद की वजह

जाजमऊ स्थित डिफेंस कॉलोनी में रहने वाली नजीर फातिमा (65) के पति कासिद हुसैन ट्रांसपोर्टर थे। कासिद हुसैन ने 1991 में केडीए से डिफेंस कॉलोनी में 533 वर्ग मीटर का प्लॉट आवंटित कराया था। कागजातों में खामियां होने की वजह से प्लॉट फ्री होल्ड नहीं हो पाया था। जिसकी वजह से केडीए ने इस प्लॉट का आवंटन किसी अन्य को कर दिया था। जिसका मुकदमा एसीजे सिविल थर्ड में चल रहा है।

नजीर फातिमा का कहना है कि मेरे प्लॉट के बगल में सपा विधायक और उनके भाई रिजवान सोलंकी का पुराना मकान है। उन्होंने बताया कि मेरे प्लॉट पर उनकी नीयत शुरू से खराब थी। प्लॉट पर कब्जा करने के लिए सोलंकी परिवार ने परेशान करना शुरू कर दिया। बाहुबल के दम सोलंकी परिवार प्लॉट पर कब्जा करना चाहता था। इस उद्देश्य से छप्पर पर आग लगाई गई है। इस आग में मेरी बेटी बेबी नाज की पूरी गृहस्थी जलकर कर बर्बाद हो गई।
इनपुट- सुमित शर्मा

उत्तर प्रदेश की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Uttar Pradesh News