जहरीली शराब : बिहार में ‘मौत की घूंट’ पर सियासी उबाल, छपरा जाएंगे बीजेपी के विधायक, नीतीश ने बीजेपी पर फोड़ा ठिकरा

0
110

जहरीली शराब : बिहार में ‘मौत की घूंट’ पर सियासी उबाल, छपरा जाएंगे बीजेपी के विधायक, नीतीश ने बीजेपी पर फोड़ा ठिकरा

पटना/छपरा : बिहार में जहरीली शराब पीने से मौत के मामले में नीतीश कुमार और बीजेपी आमने-सामने है। विधानसभा के अंदर भारतीय जनता पार्टी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बीच तीखी बहस हुई। नीतीश कुमार ने बीजेपी के नेताओं पर दनादन कई आरोप लगाए। बीजेपी भी पीछे हटने की मूड में नहीं है। बीजेपी विधायकों का एक दल छपरा का दौरा करेगा। पीड़ितों से मुलाकात करेगा। उनकी परेशानियों को समझेगा। स्थानीय ग्रामीणों का दावा है कि जिन लोगों की मौत हुई है, उन्होंने शराब का सेवन किया था। नीतीश कुमार की सरकार ने ही अप्रैल 2016 में शराब की बिक्री और सेवन पर प्रतिबंध लगा दिया था। हालांकि बिहार में शराबबंदी हमेशा सवालों के घेरे में रही।

जहरीली शराब पर उबलती सियासत!

नीतीश कुमार ने विपक्षी भारतीय जनता पार्टी पर शराब के सेवन से राज्य में लोगों की मौत का आरोप लगाया है। सीएम नीतीश ने विधानसभा में कहा कि भाजपा विधायक बिहार में जहरीली त्रासदी के लिए जिम्मेदार हैं। हम सभी जानते हैं कि आप डर्टी काम कर रहे हैं। मैं आपसे अलग हो गया हूं और ये मेरा अच्छा फैसला था। आप बिहार में शराब के पक्ष में बात कर रहे हैं। इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सारण (छपरा) में जहरीली शराब के सेवन से हुई लोगों की मौत को लेकर विधानसभा में जमकर हंगामा हुआ। अगस्त में सारण जिले के मसरख और मरौरा गांव में जहरीली शराब पीने से 13 लोगों की जान चली गई थी। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, इस साल जनवरी से नवंबर तक बिहार में जहरीली शराब से 173 लोगों की मौत हुई है।

Bihar Hooch Tragedy: जहरीली शराब से अब तक 20 लोगों के मौत… देखिए पूरी लिस्ट, प्रशासन ने साधी चुप्पी

नीतीश कुमार से माफी की मांग

बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि जिस तरह से नीतीश कुमार अपना आपा खो रहे हैं और सदन के पटल पर असंसदीय भाषा का उपयोग कर रहे हैं, वो अस्वीकार्य है। नीतीश कुमार को इस तरह के बर्ताव के लिए माफी मांगनी चाहिए। इसके बाद भाजपा ने सदन का बहिष्कार कर दिया। वहीं, बिहार विधान परिषद के नेता प्रतिपक्ष सम्राट चौधरी ने कहा कि मैं मृतक के परिजनों से सीएम नीतीश कुमार के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की अपील करना चाहता हूं। वो बिहार में शराब त्रासदी के लिए जिम्मेदार हैं। बिहार में शराबबंदी कानून पूरी तरह फेल हो गया है।

navbharat times -नीतीश कुमार 71 की उम्र में क्यों बोल रहे ‘तू-तड़ाक’ की भाषा, उपेंद्र कुशवाहा तक शराबबंदी को बता चुके हैं फेल

छपरा में 20-25 लोगों की मौत

छपरा में कथित जहरीली शराब पीने से 20 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। कुछ रिपोर्ट में ये आंकड़ा 25 तक पहुंच गया है। कई लोग अब भी अस्पताल में भर्ती है। मशरक, इसुआपुर, अमनौर और मढ़ौरा की घटना है। कहा जा रहा है कि अब 10-12 लोग अस्पताल में हैं। इस मामले पर राज्य की सियासत पूरी तरह उबल रही है। अब बीजेपी विधायकों का दल गुरुवार को प्रभावित इलाके का दौरा करेगा। भारतीय जनता पार्टी के विधायक छपरा जाएंगे और ग्राउंड रिएलिटी को समझने की कोशिश करेंगे।

इनपुट- भाषा

बिहार की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Delhi News