चिंटल के खिलाफ CBI की धीमी जांच से नाराज लोगों ने किया प्रदर्शन का ऐलान, सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई आज

14
चिंटल के खिलाफ CBI की धीमी जांच से नाराज लोगों ने किया प्रदर्शन का ऐलान, सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई आज

चिंटल के खिलाफ CBI की धीमी जांच से नाराज लोगों ने किया प्रदर्शन का ऐलान, सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई आज


गुरुग्राम: सीबीआई ने गुरुग्राम सेक्टर 109 स्थित चिंटल पैराडिसो हादसे के मामले की जांच शुरू कर दी है। हालांकि सीबीआई की टीम अभी घटनास्थल पर नहीं पहुंची है। माना जा रहा है कि अगले सप्ताह सीबीआई की टीम मौके पर आ सकती है लेकिन सीबीआई ने टाउन एंड कंट्री प्लानिंग डिपार्टमेंट, डीसी और पुलिस विभाग से इस रिहायशी सोसायटी से जुड़े सभी दस्तावेज मांगे हैं। वहीं, दूसरी तरफ सुप्रीम कोर्ट में इस हादसे को लेकर विचाराधीन याचिका पर सोमवार को यानी आज सुनवाई है। रेजिडेंट्स को सिर्फ सुप्रीम कोर्ट से न्याय की उम्मीद है। रविवार शाम 4 बजे सोसायटी परिसर में चिंटल पैराडिसो आरडब्ल्यूए के बैनर तले रेजिडेंट्स की एक बैठक हुई। इसमें रेजिडेंट्स ने कहा कि 10 फरवरी 2022 को हादसा हुआ था। करीब एक साल हो चुका है।

केस में जांच बहुत धीमी गति से चल रही है। अभी तक सिर्फ डी टावर की स्ट्रक्चरल ऑडिट रिपोर्ट सामने आई है। ई और एफ टावर की स्ट्रक्चरल ऑडिट रिपोर्ट जिला प्रशासन के पास पहुंच चुकी है लेकिन इसे सार्वजनिक करने में देरी की जा रही है। इन लोगों का कहना है कि शायद किसी बड़े हादसे का इंतजार अधिकारी कर रहे हैं।

तेज हो स्ट्रक्चरल ऑडिट

रेजिडेंट्स ने कहा कि डी टावर के लोगों को अभी तक फ्लैट्स वैल्यूएशन रिपोर्ट की कॉपी नहीं दी गई है। रेजिडेंट्स ने मांग उठाई कि स्ट्रक्चरल ऑडिट की रफ्तार बढ़ाई जाए। साथ ही साथ वैल्यूएशन का कार्य जल्द पूरा किया जाए। रेजिडेंट्स ने कहा कि आसपास लगती रिहायशी सोसायटियों में फ्लैट्स के रेट 12 से 15 हजार रुपये प्रति वर्ग फुट है। जिला प्रशासन को चाहिए कि या तो मार्केट रेट के हिसाब से मुआवजा राशि दिलवाए या कंडम टावर को तोड़कर दोबारा निर्माण कार्य किया जाए। बैठक में मौजूद रेजिडेंट्स में जिला प्रशासन और चिंटल इंडिया लिमिटेड के प्रति भारी आक्रोश देखने को मिला।

17 जनवरी को CBI ने दर्ज किया है केस

बैठक में रेजिडेंट्स ने मांग की है कि सीबीआई को अपनी जांच में तेजी लानी चाहिए। दोषियों को सलाखों के पीछे डालना चाहिए। उन्होंने कहा कि अभी उन्हें सिर्फ सुप्रीम कोर्ट से न्याय की उम्मीद है। बता दें कि 17 जनवरी को सीबीआई ने इस मामले में एफआईआर दर्ज की थी। सीबीआई की टीम अभी तक मौके पर नहीं आई है। हालांकि इस घटना से जुड़े सभी दस्तावेज उन्होंने जुटाने शुरू कर दिए हैं।

सुप्रीम कोर्ट से न्याय की उम्मीद है। जिला प्रशासन ने हादसे के बाद से लेकर अब तक सिर्फ डी टावर की स्ट्रक्चरल ऑडिट रिपोर्ट को सार्वजनिक किया है। ई और एफ टावर की रिपोर्ट को सार्वजनिक करने में देरी की जा रही है। डी टावर की वैल्यूएशन रिपोर्ट को अब तक फाइनल नहीं किया है। रेजिडेंट्स मांग कर रहे हैं कि या तो उन्हें मार्केट रेट के हिसाब से फ्लैट्स की कीमत दी जाए या रिहायशी टावर को तोड़कर इनका दोबारा निर्माण किया जाए।

राकेश हुड्डा, अध्यक्ष, आरडब्ल्यूए, चिंटल पैराडिसो

10 फरवरी को प्रदर्शन का किया फैसला

रविवार शाम की बैठक में रेजिडेंट्स ने 10 फरवरी को प्रदर्शन का फैसला लिया। सुबह 10.30 बजे सोसायटी परिसर में प्रदर्शन करेंगे। दोपहर 12 बजे डीसी को ज्ञापन सौंपेंगे। रेजिडेंट्स ने कहा कि रात 7.30 बजे कैंडल मार्च निकाला जाएगा। सूत्रों के मुताबिक एडीसी की अध्यक्षता में गठित कमिटी ने डीसी को डी टावर की फाइनल वैल्यूऐशन रिपोर्ट सौंप दी है। कभी भी इस रिपोर्ट को फाइनल किया जा सकता है।

पंजाब की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Punjab News