गुरुग्राम: 1 जुलाई से मीटर के हिसाब से दीजिए ऑटो का किराया, नहीं मानें आदेश तो जब्त हो जाएगा वाहन

0
86

गुरुग्राम: 1 जुलाई से मीटर के हिसाब से दीजिए ऑटो का किराया, नहीं मानें आदेश तो जब्त हो जाएगा वाहन

गुड़गांव:अब ऑटो रिक्शा से सफर करने पर ड्राइवर मनमाना किराया नहीं वसूल सकेंगे। 1 जुलाई से मीटर के हिसाब से किराया तय होगा। इससे आपकी जेब का बोझ भी कुछ कम हो सकेगा। हालांकि अभी शहर के सारे ऑटो में मीटर नहीं लग पाए हैं, इसके लिए ऑटो यूनियन ने और समय की मांग की है। जिला प्रशासन ने 30 जून तक ऑटो ड्राइवर्स को किराया मीटर लगवाने के निर्देश दिए थे। अब मीटर नहीं लगवाने वाले ऑटो को जब्त किया जाएगा। 2 माह के अंदर करीब 500-600 ऑटो में ही मीटर लग सके हैं।

हालांकि प्रशासन की ओर से मीटर लगवाने के लिए ऑटो ड्राइवर को और समय दिए जाने का फिलहाल फैसला नहीं लिया गया है। जिला प्रशासन 4 साल से हायर ऑटो रिक्शा में किराया मीटर लगवाने के लिए प्रयास कर रहा है, लेकिन उसके प्रयास सिरे नहीं चढ़ रहे हैं। पिछली बार तमाम कवायद करने पर करीब 1800 ऑटो में मीटर लगाए गए थे, जबकि अबकी बार दो माह में करीब 600 ऑटो में ही किराया मीटर लगाए जा सके हैं। इस बार किराया मीटर लगाने के लिए मेला भी लगाया गया, लेकिन ऑटो ड्राइवरों के रुचि नहीं लेने के चलते मीटर लगाने की रफ्तार हर बार धीमी रहती है।

फिलहाल यह है तय किराया

– मीटर डाउन होने पर पहले 1 किलोमीटर- 12 रुपये और इसके बाद 8 रुपये प्रत्येक अतिरिक्त किलोमीटर किराया वसूला जा सकेगा।

– इसमें रात को 11 बजे से सुबह 5 बजे के बीच किराए का 25 प्रतिशत अतिरिक्त चार्ज देना होगा।

– प्रतीक्षा शुल्क के रूप में 30 रुपये प्रति घंटा या उसका भाग न्यूनतम 15 मिनट के लिए रुकने के लिए वसूल किया जाएगा।

– यात्रियों के सामान में शॉपिंग बैग या छोटा सूटकेस के लिए कोई चार्ज नहीं वसूल किया जाएगा।

– इसके अतिरिक्त सामान के लिए साढ़े सात रुपये की राशि निर्धारित की गई है।

ऑटो को किया जाएगा जब्त
सभी हायर ऑटो रिक्शा में किराया मीटर लगाने को लेकर 4 मई को उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने ऑटो यूनियन के पदाधिकारियों के साथ बैठक की थी। इसमें ऑटो यूनियन की सहमति से यह निर्णय लिया गया था कि सभी हायर ऑटोरिक्शा ड्राइवर 30 जून तक अपने ऑटो में किराया मीटर लगवा लेंगे। वहीं इसके बाद बिना किराया मीटर वाले ऑटोरिक्शा पर इंपाउंड की कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। बताया गया कि जिले में हायरिंग व शेयरिंग ऑटोरिक्शा करीब 18 हजार है। इनमें करीब 10 हजार से ज्यादा शेयरिंग ऑटो हैं।

सभी ऑटो में किराया मीटर लगवाना अनिवार्य है। 30 जून तक किराया मीटर लगाने के लिए कहा था। मीटर लगवाने का समय बढ़ाने के लिए उच्चाधिकारियों से फिलहाल कोई निर्देश नहीं मिलें है। अनुमति मिलने के बाद फेयर मीटर लगाने का समय बढ़ाया जाएगा।

रविंद्र यादव, सचिव क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकरण

लोगों को मिलेगी राहत
दौलताबाद निवासी राहुल पांडेय का कहना है कि ऑटो को रिजर्व कर ले जाने पर ऑटो ड्राइवर कई बार काफी ज्यादा किराया मांग लेते हैं। मीटर लगने पर पता लग सकेगा कि जो किराया दिया जा रहा है वह जायज है या नहीं। इसी तरह प्रशांत का कहना है कि ऑटो पर किराया मीटर लगाए जाने से मनमाना किराया वसूले जाने पर अंकुश लग सकेगा। इससे ड्राइवरों के साथ किराए को लेकर पूछताछ नहीं करनी पड़ेगी और लोगों व ड्राइवरों के बीच बहस नहीं होगी।

मीटर लगाने में समय दिया जाए
हरियाणा ऑटो चालक संघ संबंधित भारतीय मजदूर संघ की ओर से मंगलवार को जिला उपायुक्त व आरटीओं को सुझाव पत्र दिया गया। संघ के प्रदेश महामंत्री योगेश शर्मा ने बताया कि काफी ऑटो में फेयर मीटर लगना बाकी है। ऑटो में फेयर मीटर लगवाने की 30 जून की समय सीमा को आगे बढ़ाने का अनुरोध अधिकारियों से किया गया है। उन्होंने कहा कि अगर ऑटो को इंपाउंड किए जाने की कार्रवाई की जाती है तो लोगों को ऑटो नहीं मिलने से दिक्कतें बढ़ सकती है।

किराया बढ़ाए जाने की मांग
योगेश शर्मा ने बताया कि फेयर मीटर के किराए की बात करें तो गुड़गांव में सबसे कम रेट प्रदेश सरकार ने तय किया हुआ है। जब फेयर मीटर का रेट तय हुआ था उस समय सीएनजी का रेट करीब 40 के आसपास था। जो आज 80 रुपये को पार कर चुका है। जिला प्रशासन से मांग की गई है कि फेयर मीटर का किराया 8 रुपये से 15 रुपये प्रति किलोमीटर व डाउन मीटर को 30 रुपये किया जाए।

पंजाब की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Punjab News