खौफनाक जुर्म! बेटी के शव के साथ 12 घंटे रहे माता-पिता, देर रात ब्रीफकेस में बंद कर कार से ले गए शव को ठिकाने लगाने

0
120

खौफनाक जुर्म! बेटी के शव के साथ 12 घंटे रहे माता-पिता, देर रात ब्रीफकेस में बंद कर कार से ले गए शव को ठिकाने लगाने

नई दिल्ली: बदरपुर के मोलड़बंद में अपने परिवार के साथ रहने वाली आयुषी यादव (22) की 17 नवंबर की दोपहर करीब 2 बजे दो गोली मारकर हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार आयुषी का पिता नितेश यादव और मां बृजबाला करीब 12 घंटे तक अपनी बेटी के शव के साथ घर में ही रहे थे। बेटी के शव को लाल रंग के ट्रॉली बैग में पन्नी से पैक करके घर के बाथरूम में रख दिया गया। फिर 17-18 नवंबर की देर रात करीब 2:30 बजे ऑनर किलिंग (सम्मान के नाम पर हत्या) के आरोपी माता-पिता अपनी कार लेकर ट्रॉली में पैक बेटी के शव को मथुरा इलाके में ठिकाने लगाकर आए। 18 नवंबर की सुबह 7 बजे के बाद दोनों अपने घर आ गए और घर में ऐसी जिंदगी जीने लगे, जैसे कि कुछ हुआ ही नहीं हो।

मामले में मथुरा (सिटी) के एसपी एम. पी. सिंह का कहना है कि आयुषी की हत्या के आरोप में पिता नितेश यादव और मां बृजबाला दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि नितेश ने अपनी .32 बोर की लाइसेंसी रिवॉल्वर से आयुषी को दो गोली मारी। पहली गोली आयुषी के सिर में और दूसरी छाती में लगी। इसके बाद शव को पन्नी और साड़ी से बांधकर लाल रंग के ट्रॉली बैग में पैक कर दिया। जिसे रात को ठिकाने लगाया गया। उन्होंने बताया कि तफ्तीश में पता लगा है कि आयुषी ने किसी गैरबिरादरी के लड़के से आर्य समाज मंदिर में शादी कर ली थी। शादी हुए भी करीब एक साल हो गया था। इस बात को लेकर घर में विवाद रहता था। आयुषी बिना बताए घर से चली जाती थी।

मथुरा सूटकेस में लाश: बेटी ने बिना बताए प्रेमी से कर ली थी शादी, गुस्साए पिता ने हत्या के बाद लगाया था ठिकाने
कहासुनी के बाद वारदात अंजाम दी गई
17 नवंबर की सुबह भी आयुषी कहीं चली गई थी। उसके घर लौटने पर मां ने फोन करके पिता को बुला लिया। फिर बाप-बेटी में हुई कहासुनी बाद में ऑनर किलिंग में बदल गई। आरोप है कि नितेश ने बेटी की दो गोली मारकर हत्या कर दी। एसपी सिटी सिंह का कहना है कि वह मामले में यह भी पता लगा रहे हैं कि क्या लड़की गर्भवती तो नहीं थी। मथुरा पुलिस के मुताबिक, आरोपी पिता ने पूछताछ में बताया है कि उनकी बिना रजामंदी के गैरबिरादरी के लड़के से शादी करने से उन्हें समाज में बदनामी होने का डर था। उस दिन उनका बेटी से झगड़ा भी हो गया। गुस्से में आकर उन्होंने अपनी बेटी को मार डाला।

उन्होंने बताया कि वारदात के वक्त घर पर लड़की के दादा-दादी और छोटा भाई भी था। लेकिन किसी और को हत्या की कानों-कान खबर तक नहीं लगी। अलबत्ता, मृतका की पहचान होने पर जब मथुरा पुलिस बदरपुर में आयुषी के घर पहुंची तो शुरू में तो मृतका के दादा-दादी और मां ने उसकी फोटो पहचानने से भी इनकार कर दिया था। बाद में आयुषी की पहचान हुई। आयुषी की दादी ने बताया कि उनके मोलड़बंद में चार-पांच घर हैं। सभी में किराएदार रहते हैं। वारदात वाले घर में उनका खुद का परिवार रहता है। लेकिन आयुषी की हत्या के बारे में सवाल करने पर उन्होंने इसकी किसी भी तरह की जानकारी होने से इनकार कर दिया। दादी ने बताया कि उनका परिवार मूलरूप से देवरिया, यूपी का रहने वाला है। उनके मोलड़बंद और नोएडा में कई घर हैं। पति इंजीनियर हैं। आरोपी बेटे नितेश की दुकान है। सारे घरों से अच्छा-खासा किराया आता है। आयुषी जनकपुरी स्थित डीजीआईटी से बीसीए कर रही थी और उसका फाइनल ईयर था।

navbharat times -ऑनर किलिंग का मामला निकला मथुरा के सूटकेस में मिली लड़की की लाश, पिता ने बेटी को मारकर फेंका था, गिरफ्तार
हत्या के बावजूद बिना हावभाव के रह रहे थे
18, 19 और 20 नवंबर की सुबह तक आयुषी के माता-पिता घर में एकदम नॉर्मल लग रहे थे। स्थानीय निवासियों का कहना है कि उनके इस तरह से सामान्य रहने से वे लोग भी हैरत में थे। 18 नवंबर को आयुषी का ब्रीफकेस में पैक शव सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा था। लोगों ने भी उसे देखा। लेकिन आयुषी के घर में एकदम सामान्य जिंदगी देखकर उन लोगों ने भी सोचा कि यह कोई और लड़की होगी। लेकिन जब रविवार सुबह आयुषी के घर में मथुरा पुलिस आई तो पता चला कि यह आयुषी ही थी। इसके बाद सारा माजरा समझ में आ गया।

लोगों ने नितेश को रात में ब्रीफकेस के साथ देखा था!
स्थानीय लोगों का कहना है कि उन्हें समझ में आता है कि 17-18 नवंबर की आधी रात के बाद नितेश क्यों गली नंबर-64 से बाहर गया था। पहले वह कार बाहर खड़ी करके आया। फिर ब्रीफकेस ले जाता दिखाई दिया। यहां गली नंबर-64 में सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हैं, जबकि उसके घर की दूसरी वाली गली नंबर-65 में कैमरे लगे हैं। नितेश के घर भी कैमरे लगे हैं, लेकिन माना जा रहा है कि इन्हें उसने वारदात के बाद बंद कर दिया था। लेकिन पुलिस को गली के दूसरे कोने पर लगे सीसीटीवी कैमरों में नितेश अपनी पत्नी के साथ लाल रंग का ब्रीफकेस ले जाते दिखाई दिया है। उस फुटेज को यूपी पुलिस ने जब्त कर लिया है। मामले में आयुषी के पिता और अन्य परिजनों ने दिल्ली की बदरपुर थाना पुलिस में अपनी बेटी के लापता होने की कोई खबर दर्ज नहीं कराई थी। इसलिए इस मामले की जानकारी साउथ-ईस्ट दिल्ली पुलिस को नहीं लगी।

दिल्ली की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Delhi News