खून के बेशर्म कारोबारी ! राजस्थान से दान करवा यूपी में मिलावट, वसूल रहे ऊंचे दाम | blood ka kala karobar | Patrika News

0
94

खून के बेशर्म कारोबारी ! राजस्थान से दान करवा यूपी में मिलावट, वसूल रहे ऊंचे दाम | blood ka kala karobar | Patrika News

लखनऊ एसटीएफ और ड्रग विभाग की टीम ने मिडलाइफ चैरिटेबल ब्लड बैंक और कृष्णानगर की नारायणी ब्लड बैंक में छापेमारी की। छापेमारी में राजस्थान से तस्करी कर लाया गया 302 यूनिट घटिया मानव रक्त (ब्लड) बरामद किया गया है। ब्लड बैंक के संचालक और मुख्य तस्कर समेत सात को गिरफ्तार किया गया। यह खराब खून लखनऊ के अलावा हरदोई, उन्नाव, बहराइच, कानपुर और फतेहपुर जनपद के अस्पतालों और ब्लड बैंकों में भी आपूर्ति किया जाता था। सूत्रों के अनुसार, गिरोह का नेटवर्क सात राज्यों में फैला है।

राजस्थान के इन ब्लड बैंकों से खरीद रहे एसटीएफ एसपी प्रमेश शुक्ला ने बताया कि, पूछताछ में आरोपियों ने राजस्थान के जयपुर स्थित तुलसी ब्लड बैंक, पिंक सिटी ब्लड बैंक, रेड ड्रॉप ब्लड सेंटर, गुरुकुल ब्लड सेंटर, ममता ब्लड बैंक चौमू, दुषात ब्लड बैंक चौमू, मानवता ब्लड बैंक सीकर, शेखावटी ब्लड बैंक चुरू से खून की खरीद फरोख्त की बात कबूली है। इन ब्लड बैंकों के टेक्नीशियनों के जरिए 700-800 रुपए में ब्लड बैग खरीदकर खून की तस्करी कर इन्हें ऊंचे दाम पर बेचते थे। बरामद ब्लड बैग पर मित्रा कंपनी का स्टिकर लगा था। पर न तो डोनर का नाम था और न ही कलेक्शन करने वाले का नाम। एसटीएफ ने इस गिरोह के खिलाफ ठाकुरगंज थाने में जालसाजी, कूटरचित दस्तावेज तैयार करना और औषधि एवं सौंदर्य प्रसाधन अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कराया है।

पूछताछ में खुलासा

एसटीएफ की पूछताछ में गिरफ्तार तस्कर नौशाद ने बताया कि, डीएमएलटी की डिग्री उसने रामचंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ पैरामेडिकल साइंस प्रयागराज हासिल की थी। इसके बाद अंबिका ब्लड बैंक जोधपुर में बतौर लैब टेक्नीशियन काम किया। काम के दौरान राजस्थान के कई ब्लड बैंकों के चिकित्सकों व टेक्नीशियनों से संपर्क हुआ। फिर चैरेटेबिल ट्रस्टों के माध्यम से संचालित ब्लड बैंक ब्लड डोनेशन कैंप से खून जुटाते थे। अधिकतर बैगों की इंट्री, ब्लड बैंक के दस्तावेजों में नहीं होती थी। इन्हें फर्जी दस्तावेज तैयार कर दूसरे राज्य में अधिक कीमत पर बेचा जाता था।

पहले भी सामने आया कारोबार गत वर्ष सितंबर माह में भी एसटीएफ टीम ने लखनऊ में ब्लड में सेलाइन वॉटर मिलाकर बेचने का खुलासा किया था। इसमें एक डॉक्टर शामिल था, जिससे 100 यूनिट ब्लड पैकेट बरामद किया गया। वह 21 से ज्यादा ब्लड बैंक को मिलावटी खून की सप्लाई यूपी, बिहार और राजस्थान के ब्लड बैंकों को करता था।

सभी आदेश कागजी, कुछ नहीं कर पाया राजस्थान का संगठन यूपी का कारोबार सामने आने के बाद राजस्थान के औषधि नियंत्रण संगठन ने प्रदेश में ब्लड बैंकों पर सख्ती के कई आदेश जारी किए, लेकिन उक्त खुलासे के बाद ये सभी कागजी ही साबित हुए हैं। राज्य के औषधि नियंत्रक अजय फाटक ने कहा कि मामले की जानकारी मिली है, इसकी जांच राजस्थान के स्तर पर भी करवा रहे हैं।



राजस्थान की और समाचार देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Rajasthan News