खराब तबीयत के बावजूद शिरडी में पार्टी के मंथन शिविर में पहुंचे शरद पवार, यूं ही नहीं कहे जाते राजनीति के चाणक्य

0
114

खराब तबीयत के बावजूद शिरडी में पार्टी के मंथन शिविर में पहुंचे शरद पवार, यूं ही नहीं कहे जाते राजनीति के चाणक्य

मुंबई: तबीयत ठीक नहीं होने के बावजूद भी एनसीपी प्रमुख शरद पवार (NCP Chief Sharad Pawar) हेलिकॉप्टर से दो दिवसीय शिर्डी के मंथन शिविर में पहुंचे। वे कार्यकर्ताओं को पूरे विस्तार से संबोधित नहीं कर पाए। उन्होंने संक्षिप्‍त में अपनी बात कही। इसके बाद बाकी बचे भाषण को एनसीपी नेता दिलीप वलसे पाटील (Dilip Walse Patil) ने पढ़कर सुनाया। शिर्डी के मंथन शिविर बैठक के समापन समारोह में शामिल होने के लिए शरद पवार शनिवार को ब्रीच कैंडी अस्पताल से महालक्ष्मी रेसकोर्स स्थित हेलिपैड पहुंचे। वहां से वे हेलिकॉप्टर से शिर्डी (Shirdi) रवाना हुए। पवार ने अपने संबोधन में कहा कि उन्होंने सभी के भाषण तो नहीं सुने, लेकिन कुछ भाषण सुनने का अवसर मिला। आज विस्तार से बोलना मेरे लिए संभव नहीं है। डॉक्टरों ने सलाह दी है कि 10 से 15 दिनों के बाद ही वे नियमित काम कर सकेंगे। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि महाराष्ट्र (Maharashtra) में परिवर्तन लाने की ताकत और हिम्मत आप में है और जल्द ही यह अवसर भी मिलेगा।

जयंत पाटील ने पेश किया पार्टी का नया विजन
महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटील ने पार्टी का नया विजन पेश करते हुए कहा कि सरकार चले जाने से घबराने की जरूरत नहीं है। कोई संकट आए तो मजबूती से खड़े रहें। राज्‍य में जिस तरह सरकार आनी चाहिए थी, वह नहीं आई। बीजेपी के 105 विधायकों में बेचैनी है, इसकी वजह यह है कि यह सरकार केवल 40 लोगों के लिए काम कर रही है। पाटील ने आगे कहा कि हमें किसी से हिंदू धर्म सीखने की जरूरत नहीं है। हमारा हिंदुत्व छत्रपति शिवाजी महाराज का है। पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल ने कहा कि शरद पवार महाविकास आघाडी के जनक हैं। यह मंथन का विषय है कि एनसीपी आदर्श है, तो यह नंबर वन पार्टी क्यों नहीं बनी? पार्टी को नंबर वन बनाना है, तो उसके विचार घर-घर तक पहुंचना अनिवार्य है। आने वाले समय में एनसीपी नंबर वन पार्टी जरूर बनेगी।

स्मार्ट सिटी की जांच हो: सुले
सांसद सुप्रिया सुले ने कहा कि आलोचना करनी है तो जरूर कीजिए, लेकिन हम पॉलिसी पर ज्‍यादा ध्‍यान देते हैं। स्‍मार्ट सिटी पर अब तक 1 लाख करोड़ रुपये खर्च हुए, लेकिन क्या स्मार्ट सिटी बन पाई? इसकी जांच होना जरूरी है। एनसीपी नेता छगन भुजबल ने कहा कि ईडी की कार्रवाई में एक भी बीजेपी नेता पर क्यों नहीं हुई? क्या वे दूध के धुले हुए हैं? यह कहना पाखंड है कि केंद्रीय जांच एजेंसियां स्‍वतंत्र हैं। तुम्हारे पास जाने से लोग पाक साफ हो जाते हैं। भुजबल ने केंद्र सरकार से पूछा कि वे शिखंडी की तरह क्यों लड़ रहे हैं? शिविर को धनंजय मुंडे, सहित सुनील तटकरे, राजेश टोपे, जितेंद्र आव्‍हाड आदि ने भी संबोधित किया।

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News