कादर खान और अरुणा ईरानी से थप्पड़ खाकर इंडस्ट्री छोड़ना चाहते थे शक्ति कपूर, इज्जत पर आ गई थी बात

0
134

कादर खान और अरुणा ईरानी से थप्पड़ खाकर इंडस्ट्री छोड़ना चाहते थे शक्ति कपूर, इज्जत पर आ गई थी बात

दिग्गज एक्टर शक्ति कपूर ने अपने करियर में ऐसी कई फिल्में दी हैं, जिनके लिए उन्हें आज भी याद किया जाता है। चाहे वो कॉमेडी हो या फिर खतरनाक विलेन, शक्ति कपूर ने कई फिल्मों में अपने रोल से ऑडियंस का दिल जीता है। उनके हर किरदार ने लोगों के दिमाग पर अलग छाप छोड़ दिया है। शक्ति कपूर ने हाल ही में असरानी, पेंटल और टीकू तलसानिया के साथ ‘द कपिल शर्मा शो’ के रविवार के एपिसोड में शिरकत की। अपने करियर के दौरान उनकी कॉमिक टाइमिंग का फिल्म इंडस्ट्री में खास योगदान रहा है। जबकि, सफल फिल्मों का सारा श्रेय लीड रोल्स और खलनायकों को दिया जाता था, साइड कैरेक्टर्स, जो उतने ही मनोरंजक थे लेकिन किनारे पर छोड़ दिए जाते थे।

शक्ति कपूर छोड़ना चाहते थे करियर

हालिया एपिसोड में होस्ट-कॉमेडियन कपिल शर्मा (Kapil Sharma) ने दिग्गजों को ‘भारतीय सिनेमा के दिग्गज कॉमेडियन’ का जश्न मनाने के लिए इनवाइट किया। एपिसोड के दौरान, शक्ति कपूर (Shakti Kapoor) ने उस समय को याद किया जब फिल्म ‘मवाली’ (Mawaali) की शूटिंग के दौरान कादर खान और अरुणा ईरानी के उन्हें थप्पड़ मारने के बाद वह बॉलीवुड छोड़ना चाहते थे।

शक्ति कपूर का खुलासा

70 वर्षीय एक्टर ने खुलासा किया कि उन्हें उनकी 1983 की फिल्म ‘मवाली’ के सेट पर तीन थप्पड़ मिले, जिससे उन्हें एक एक्टर के रूप में अपने करियर पर फिर से विचार करना पड़ा। उन्होंने याद करते हुए कहा, ‘मैंने पेंटल के साथ अपनी पहली कॉमेडी फिल्म सत्ते पे सत्ता की थी। यह वास्तव में एक बेहतरीन फिल्म थी, इसलिए जब राज सिप्पी ने मुझे एक कॉमेडी के लिए संपर्क किया तो मुझे ऐसा लगा जैसे मेरी खलनायक की भूमिकाओं की सराहना की जा रही है, फिर वह मुझे क्यों पसंद करते हैं?’ उसके बाद मैंने मवाली नाम की एक फिल्म की। जब मैं फिल्म में अपना पहला शॉट दे रहा था तो कादर खान ने मुझे थप्पड़ मारा और मैं जमीन पर गिर पड़ा, फिर दूसरे शॉट में अरुणा ईरानी ने मुझे थप्पड़ मारा और मैं जमीन पर गिर पड़ा। तीसरी बार भी ऐसा ही हुआ।’

The Kapil Sharma Show: द कपिल शर्मा शो में पति अजय देवगन की ऐसी मिमिक्री देख काजोल का हंस-हंसकर हुआ बुरा हाल

थप्पड़ खाकर इंडस्ट्री छोड़ना चाहते थे शक्ति

उन्होंने शेयर किया कि उन थप्पड़ों की शूटिंग के बाद, वह अपने करियर के बारे में चिंतित थे और दिवंगत एक्टर कादर खान से अनुरोध किया कि वह उनकी वापसी की टिकट बुक करें क्योंकि वह फिल्म का हिस्सा नहीं बनना चाहते थे। उन्होंने कहा, ‘इससे गुजरते हुए मैं यह सोचकर चिंतित हो गया कि मेरा करियर खत्म हो गया है। के. बापैया फिल्म का निर्देशन कर रहे थे और कादर खान भी फिल्म का हिस्सा थे। मैं कादर खान के पास गया और उनसे कहा, ‘मैं आपके पैर छूता हूं। कृपया मेरा शाम का टिकट बुक कर लें। मैं इस फिल्म का हिस्सा नहीं बनना चाहता। मेरा करियर खत्म हो गया है और मैंने अभी तक शादी नहीं की है।’

navbharat times -Jhalak Dikhhla Jaa 10: ‘झलक’ ने 2 मिनट में दिखा दी करण जौहर की वो दुनिया, जिसे देख फिल्ममेकर भी न रोक पाए आंसू

तब दिमाग शांत हुआ

शक्ति कपूर एक खलनायक के साथ-साथ एक कॉमेडियन की भूमिका निभाई है। उन्होंने शेयर किया कि यह एक्शन निर्देशक वीरू देवगन थे जिन्होंने उन्हें इंडस्ट्री में बने रहने और काम करने की सलाह दी क्योंकि कोई भी रोल छोटा या बड़ा नहीं होता है। हर कोई जो दर्शकों का मनोरंजन करता है वह हीरो है। उन्होंने कपिल से कहा, ‘फिर वीरू देवगन जो कि फिल्म में फाइट मास्टर थे, मुझे एक तरफ ले गए और कहा कि मैंने यह फिल्म देखी है और अगर तुम्हें थप्पड़ खाने हैं तो थप्पड़ खाओ, लेकिन छोड़ो मत।’

लोगों पर छाप छोड़ा तो हीरो बन गए…

उन्होंने आगे कहा, ‘हर कोई हीरो बनना चाहता है और मेरा भी यही सपना था। मैंने हीरो के रूप में ज़ख्मी इंसान किया था लेकिन दुर्भाग्य से फिल्म अच्छी नहीं चली। अगर कोई कॉमेडी करने में सफल होता है तो वह हीरो है और अगर कोई एक निगेटिव कैरेक्टर के साथ प्रभाव छोड़ने में सफल होता है तो वह एक हीरो ही होता है।’