कसाब को भी इतनी सुरक्षा नहीं थी, ‘बागी’ विधायकों की ‘कड़ी सुरक्षा’ पर आदित्य ठाकरे ने उठाए सवाल

0
74

कसाब को भी इतनी सुरक्षा नहीं थी, ‘बागी’ विधायकों की ‘कड़ी सुरक्षा’ पर आदित्य ठाकरे ने उठाए सवाल

मुंबई: शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे (Aditya Thackeray) ने रविवार को महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) के नेतृत्व वाली सरकार पर निशाना साधते हुए बागी विधायकों को कड़ी सुरक्षा प्रदान करने पर सवाल उठाए। शिंदे के समर्थक बागी विधायक रविवार को विशेष बसों के जरिये पास के लग्जरी होटल से विधान भवन परिसर पहुंचे। आदित्य ने कहा, कसाब को भी इतनी सुरक्षा नहीं दी गई थी। हमने मुंबई (Mumbai) में ऐसी सुरक्षा पहले कभी नहीं देखी। आप क्यों डरे हुए हैं? क्या कोई भाग जाएगा? इतना डर क्यों है? पाकिस्तानी आतंकवादी मोहम्मद अजमल कसाब को 26 नवंबर 2008 को मुंबई में हुए हमलों के दौरान जिंदा पकड़ा गया था और पुणे की येरवदा जेल में उसे फांसी दी गई थी।

महाराष्ट्र (Maharashtra) में चार दिन पहले बनी शिवसेना (शिंदे गुट) और बीजेपी की गठबंधन सरकार को सोमवार को विधानसभा सत्र के दौरान विश्वास मत का सामना करना है। शिंदे को समर्थन देने वाले शिवसेना (Shivsena) के बागी विधायक शनिवार शाम गोवा से मुंबई लौट आए। उन्हें दक्षिण मुंबई के एक होटल में रखा गया है, जो विधान भवन के पास स्थित है।

आदित्य समेत 16 MLA को अयोग्य घोषित करने की मांग
स्पीकर चुनाव जीतने के बाद शिंदे गुट ने उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाले विधायकों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। दोनों ही गुटों ने शिवसेना विधायकों के लिए विप जारी कर चुनाव में वोट डालने को कहा था। अब शिंदे गुट ने आदित्य ठाकरे समेत शिवसेना के 16 विधायकों को अयोग्य करार देने की मांग की है। शिंदे गुट के चीफ विप भारत गोगावाले ने नए स्पीकर राहुल नार्वेकर को पत्र सौंपा है। कहा गया है कि 16 विधायकों ने विप का उल्लंघन किया है, इसलिए इनकी सदस्यता रद्द हो।

वहीं, उद्धव के नेतृत्व वाले गुट ने डिप्टी स्पीकर नरहरि जिरवाल को पत्र सौंपा और कहा कि कुछ विधायकों ने पार्टी के निर्देशों का उल्लंघन किया है। शिवसेना के सदन में कुल 55 विधायक हैं। इनमें से 39 विधायक शिंदे के साथ हैं और उन्होंने बीजेपी के राहुल नार्वेकर के पक्ष में वोट किया।

एकनाथ शिंदे ने पहली अग्निपरीक्षा पार कर ली
महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने रविवार को विधानसभा में पहली अग्निपरीक्षा पार कर ली। बीजेपी के विधायक राहुल नार्वेकर को महाराष्ट्र विधानसभा का अध्यक्ष चुन लिया गया। नार्वेकर को 164 वोट मिले और उन्होंने उद्धव ठाकरे गुट के शिवसेना उम्मीदवार राजन साल्वी को हराया जिन्हें 107 वोट मिले। महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि नार्वेकर देश में अब तक के सबसे युवा विधानसभा अध्यक्ष हैं।

अब माना जा रहा है कि चार जुलाई को शिंदे सरकार के लिए बहुमत साबित करना आसान रहेगा। वोटिंग के दौरान 12 विधायक मौजूद नहीं रहे। फडणवीस ने कहा, ‘164 वोटों के साथ स्पीकर का चुनाव जीता क्योंकि 2 विधायक बीमार होने के कारण नहीं आ सके। विश्वास मत में हम 166 वोटों के साथ बहुमत साबित करेंगे।’

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News