कन्हैयालाल के बेटे के दिल में गुस्सा और दहशत… मैं अब उस दुकान पर कभी नहीं जाऊंगा…

0
124

कन्हैयालाल के बेटे के दिल में गुस्सा और दहशत… मैं अब उस दुकान पर कभी नहीं जाऊंगा…

उदयपुर : राजस्थान के उदयपुर में टेलर कन्हैयालाल की बेरहमी से हुई हत्या के बाद बुधवार अंतिम यात्रा निकाली गई। इस दौरान कर्फ्यू से घिरे शहर में अचानक जनसैलाब उमड़ पड़ा। लोग इस हत्याकांड से गमगीन दिखे। वहीं शहर के सेक्टर -14 में कन्हैया लाल के अंतिम संस्कार में शामिल हुए हजारों लोगों ने नारों से इलाके को गुंजायेमान कर दिया। लोग यहां उत्साह से नारेबाजी करते दिखे, ‘कन्हैया हम शर्मिंदा हैं, तेरे क़तिल ज़िंदा हैं’ और ‘भारत माता की जय’ । इस अंतिम यात्रा के दौरान जहां सड़कों पर भारी भीड़ थी। वहीं कॉलोनी की छतों पर, बालकनियों – खिड़कियों पर लोग भावुक होकर इस मंजर को देख रहे थे। उदयपुर के अशोक नगर शमशान घाट पर कन्हैयालाल का अंतिम संस्कार हुआ। इस दौरान बड़े बेटे तरुण ने मुखाग्नि दी और छोटे बेटे यश ने भी नम आंखों से पिता को अंतिम विदाई दी।

फिर से उस जगह पर जाने की कोई इच्छा नहीं….
पिता को विदाई देने के बाद के बाद मीडिया से बात करते वक्त कन्हैयालाल के छोटे बेटे यश ने जो बात मीडिया से की, वो उनके दर्द को साफ तौर पर बयान कर रहा था। 18 वर्षीय यश ने कहा कि मालदा स्ट्रीट के पास भूत महल इलाके में जहां पिता की दुकान थी, वो कभी भी वहां नहीं जाएंगे। यश ने कहा कि “मेरे पिता उस दुकान को चलाते थे… मेरी फिर से उस जगह पर जाने की कोई इच्छा नहीं है। यह बंद रहेगा”। मिली जानकारी के अनुसार हत्याकांड के बाद टेलर कन्हैयलाल की दुकान ‘सुप्रीम टेलर्स’ को पुलिस ने जांच के घेर में लेते हुए अभी सील कर रखा है।

उदयपुर हत्याकांड: आज राजस्थान बंद का आह्वान, जयपुर में व्यापार महासंघ ने किया बाजार बंद का ऐलान

पुलिस पर लगाया लापरवाही का आरोप
कन्हैयालाल के दोनों बेटों तरुण और यश ने उदयपुर पुलिस पर बड़ी लापरवाही का आरोप भी लगाया है। उन्होंने कहा कि अगर हमारे पिता की सुरक्षा दो दिन के बाद हटाई नहीं गई होती तो वो आज हमारे बीच जिंदा होते।

बेटे बोले- हत्यारों को दी जाए फांसी
कन्हैया के बेटों ने एक चैनल से बातचीत के दौरान बताया कि पापा ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर की थी। इसके बाद हमारे पड़ोसी नाजिम ने शिकायत दर्ज करवाई। इस मामले में हमें 24 घंटे में ही जमानत मिल गई थी और समझौता भी हो गया। प्रशासन ने हमें कुछ दिन दुकान बंद रखने को कहा, जिसका हमने पालन किया। पापा को किसी ने धमकी दी तो हमने पुलिस सुरक्षा मांगी।

navbharat times -उदयपुर हत्याकांड: कन्हैयालाल के आश्रित परिवार को ₹50 लाख की आर्थिक सहायता, आज परिजनों से मिलने जाएंगे गहलोत

सुरक्षा हमें दी गई लेकिन, सिर्फ दो दिन के लिए। अगर पुलिस सुरक्षा मिली रहती तो आज पापा हमारे बीच होते। घर में कमाने वाले सिर्फ वही थे। हम दोनों अभी कॉलेज में पढ़ते हैं। हमारी सरकार से मांग है कि हत्यारों को फांसी दी जाए। हमें इससे कम सजा मंजूर नहीं है।

कन्हैयालाल के हत्या करने वाले रियाज के रिश्तेदार भी शर्मिंदा, सुनिये उन्होंने क्या कहा

राजस्थान की और समाचार देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Rajasthan News