ईट राइट चैलेंज: खान-पान की दुकानों की रेटिंग कर रही है टीम , 40 दुकानों को मिला हाईजिन रेटिंग का दर्जा

91

ईट राइट चैलेंज: खान-पान की दुकानों की रेटिंग कर रही है टीम , 40 दुकानों को मिला हाईजिन रेटिंग का दर्जा

शहर के कई प्रतिष्ठानों के कारखानें इतने साफ-सुथरे और आधुनिक मशीनों के उपयोग करते हुए मिलेंगे, यह बिरले शहर में ही देखने का मिलता है….

इंदौर। स्वच्छता में पंच, सेवन स्टार रेटिंग की उम्मीदों के बीच अब मालवा के स्वादिष्ट खान-पान को भी शुद्धता रेटिंग की कसौटी पर कसा जा रहा है। भारतीय खाद्य मानक ब्यूरो की एक टीम ईट राइट चैलेंज के लिए शहर में खान-पान की दुकानों की रेटिंग कर रही है। अब तक 40 दुकानों को हाईजिन रेटिंग के तहत प्रमाणित किया जा चुका है। टीम के सदस्य दुकानों की स्वच्छता और देखकर तो प्रभावित हो रहे हैं।

दुकान पर रखे उत्पादों के निर्माण स्थल की हाईजिन मानकों की कसौटी पर भी खरा उतरने पर चकित है। शहर के कई प्रतिष्ठानों के कारखानें इतने साफ-सुथरे और आधुनिक मशीनों के उपयोग करते हुए मिलेंगे, यह बिरले शहर में ही देखने का मिलता है।

शहर में मिठाई-नमकीन ही नहीं, कचौरी-समोसा- जलेबी पोहा की दुकानों को भी शुद्ध व गुणवत्ता वाले खाद्य मानकों पर तौला जा रहा है। इसके लिए तय कुछ बिंदुओं पर दुकानों की स्थिति देखी जा रही है। उसके अनुसार मार्किंग करके स्टार रेटिंग दी जा रही है। अपर कलेक्टर अभय बेडेकर के अनुसार इंदौर को एफएसएसआइ ने राइट टू इट चैलेंज के लिए चुना है। इसके तहत शहर में पहले अभियान चलाकर सभी खान पान की प्रसिद्ध दुकानों, बाजारों और ठिओं को जागरूक किया गया।

इन लोगों की खाद्य सामग्री की गुणवत्ता हाईजिन मानकों पर परखी गई। इसके बाद इन्हें इसे नियमित बनाए रखने के लिए कहा गया। बताया गया, एफएसएसआई की टीम आपकी दुकानों और बनाने के स्थान का ऑडिट करेगा। हाल ही में दुकानों के ऑडिट किए गए और कुछ प्रतिष्ठानों की फैक्ट्रियां भी देखी गई।

अफसरों के अनुसार मालवा के खान-पान का स्वाद ही स्वादिष्ट नहीं है। यह निर्माण गुणवत्ता के मानकों पर भी खरे उतर रहे हैं। अब तक 50 से ज्यादा दुकानों और इन पर मिलने वाले उत्पादों की रेटिंग का काम किया गया। इनमें से 40 को रेटिंग भी जारी की जा चुकी है। यह प्रतिष्ठान छप्पन दुकान, सराफा, महूनाका, पलासिया, मालगंज, राजबाड़ा क्षेत्रों में हैं।

यह होगा फायदा

खाद्य सुरक्षा अधिकारी धर्मेन्द्र सोनी के अनुसार इट राईट बैलेंज के तहत हाईजिन रेटिंग देने का उद्देश्य शहर के खान-पान को शुद्धता और गुणवत्ता की कसौटी पर जांचना है। वहीं, इनके बनाने के तरीके, स्थान व प्रिपेरेशन को देखा जा रहा है। बेचने के स्थान की स्वच्छता और रखरखाव की जांच भी इसका हिस्सा है। अब तक 40 से ज्यादा प्रतिष्ठानों का हाईजिन रेटिंग ऑडिट कर प्रमाणिकरण हो चुका है।

इस तरह कर रहे काम

-इट राइट चैंलेज के लिए अलग-अलग मोर्चे पर काम चल रहा है। इसके लिए खाद्य सुरक्षा मानकों पर शहर में काम किया जा रहा है।

-दुकानों को हाईजिन रेटिंग

-क्लीन फुड स्ट्रीट

– स्वच्छ भोग क्षेत्र।

– हाईजिन कैंपस, स्कूल और अन्य प्रमाणिकरण



उमध्यप्रदेश की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Madhya Pradesh News