इस वर्ष आवास बाजार में ब्रांडेड डेवलपर की हिस्सेदारी 50 प्रतिशत से अधिक होगी: एनारॉक

0
73

इस वर्ष आवास बाजार में ब्रांडेड डेवलपर की हिस्सेदारी 50 प्रतिशत से अधिक होगी: एनारॉक

नयी दिल्ली, 11 दिसंबर (भाषा) देश के सात प्रमुख शहरों में इस साल 3.6 लाख आवासीय इकाइयों की अनुमानित कुल बिक्री में ब्रांडेड रियल एस्टेट डेवलपर की हिस्सेदारी 50 प्रतिशत से अधिक रहने का अनुमान है। संपत्ति सलाहकार कंपनी एनारॉक ने यह बात कही है।

एनारॉक ने 2022 में भारत के प्राथमिक आवासीय बाजार के आंकड़े एकत्रित किए हैं। इनके हवाले से एनारॉक के चेयरमैन अनुज पुरी ने कहा कि इस वर्ष आवासीय इकाइयों की बिक्री सात शहरों में 3.6 लाख इकाई से अधिक रहने का अनुमान है जो पहले के रिकॉर्ड, 2014 के 3.43 लाख इकाई के आंकड़े से अधिक है।

ये सात शहर हैं दिल्ली-एनसीआर, मुंबई महानगर क्षेत्र, चेन्नई, कोलकाता, बेंगलुरु , हैदराबाद और पुणे।

पुरी ने कहा कि पहली श्रेणी के डेवलपर या रियल एस्टेट कंपनियों ने 2022 में बाजार में और अधिक हिस्सेदारी हासिल की है।

जनवरी-सितंबर 2022 के बीच 2.65 लाख इकाइयों की पेशकश की गई जिनमें से करीब 60 प्रतिशत हिस्सा ब्रांडेड डेवलपर का है। पुरी के मुताबिक इस वर्ष के पहले नौ महीनों में बेची गई 2.73 लाख इकाइयों में से 55 प्रतिशत से अधिक इन ब्रांडेड रियल एस्टेट कंपनियों की थीं। मौजूदा तिमाही में भी यही चलन जारी है।

एनारॉक की रिपोर्ट में बताया गया है कि ब्रांडेड या ग्रेड ए डेवलपर में सूचीबद्ध कंपनियां, वे डेवलपर जो एक दशक या अधिक समय से परिचालन कर रहे हैं, बड़े समूहों की नई गठित इकाइयां और वे कंपनियां शामिल हैं जिनके निर्माण बड़े क्षेत्रफल में चल रहे हैं।

बीते कुछ वर्षों से, रियल एस्टेट क्षेत्र में मांग का रूझान बड़े, ब्रांडेड और भरोसेमंद डेवलपर की ओर है जिनकी आवासीय परियोजनाएं पूरी हुई हैं। 2021-22 में लगभग सभी सूचीबद्ध रियल एस्टेट कंपनियों ने अच्छी वृद्धि दर्ज की और चालू वित्त वर्ष की पहली दो तिमाहियों में भी यह चलन रहा।

वहीं, 2022-23 में सूचीबद्ध इकाइयों में प्रेस्टीज एस्टेट्स, मैक्रोटेक डेवलपर्स (लोधा समूह), गोदरेज प्रॉपर्टीज और डीएलफ बिक्री बुकिंग के मामले में सबसे आगे हैं। गैर-सूचीबद्ध कंपनियों में, एम3एम समूह, सिग्नेचर ग्लोबल और गौड़ समूह ने दिल्ली-एनसीआर के बाजार में अच्छी बिक्री की है।

पुरी ने कहा, ‘‘रियल एस्टेट क्षेत्र के लिए 2022 शानदार वर्ष रहा है विशेषकर आवासीय श्रेणी के मामले में।’’ उन्होंने कहा कि सात प्रमुख शहरों के अलावा दूसरी और तीसरी श्रेणी के शहरों में भी घरों की मांग मजबूत रही है। मजबूत मांग के पीछे उन्होंने जो वजह बताई वह है रोजगार में वृद्धि, आवास ऋण पर कम ब्याज दर और अपना घर होने की बढ़ती इच्छा।

एनारॉक ने कहा कि मौजूदा आवासीय बिक्री और चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के आंकड़ों के मद्देनजर यह कहा जा सकता है कि वर्ष 2022 शीर्ष सात शहरों में बिक्री के 2014 के सर्वकालिक उच्च रिकॉर्ड को तोड़ देगा। कंपनी ने अनुमान जताया कि 2022 में इन सात शहरों में कुल बिक्री 3.6 लाख इकाई से अधिक रहेगी। 2014 में कुल 3.43 लाख इकाइयां बिकी थीं जो एक रिकॉर्ड है।

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News